भारत में दुनिया में सबसे अधिक एम.बी.ए डिग्री प्राप्तकर्ता हैं, लेकिन फिर भी कई हैं बेरोजगार

रामपुर

 09-05-2022 08:51 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

एम.बी.ए (MBA) की डिग्री तेजी से विश्व स्तर पर अप्रचलित होती जा रही है।वहीं पिछले वर्षों की पसंदीदा एमबीए भर्ती - यानी बैंकिंग (Banking) और वित्त क्षेत्र सहित सभी उद्योगों में एमबीए की रोजगार क्षमता पर सवाल उठाए जा रहे हैं। फिर भी भारत दुनिया के आधे से अधिक एमबीए डिग्री देना जारी रखता है, भले ही भारत में 480+ मिलियन से अधिक के कुल कार्यबल में केवल 13.5 मिलियन निजी क्षेत्र और 23 मिलियन सरकारी क्षेत्र की नौकरियां उपलब्ध हैं। भारत में अधिकांश नौकरियां अनौपचारिक या अनुबंध-रहित हैं,जिसमें एमबीए वालों की आवश्यकता नहीं होती हैं।वहीं एक नवीनतम इंडिया स्किल रिपोर्ट (India Skill Report) के अनुसार, एमबीए की डिग्री होना अब भारत में नौकरी पाने की कुंजी नहीं रही है। दूसरे सबसे अधिक रोजगार योग्य पाठ्यक्रम के रूप में श्रेणीबद्ध होने के बावजूद, एमबीए की डिग्री वाले आधे से भी कम छात्रों (46.59 प्रतिशत) के पास काम पर रखने के लिए पर्याप्त कौशल है।
कई विशेषज्ञ एमबीए पाठ्यक्रमों और महाविद्यालयों में तेजी से वृद्धि को इसकी गुणवत्ता और इस तरह रोजगार में गिरावट के लिए जिम्मेदार ठहराते हैं।उनमें से अधिकांश समाधान के रूप में पाठ्यक्रम के समग्र निरीक्षण की सलाह देते हैं। साथ ही पहले एमबीए कभी छात्रों को उनके संपर्कों के कारण आकर्षित करते थे, लेकिन अब इस प्रकार के संपर्क इंटरनेट (Internet) पर भी उपलब्ध हैं। वहीं डेटा विश्लेषण (Data analytics) आदि जैसे व्यवसाय में एसटीईएम (STEM) से संबंधित कौशल की लोकप्रियता के परिणामस्वरूप, कई इंजीनियरिंग कॉलेजों ने भी प्रबंधन डिग्री प्रदान करना शुरू कर दिया है। BITS द्वारा हाल ही में BITS स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (BITS School of Management) नामक एक संपूर्ण प्रबंधन स्कूल खोला गया है।व्यावसायिक शिक्षा को पाठ्यक्रम के एक प्रमुख घटक के रूप में प्रौद्योगिकी को लाने की आवश्यकता है। गैर-इंजीनियरिंग स्नातकों को प्रौद्योगिकी के साथ सहज बनाने और प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रवृत्तियों का लाभ उठाने में सक्षम होने के लिए व्यावसायिक विद्यालय महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।वैश्विक स्तर पर व्यापार परिदृश्य पर महामारी और इसके प्रभाव के कारण बोर्डरूम (Boardroom) कौशल से परे कौशल का अधिक समर्थन किया गया है। इस नए सामान्य में सफल होने के लिए व्यावसायिक विद्यालय स्नातकों के लिए डिजिटल, संज्ञानात्मक कौशल, उत्कृष्ट सामाजिक और संचार कौशल और लचीलापन के साथ कुशल होना आवश्यक है। साथ ही कौशल आवश्यकता में बदलाव के साथ, शिक्षण स्टाफ को भी प्रवत्ति के साथ चलने के लिए तैयार करने की आवश्यकता होगी।
स्नातक प्रबंधन शिक्षा मास्टर डिग्री प्राप्त करने वाले 20 से 34 वर्ष की आयु के 150 लाख लोगों में से 15.6% (23.4 लाख) भारतीय हैं।जब एमबीए और समकक्ष कोर्स करने वाले छात्रों की बात आती है तो भारत शीर्ष 10 देशों में शामिल है, लेकिन इन पाठ्यक्रमों को चुनने वाली महिलाओं की संख्या वैश्विक और क्षेत्रीय औसत से कम है।ये निष्कर्ष स्नातक प्रबंधन प्रवेश परिषद (जीएमएसी) द्वारा आयोजित विविधता के पहले वैश्विक अध्ययन से आए हैं, जो जीमैट (GMAT) परीक्षा आयोजित करता है। 'प्रतिभा की वैश्विक विविधता प्राप्ति और प्रतिनिधित्व' रिपोर्ट में 69 देशों में इन पाठ्यक्रमों का अनुसरण करने वाले छात्रों को देखा गया।
