भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव

रामपुर

 11-05-2022 09:05 PM
जलवायु व ऋतु

जलवायु परिवर्तन हमारी ऊर्जा उत्पादन क्षमता और ऊर्जा जरूरतों को बदल रहा है।उदाहरण के लिए, जल चक्र में परिवर्तन का जलविद्युत पर प्रभाव पड़ता है, और गर्म तापमान गर्मियों में शीतलन के लिए ऊर्जा की मांग को बढ़ाता है, जबकि सर्दियों में तापक की मांग को कम करता है।तापमान, वर्षा, समुद्र के स्तर में परिवर्तन, और चरम घटनाओं की आवृत्ति और गंभीरता यह प्रभावित करेगा कि कितनी ऊर्जा का उत्पादन, वितरण और उपभोग होता है। विश्व स्तर पर, ऊर्जा का उपयोग मानव गतिविधियों से ग्रीनहाउस गैस (Greenhouse gas) उत्सर्जन के अब तक के सबसे बड़े स्रोत का प्रतिनिधित्व करता है।वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का लगभग दो तिहाई तापक, बिजली, परिवहनऔर उद्योग के लिए उपयोग की जाने वाली ऊर्जा के लिए जीवाश्म ईंधन को जलाने से जुड़ा है।जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए अब तक के वैश्विक प्रयास 2015 में पेरिस समझौते (Paris Agreement) में परिणत हुए।
समझौते के माध्यम से, 195 देशों ने पहली बार सार्वभौमिक और कानूनी रूप से बाध्यकारी, वैश्विक जलवायु समझौते को अपनाया। समझौते का लक्ष्य वैश्विक औसत तापमान वृद्धि को 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे तक सीमित करना है, जबकि वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने का लक्ष्य महत्वाकांक्षी है और वैश्विक ऊर्जा उत्पादन और खपत में बड़े बदलाव को लाए बिना इसे प्राप्त नहीं किया जा सकता है।ग्लोबल वार्मिंग को सीमित करने में सफल होने के लिए, दुनिया को तत्काल ऊर्जा का कुशलतापूर्वक उपयोग करने की आवश्यकता है, जबकि चीजों को स्थानांतरित करने, गर्म करने और ठंडा करने के लिए स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों को अपनाते हुए इस पहल में भागीदारी लेने की आवश्यकता है।वहीं यूरोपीय संघ(European Union) की नीतियां इस ऊर्जा संक्रमण को सुगम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।वैश्विक जलवायु कार्यावली का समर्थन करने के लिए, यूरोपीय संघ ने 2020 के लिए बाध्यकारी जलवायु और ऊर्जा लक्ष्यों को अपनाया है और 2030 के लिए प्रस्तावित लक्ष्यों में कम कार्बन उत्सर्जन वाली अर्थव्यवस्था में परिवर्तन करने और 2050 तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को 80-95% तक कम करने के अपने समग्र प्रयासों के हिस्से के रूप में अपनाया है। 2020 के लिए जलवायु और ऊर्जा लक्ष्यों के पहले समूह में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में 20% की कटौती (1990 के स्तर की तुलना में), नवीकरणीय ऊर्जा से आने वाली ऊर्जा खपत का 20% और ऊर्जा दक्षता में 20% सुधार शामिल है।
वहीं इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (Intergovernmental Panel on Climate Change) के नवीनतम शोध के अनुसार, जलवायु परिवर्तन के सबसे बुरे प्रभावों से बचने के लिए परिवर्तन को आवश्यक बनाने के लिए हमारे पास 11 साल से भी कम समय है।1.5 डिग्री सेल्सियस से ऊपर ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon dioxide) के स्तर को 2030 तक 45% तक कम करना होगा, दूसरे शब्दों में, वह सीमा जिस पर जलवायु परिवर्तन के सबसे भयवी प्रभावों को टाला जा सकता है।अधिकांश ऊर्जा जो हम उपभोग करते हैं वह जीवाश्म ईंधन से उत्पन्न होती है जिसमें कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस शामिल हैं, जिन्हें बनने में हजारों साल लगते हैं। ऊर्जा के इन स्रोतों का पुन: उपयोग या नवीनीकरण नहीं किया जा सकता है और ये प्रकृति में सीमित हैं।हमारी ऊर्जा मांगों को पूरा करने के लिए जीवाश्म ईंधन पर हमारी निर्भरता कई दशकों में बढ़ी है। औद्योगिक क्रांति के बाद से, जीवाश्म ईंधन विश्व स्तर पर ऊर्जा का एक प्रमुख स्रोत बन गया है। आज भारत की ऊर्जा मांग का 91.04 प्रतिशत जीवाश्म ईंधन (2019) से पूरा किया जाता है।