Post Viewership from Post Date to 04-Jan-2022 (5th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
8793 489 9282

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

रामपुर के निकट आती प्रवासी पक्षी रूडी शेल्डक या ब्राह्मणी बतख का परिचय व् प्रवास वृतांत

रामपुर

 30-12-2021 09:25 AM
पंछीयाँ

रूडी शेल्डक (Ruddy Shelduck) एनाटिडे (Anatidae) परिवार का सदस्य है‚ जिसे भारत में ब्राह्मणी बतख (Brahminy duck) के रूप में जाना जाता है। यह अनोखा और विशिष्ट हंस की तरह दिखने वाला एक बतख है‚ जो 110 से 135 सेमी के पंखों के साथ 58 से 70 सेमी की लंबाई वाला एक विशिष्ट जलपक्षी है। इसमें एक हल्के पीले सिर के साथ नारंगी-भूरे रंग के शरीर के पंख होते हैं और पूंछ तथा उड़ने वाले पंख काले होते हैं‚ जो सफेद पंख-आवरण के विपरीत होते हैं। यह एक प्रवासी पक्षी है‚ जो भारतीय उपमहाद्वीप में सर्दियों के दौरान आते हैं तथा दक्षिणपूर्वी यूरोप (southeastern Europe) और मध्य एशिया (central Asia) में प्रजनन करते है‚ उत्तरी अफ्रीका (North Africa) में इनकी छोटी निवासी आबादी हैं। इसमें एक जोरदार हॉर्निंग कॉल (honking call) भी होता है। ये ज्यादातर अंतर्देशीय जल-निकायों जैसे जलाशयों‚ नदियों तथा कृषि क्षेत्रों में निवास करते हैं‚ इसके अलावा ये अक्सर खारे झीलों के आसपास पाये जाते हैं। कभी-कभी इन्हें जलपक्षी संग्रह से पलायन करते हुए देशी सीमा के बाहर भी उड़ते हुए देखा जाता है। शेल्डक नर और मादा एक स्थायी जोड़ी बंधन बनाते हैं और उनका घोंसला पानी से दूर किसी दरार में या एक चट्टान या पेड़ तथा इसी तरह के किसी स्थान के छेद में हो सकता है। एक बार में मादा लगभग आठ अंडे देती है‚ जिन्हें वह लगभग चार सप्ताह तक पूरी तरह से इनक्यूबेट (incubate) करती है। बच्चों की देखभाल माता-पिता दोनों करते हैं और अंडे सेने के लगभग आठ सप्ताह बाद जब वे उड़ने के योग्य हो जाते हैं तब शेल्डक अपने बच्चों के साथ वहां से चले जाते हैं। मध्य और पूर्वी एशिया में इनकी जनसंख्या या तो स्थिर है या फिर बढ़ रही है‚ लेकिन यूरोप में आम तौर पर इनकी जनसंख्या में गिरावट देखी जा रही है। रूडी शेल्डक‚ शेल्डक जीनस टैडोर्न (genus Tadorna) का सदस्य है‚ जो जंगली पक्षी परिवार एनाटिडे से है। शेल्डक का वर्णन पहली बार 1764 में जर्मन (German) जीव विज्ञानी और वनस्पतिशास्त्री पीटर साइमन पलास (Peter Simon Pallas) द्वारा किया गया था‚ जिन्होंने इसका नाम अनस फेरुगिनिया (Anas ferruginea) रखा था‚ लेकिन बाद में इसे अन्य शेल्डक के साथ जीनस टैडोर्ना में स्थानांतरित कर दिया गया। कुछ अधिकारी इसे दक्षिण अफ़्रीकी शेल्डक “टी. कैना” (T. cana)‚ ऑस्ट्रेलियाई शेल्डक “टी. टैडोर्नोइड्स” (T. tadornoides) और पैराडाइज शेल्डक (Paradise shelduck) “टी. वेरिएगाटा” (T. variegata) के साथ जीनस कैसरका (genus Casarca) में रखते हैं। वंशावली विश्लेषण से पता चलता है कि यह दक्षिण अफ्रीकी शेल्डक (South African shelduck) से सबसे अधिक निकटता से संबंधित है। रूडी शेल्डक को टैडोर्न (Tadorna) के कई अन्य सदस्यों के साथ‚ डबलिंग डक जीनस अनस (dabbling duck genus Anas) के कई सदस्यों और मिस्र के हंस (Egyptian goose) ‘एलोपोचेन इजिपियाका’ (Alopochen aegyptiaca) के साथ संकरित करने के लिए जाना जाता है‚ जिसकी कोई उप-प्रजाति मान्यता प्राप्त नहीं है। जीनस नाम टैडोर्ना (Tadorna) फ्रांसीसी (French) सामान्य शेल्डक “टैडोर्न” (“tadorne”) से आया है और मूल रूप से एक सेल्टिक (Celtic) शब्द से निकला है‚ जिसका अर्थ है “चितकबरा जलपक्षी”। इसका अंग्रेजी नाम “शेल्ड डक” (“sheld duck”)‚ 1700 के आसपास का है और इसका अर्थ भी “चितकबरा जलपक्षी” ही है। फेरुगिनिया (ferruginea) प्रजाति का नाम “रस्टी” (“rusty”) के लिए लैटिन (Latin) है और यह पक्षी के पर या पंख के रंग को संदर्भित करता है। कश्मीर‚ लद्दाख और नेपाल में बर्फबारी जैसे कारकों के चलते रामनगर के कोसी बैराज में प्रवासी “ब्राह्मणी बतखों” का आना शुरू हो जाता है। जिनके कारण यात्रियों की संख्या में और इजाफा होने की उम्मीद होती है। पश्चिमी वृत्त के वन संरक्षक पराग मधुकर ढाकाटे (Parag