आज़ादी के संघर्ष में मुहम्मद अली जौहर का योगदान

रामपुर

 26-01-2018 09:11 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

मुहम्मद अली जौहर का जन्म रामपुर में हुआ था। वे एक बहुमुखी पुरुष थे- कवि, देशभक्त, पत्रकार, वक्ता और राष्ट्रीय प्रसिद्धि के राजनीतिक नेता। भारत की आज़ादी के लिए वे कई बार जेल भी गए। महात्मा गाँधी के प्रोत्साहन के साथ उन्होंने भारत में ख़िलाफ़त आन्दोलन की शुरुआत की। और जहाँ तक बात है उनकी काव्यात्मक प्रतिभा की, तो वे मशहूर उर्दू शायर दाग़ देहलवी के कवि शिष्य थे।
रामपुर में संरक्षित चार बैत की काव्यात्मक संस्कृति के बीच पले बड़े मुहम्मद अली जौहर शब्दों के कारीगर थे। चार बैत 17वीं शताब्दी में मध्य-पूर्व में उत्पन्न हुआ, जहां एक आदिवासी सरदार एक प्रतिभाशाली सेना को गीतात्मक ललकार (चुनौती) लगाता था। एक तरह से यह कवियों के बीच रोमांस से राजनीति तक के मुद्दों पर गठित एक त्वरित हाज़िर जवाबी की प्रतियोगिता होती थी। चार बैत 1870 के दशक में रोहिल्ला के साथ अफगानिस्तान से भारत आया और रामपुर के दरबारों में अपना केंद्र स्थापित किया।
इस कवि परम्परा और अलीगढ़ विश्वविद्यालय (जो भारत के युवा मुसलमानों के लिए बौद्धिक वाद-विवाद का केंद्र बन चुका था) में निखरे मोहम्मद अली जौहर ने अब अंग्रेजी भाषा पर बेमिसाल पकड़ के साथ अंग्रेजी में तीक्ष्ण, उत्तेजक और शक्तिशाली भाषण और लेखन जारी रखा। एच.जी. वेल्स ने उनके बारे में लिखा: "मुहम्मद अली को मैकॉले की कलम, बर्क की जुबान और नेपोलियन का ह्रदय प्राप्त था”।
रद्द-ए-सहर ताकत-ए-परवाज़ ही जब खो चुके, फिर हुआ क्या गर हुए भी पर खुले। चाक कर सीने को, पहलू चीर डाल, यूंही कुछ हाल-ए-दिल-ए-मुज़तिर खुले। लो वो आ पहुंचा जुनून का काफ़िला, पाँव ज़ख़्मी, खाख मुंहपर, सर खुले। अब तो किश्ती के मुवाफिक है हवा, ना ख़ुदा, क्या देर है, लंगर खुले। ये नज़र-बंदी तो निकली रद्द-ए-सहर, दीदाहे होश अब जा कर खुले। फैज़ से तेरे ही, ऐ क़ैद-ए-फिरंग, बाल-ओ-पर निकले, क़फ़स के दर खुले। जीतेजी तो कुछ ना दिखलाया मगर, मर के जौहर आपके जौहर खुले।
प्रस्तुत चित्र मुहम्मद अली जौहर के जनाज़े का है। जौहर को जेरूसलम में दफनाया गया था क्योंकि उन्होंने उस भारत में दफन होने से इंकार कर दिया था जहाँ ब्रिटिश ध्वज लहरा रहा हो।



RECENT POST

  • इंडो-ग्रीक इतिहास का एक महत्वपूर्ण बिंदु है उनके द्वारा बनाए गये सिक्के
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     03-06-2020 05:30 PM


  • क्यों देखा जा रहा है, कीड़ों में भविष्य का भोजन
    तितलियाँ व कीड़े

     02-06-2020 10:55 AM


  • क्या है, अधिस्थगन अवधि?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     01-06-2020 11:30 AM


  • असंभव सपनों की उड़ान है, वन स्माल स्टेप (One Small Step)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 12:00 PM


  • एक बीते युग को जीवंत करती हैं, एडविन लॉर्ड वीक्स की चित्रकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:20 AM


  • भारत में पालतू कुत्तों के रखरखाव लिए आज भी की जाती है सेवकों की नियुक्ति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:25 AM


  • भारत और तुर्की का अनूठा रिश्ता
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 09:40 AM


  • क्या है, हिन्दू धर्म साहित्य में श्रुति और स्मृति?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 01:45 PM


  • शरीर की मौसम संबंधी जरूरतों को पूरा करते हैं, मौसमी फल और सब्जियां
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • संस्कृति, इतिहास और भौगोलिक विविधता के प्रचारक हैं कपड़े
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 09:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.