लेकिन जीवाश्म ईंधन के जलने से भारी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य हानिकारक ग्रीनहाउस गैसें निकलती हैं, इस प्रकार यह जलवायु परिवर्तन और ग्रीनहाउस प्रभाव में एक बड़ा योगदानकर्ता बना हुआ है।2018 तक, वैश्विक ऊर्जा से संबंधित कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन 1.7% बढ़कर 33.1 गीगाटन कार्बन डाइऑक्साइड के ऐतिहासिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। जैसे-जैसे मानवीय गतिविधियों से ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन बढ़ता है,वे ग्रह को काफी गरम करता जाता है।इसके अलावा, क्योंकि इन ग्रीनहाउस गैसों के निर्मुक्त होने के बाद दसियों और सैकड़ों वर्षों तक वातावरण में रहने की क्षमता होती है, जलवायु पर इसका प्रभाव लंबे समय तक रहता है, जो वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों को प्रभावित करता है। जैसे कि भारत गरीबी को कम करने और आर्थिक विकास के लिए आवश्यक ऊर्जा मांगों को पूरा करने में मदद करने के लिए सुलभ और सस्ती ऊर्जा की आपूर्ति की कठिन चुनौती का सामना कर रहा है। यह कार्य जलवायु परिवर्तन के कारण बढ़ती वैश्विक पर्यावरणीय चेतना और पर्यावरण और सामाजिक आर्थिक क्षेत्र दोनों में इसके प्रभावों के कारण बढ़ गया है।भारत की ऊर्जा चुनौतियां घरेलू क्षेत्र में फैली हुई हैं, जिसमें 600 मिलियन से अधिक लोगों के पास आधुनिक खाना पकाने के ईंधन की कमी है, इसके बजाय, कोयला, लकड़ी का कोयला, लकड़ी और गोबर जैसे पारंपरिक ईंधन में मुख्य रूप से सामर्थ्य और पहुंच के कारण ग्रामीण ऊर्जा आवश्यकताओं का 80-90% हिस्सा शामिल है।भारत के तीन चौथाई ग्रामीण और एक चौथाई शहरी परिवार घरेलू जरूरतों के लिए जैव ईंधन पर निर्भर हैं, जिसका उपयोग अक्षम रूप से किया जाता है और यह बड़ी मात्रा में मीथेन (Methane) गैस का उत्सर्जन करता है जिससे विकासशील देशों में प्रति वर्ष 25 लाख से अधिक महिलाओं और बच्चों की मौत आभ्यंतरिक वायु प्रदूषण के परिणामस्वरूप होती है।उदाहरण के लिए ईंधन की लकड़ी के उपयोग से पर्यावरणीय को अन्य प्रभाव होते हैं, क्योंकि यह जंगलों और पारिस्थितिक तंत्र पर दबाव की अधिक मात्रा के कारण होता है। यह अनुमान लगाया गया है कि वन पुनर्जनन के लिए 86 मिलियन टन लकड़ी की आवश्यकता होती है, हालांकि भारत की ग्रामीण आबादी 220 मिलियन टन से अधिक की खपत कर चुकी है।
यह अनुमान है कि भविष्य में कुल और प्रति व्यक्ति उत्सर्जन में उल्लेखनीय वृद्धि होगी, क्योंकि यह बढ़ती हुई जनसंख्या की मांगों को पूरा करने के लिए एक प्रतिक्रिया है।वर्तमान में भारत का बिजली उत्पादन विभाग अपने कुल ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के 38% के लिए जवाबदेह है, और यह अनुमान है कि 2030 तक 3000 मिलियन टन से अधिक कार्बन उत्सर्जन किए जाने की संभावना है, क्योंकि ऊर्जा की मांग के दोगुने हो जाने की वजह से भारत में कोयले का उपयोग 2030 तक तीन गुना होने का अनुमान है। कार्बन युक्त ईंधन में वृद्धि का असर भारत के स्वास्थ्य क्षेत्र पर भी पड़ेगा। कोयले का दहन न केवल ग्लोबल वार्मिंग में योगदान देता है, बल्कि सल्फर डाइऑक्साइड (Sulphur dioxide) उत्सर्जन, कणिकीय पदार्थ और कोहरे के कारण अम्लीय वर्षा प्रदूषण में भी योगदान देता है, जो शहरी और ग्रामीण दोनों समुदायों के लिए एक गंभीर खतरा है। यह स्पष्ट है कि ग्रामीण और शहरी व्यवस्था के लिए भारत की ऊर्जा स्थिति को अपर्याप्त आपूर्ति और आयात और कार्बन गहन स्रोतों पर निर्भर होने के कारण अधिक ऊर्जा की आवश्यकता है जो अक्षम और पर्यावरणीय रूप से अस्थिर हैं। इन सभी चुनौतियों से लड़ने के लिए भारत जीवाश्म ईंधन के लिए स्थायी ऊर्जा विकल्पों का समर्थन करके और जलवायु परिवर्तन नीतियों के माध्यम से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को अपनाकर जलवायु परिवर्तन के बारे में जागरूक होने के साथ-साथ ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करने का प्रयास कर रहा है।