विश्व स्तर पर, माना जाता है कि 6.1 करोड़ से अधिक छात्रों ने मास्टर डिग्री प्राप्त की है,उनमें से केवल 24% को प्रबंधन में रखा गया है। निरपेक्ष रूप से, GME डिग्रीवाले 20-34 आयु वर्ग के व्यक्तियों की संख्या में भारत केवल चीन (China) से पीछे है। डिग्री प्राप्त करने वाली महिलाओं में भी भारत और चीन शीर्ष पर हैं।ऑनलाइन जीएमई डिग्री हासिल करने वालों की संख्या के मामले में भारत अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है।हालांकि, भारत और चीन में इन डिग्री हासिल करने वाली महिलाओं की उच्च संख्या के बावजूद, ये देश शीर्ष 10 देशों में भी शामिल नहीं हैं, जहां महिला GME डिग्री धारकों का प्रतिशत सबसे अधिक है।भारत इस मीट्रिक पर नेपाल (Nepal), भूटान (Bhutan) और बांग्लादेश (Bangladesh) जैसे दक्षिण एशियाई साथियों से भी पीछे है।रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि भारतीय छात्रों की कुल संख्या में, व्यवसाय में मास्टर कोर्स करने वालों की संख्या बहुत कम है।GME डिग्री धारकों की लगभग सभी आयु श्रेणियों में, भारतीय महिलाएं पुरुषों से पीछे हैं।साथ ही भारतीय अपने वैश्विक समकक्षों की तुलना में इन पाठ्यक्रमों को पहले करना भी पसंद करते हैं।
वहीं भारत के 'ड्रीम फैक्ट्रियों' में 3,200 से कुछ अधिक सीटों के लिए हर साल दो लाख से अधिक छात्र भाग लेते हैं। प्रतिस्पर्धा इतनी कड़ी है कि 99 प्रतिशत कैट (CAT)आंकड़ों वाले भी आईआईएम (IIM) साक्षात्कार के लिए पात्रता में कटौती में शामिल होने में विफल रहते हैं। और टियर 2 या 3 महाविद्यालय से एमबीए की डिग्री से आपको केवल कम लाभ प्रदान होने की संभावना है।शीर्ष महाविद्यालयों में प्रवेश के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा ने अनुशिक्षण स्थलों के उभरते बाजारों को काफीलाभदायक रास्ता दिया है। तो प्रबंधन संस्थानों, पाठ्यक्रमों और छात्रों की भरमार के बावजूद, इस संतृप्त बाजार में एमबीए स्नातकों से काफी लाभ अर्जित किया जाता है।साथ ही यदि आपको लगता है कि एमबीए करने से आप मुख्य कार्यकारी अधिकारी बन जाएंगे तो आप गलत हैं, महाविद्यालय हमें इस रास्ते का मार्गदर्शन करने में मदद तो करता है, लेकिन यह सर्वोच्च स्थान की गारंटी नहीं देता है।यहां तक कि गूगल (Google) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई ने भी छात्रों को आईआईएम से एमबीए करने के इस जुनून के प्रति आगाह किया था।
एमबीए को अक्सर सफलता के गारंटर (Guarantor) के रूप में देखा जाता है, कम से कम जब यह बड़े पैमाने पर वेतन अर्जित करने और किसी कंपनी में शीर्ष स्थान पर पहुंचने की बात आती है। लेकिन यदि देखा जाएं तो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) पर शीर्ष 500 कंपनियों के 2016 के टकसाल विश्लेषण से पता चला है कि 466 कंपनियों के केवल 144 मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पास एमबीए की डिग्री थी। 2017 के एक सर्वेक्षण से पता चला है कि भारत के केवल 28 प्रतिशत मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पास व्यवसाय में मास्टर डिग्री है। हमें यह भी ध्यान देना चाहिए कि 2020 की 'फोर्ब्स बिलियनेयर्स लिस्ट' (Forbes Billionaire List) में पाया गया कि शीर्ष 100 में से केवल 11 के पास एमबीए की डिग्री है।एमबीए पाठ्यक्रमों में कुछ खराबी है, जो अजीम प्रेमजी और मुकेश अंबानी जैसे उद्योगपतियों (निश्चित रूप से विशेषाधिकार प्राप्त छात्रों)द्वारा बीच में ही शीर्ष बिजनेस स्कूलों में अपना पाठ्यक्रम छोड़ दिया गया। यदि एमबीए पाठ्यक्रम वे मूल्य प्रदान करते हैं जो वे वादा करते हैं, तो इतने अधिक छात्र अभी बेरोजगार न होते।समय बदल रहा है, कई नौकरी निर्माता अब एमबीए किए हुए नियोक्ता को चुनने के बजाय विशिष्ट कौशल की तलाश करते हैं।इनमें से कई कॉलेज छात्रों को पुराने और अप्रचलित पाठ्यक्रम भी पढ़ाते हैं जो परिवर्तन की अवस्था के पीछे है।व्यवसाय की गतिशील प्रकृति पर पूरा ध्यान केंद्रित करने के लिए, महाविद्यालय अपने स्वयं के पाठ्यक्रमों में बहुत कम गतिशीलता ला रहे हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3Fn2eD1
https://bit.ly/3LXOUaA
https://bit.ly/3FomsMq
https://bit.ly/3OZgExD
https://bit.ly/3KS43ZC
https://bit.ly/3vRVHNy

चित्र संदर्भ
1. 2018 से कनाडा में भारतीयों का प्रमुख छात्र समूह रहा है। को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. कंप्यूटर विज्ञानं के छात्रों को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. 2010 अपने आर्थिक क्षेत्रों द्वारा भारत में प्रतिशत श्रम रोजगार को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. MBA छात्रों को दर्शाता एक चित्रण (MahaScholar)



RECENT POST

  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id