Madhukar Dhakate) बताते हैं‚ कि आमतौर पर नवंबर में “रूडी शेल्डक” यहां पहुंचने लगते हैं और फरवरी के अंत तक अपनी वापसी की उड़ानें शुरू कर देते हैं। ब्राह्मणी बत्तखों के अलावा‚ अन्य प्रवासी पक्षी जिनमें बार-हेडेड गीज़ (bar-headed geese)‚ रेड क्रेस्टेड पोचार्ड (red crested pochard)‚ गडवाल (gadwall)‚ कॉमन पोचार्ड (common pochard)‚ मल्लार्ड (mallard)‚ विजन (wigeon)‚ शॉवेलर (shoveller)‚ कॉमन टील (common teal) और टुफ्टेड डक (tufted duck) भी शामिल हैं‚ जो सर्दियों के दौरान उत्तराखंड आते हैं। प्रवासी पक्षियों के आगमन के समय से लेकर उनके प्रस्थान के समय तक विभाग उन पर नजर रखता है। पराग बताते हैं कि लोगों को अवैध शिकार से बचाने के लिए भी विभाग नजर रखता है। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणी बत्तख वन्यजीव संरक्षण अधिनियम (Wildlife Protection Act) के तहत संरक्षित है। वन्यजीव फोटोग्राफर दीप रजवार बताते हैं कि “रूडी शेल्डक” को चकवा (Chakwa)‚ नाग (Nag)‚ लोहित (Lohit)‚ चक्रवत (Chakravat)‚ केसर (Kesar) और अन्य विभिन्न नामों से भी जाना जाता है। ये वे पक्षी हैं जिनका उल्लेख अक्सर कवि अपने छंदों में भी करते हैं। गोस्वामी तुलसीदास ने भी “रामचरितमानस” (“Ramcharitmanas”) में इनका उल्लेख किया है। वे जोड़े में रहते हैं और ऐसा माना जाता है कि वे जीवन भर के लिए एक जोड़ी बनाए रखते हैं। वे शर्मीले तथा काफी सतर्क पक्षी हैं‚ थोड़ी सी भी गड़बड़ी या खतरे के संकेत होने पर उड़ जाते हैं तथा नीचे की स्थिति की निगरानी के लिए समूह में उड़ते हैं‚ और केवल तभी लौटते हैं जब वे इसे सुरक्षित समझते हैं। यह सर्वाहारी पक्षी घास‚ पौधों के अंकुर‚ जड़े‚ कलियां‚ पत्तियां‚ बीज‚ तने‚ अनाज‚ घास‚ पानी के पौधे और स्थलीय और जलीय अकशेरूकीय पर आहार करते हैं। रूडी शेल्डक को प्यार का प्रतीक भी माना जाता है‚ प्राचीन किंवदंती के अनुसार दो लोगों को प्यार हो गया लेकिन देवताओं ने उनके गठबंधन को मंजूरी नहीं दी और उन्हें रूडी शेल्डक में बदल दिया और उन्हें एक नदी के विपरीत किनारे पर रख दिया‚ एक अभिशाप के साथ कि वे कभी नहीं मिल सके। अलग होने के बाद नर मादा को अपने आम तौर पर शोकपूर्ण आवाज “आवान” में पुकारता है‚ जिसका अर्थ है “क्या मैं आ सकता हूं?” लेकिन मादा देवताओं से डरती है‚ जो समान रूप से शोकपूर्ण आवाज में जवाब देती है “ना आवेन” जिसका अर्थ है “मत आओ”‚ इसलिए वे अपना शेष जीवन नदी के विपरीत किनारे से एक-दूसरे को पुकारते हुए मातम करते हुए बिताते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3z6O45L
https://bit.ly/32D5afn
https://bit.ly/3qw7WeE
https://bit.ly/3FHGXDi

चित्र संदर्भ   
1.रूडी शेल्डक (Ruddy Shelduck) को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2.रूडी शेल्डक‚ जोड़े को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3.नाविक और रूडी शेल्डक‚ को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
4. रूडी शेल्डक‚ जोड़े को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • हमारे अद्वैत दर्शन के समान ही थे 17वीं शताब्दी के क्रांतिकारी डच दार्शनिक स्पिनोज़ा के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 09:55 AM


  • रामपुर सहित भारत के बाहर भी मचती है, प्रसिद्ध रथ यात्रा की धूम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:19 AM


  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM


  • प्राकृतिक इतिहास में विशाल स्क्विड की सबसे मायावी छवि मानी जाती है
    शारीरिक

     26-06-2022 10:01 AM


  • फसल को हाथियों से बचाने के लिए, कमाल के जुगाड़ और परियोजनाएं
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:46 AM


  • क्यों आवश्यक है खाद्य सामग्री में पोषण मूल्यों और खाद्य एलर्जी को सूचीबद्ध करना?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:47 AM


  • ओपेरा गायन, जो नाटक, शब्द, क्रिया व् संगीत के माध्यम से एक शानदार कहानी प्रस्तुत करती है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:28 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id