ऊर्जा की मांग और आपूर्ति के बीच भारत का संघर्ष जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से तेज हो गया है, जहां 4 डिग्री की वृद्धि के परिणामस्वरूप सकल घरेलू उत्पाद में 2100 तक 3-9% की कमी होने की उम्मीद है, वहीं ऊर्जा सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन दोनों ही अक्षय ऊर्जा क्षेत्र में नीतियों, विनियमों और निवेशों के कार्यान्वयन के लिए प्रमुख प्रेरक शक्ति रहे हैं।अक्षय ऊर्जा भारत के लिए ऊर्जा सुरक्षा और मांगदोनों के समाधान के हिस्से के रूप में अपनी उपस्थिति के कारण प्रत्येक ऊर्जा संबंधित चुनौतियों में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है, और पर्यावरण की दृष्टि से जीवाश्म ईंधन पर भारत की निर्भरता को कम करके एक महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है। इसके साथ ही यह ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कमी और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में सहायता करने में भी मदद करती है।
साथ ही पर्यावरण को बनाए रखने और प्रभावी नीतियां स्थापित करने का भारत का उद्देश्य संविधान में अनुच्छेद 48-ए में निहित है, जिसमें कहा गया है कि देश अपने जंगलों और वन्यजीवों को बनाए रखने के साथ-साथ पर्यावरण की रक्षा, संरक्षण और समृद्ध करने का प्रयास करेगा।इसने भारत को 1970 के दशक की शुरुआत में अक्षय ऊर्जा कार्यक्रम को तैयार करने वाले पहले देशों में से एक के रूप में उत्प्रेरित किया। वहीं जब इस बात का अहसास हुआ कि सूर्य के प्रकाश, हवा और जैव ईंधन जैसे नवीकरणीय ऊर्जा पर्यावरण के अनुकूल ऊर्जा की एक अटूट आपूर्ति प्रदान करने में सक्षम हैं, तब प्रौद्योगिकियों के लिए अक्षय ऊर्जा को 1981 में ऊर्जा के अतिरिक्त स्रोतों के लिए आयोग किया जाना शुरू गया।अगले दशक में आयोग ने 1992 में गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोत मंत्रालय को 2006 में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के रूप में बदलना शुरू कर दिया, जो दुनिया में अपनी तरह का एकमात्र है।भारत का अक्षय ऊर्जा क्षेत्र दुनिया में पांचवें स्थान पर है,2010 में इसके ऊर्जा क्षेत्र का 9% नवीकरणीय ऊर्जा से प्राप्त हुआ है, जो वर्तमान में 11% है।भारतीय अक्षय ऊर्जा विभाग संस्था को 1987 में अक्षय ऊर्जा पहलों को निधि देने के साधन के रूप में बनाया गया था, और आज नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय और उसके राज्य सहयोगियों के माध्यम से, अक्षय ऊर्जा को प्रोत्साहन और निजी क्षेत्र में सक्रिय भागीदारी ने अक्षय ऊर्जा क्षेत्र को समृद्ध बनाया है।नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के अक्षय ऊर्जा के उपयोग को बढ़ाने के लिए चार मुख्य उद्देश्य हैं: पहला - पावर ग्रिड में अपनी भागीदारी को बढ़ावा देना है
दूसरा - उद्योगों के साथ-साथ शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों की ऊर्जा मांगों को पूरा करना है
तीसरा - नई अक्षय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के कार्यान्वयन, बनावट और अनुसंधान को बढ़ावा देना, और अंत में - अक्षय ऊर्जा प्रभाग में एक सशक्त विनिर्माण उद्योग को बनाना शामिल है।
2006 में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के निर्माण के बाद से, भारत 2000 के दशक की शुरुआत से विभिन्न सरकारी प्रशासनों द्वारा विकसित नीतियों और विनियमों के अतिरिक्त अक्षय ऊर्जा क्षमता में 19% संचयी वार्षिक वृद्धि दर को देखा गया है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/39aAaXb
https://bit.ly/3yuj9Ss
https://bit.ly/3w0oK1g

चित्र संदर्भ
1  सोलर ऊर्जा का प्रयोग करते ग्रामीणों को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. कोयला खनन को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. 1956-1976 के औसत की तुलना में 2011 से 2021 तक औसत सतही हवा का तापमान को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. बिजली लाइन को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5. भारत में स्रोत द्वारा ऊर्जा की खपत को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id