Post Viewership from Post Date to 07-Dec-2021 (30th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
954 109 1063

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

जन सेवा के लिए स्थापित लायंस क्लब का परिचय‚ उद्देश्य तथा इतिहास

रामपुर

 08-11-2021 09:48 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ लायंस क्लब (The International Association of Lions Clubs)‚ जिसे लायंस क्लब इंटरनेशनल (Lions Clubs International) के नाम से जाना जाता है‚ एक अंतरराष्ट्रीय गैर-राजनीतिक सेवा संगठन है। इसकी शुरुआत 24 अक्टूबर 1916 को विलियम पेरी वुड्स (William Perry Woods) द्वारा इवांसविले‚ इंडियाना (Evansville‚ Indiana) में की गई थी और बाद में इसके सचिव मेल्विन जोन्स (Melvin Jones) के मार्गदर्शन और देखरेख में‚ मूल रूप से 1917 में एक अंतरराष्ट्रीय सेवा संगठन के रूप में‚ इलिनोइस (Illinois) के शिकागो (Chicago) में इसकी स्थापना की गई थी। अब इसका मुख्यालय इलिनोइस के ओक ब्रुक (Oak Brook) में है। जनवरी 2020 तक‚ दुनिया भर के 200 से अधिक देशों और भौगोलिक क्षेत्रों में इसके 46‚000 से अधिक स्थानीय क्लब तथा 1.4 मिलियन से अधिक सदस्य थे। 1917 में जोन्स‚ शिकागो के एक 38 वर्षीय बिजनेस लीडर थे‚ उन्होंने अपने स्थानीय व्यापार संघ के सदस्यों से कहा‚ कि उन्हें व्यावसायिक मुद्दों से परे पहुंचना चाहिए और अपने समुदायों तथा दुनिया की उन्नति को संबोधित करना चाहिए। जोन्स के इस कथन से‚ शिकागो का व्यापार मंडल सहमत हो गया। संयुक्त राज्य (United States) में समान समूहों से संपर्क करने के बाद‚ 7 जून 1917 को शिकागो में एक संगठनात्मक बैठक आयोजित की गई। बाद में व्यापार मंडल‚ बैठक में आमंत्रित समूहों में से एक‚ “इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ लायंस क्लब्स” में शामिल हो गया। लायंस का आदर्श वाक्य “हम सेवा करते हैं” (“We Serve”) है। स्थानीय लायंस क्लब (Lions Clubs) के कार्यक्रमों में दृष्टि संरक्षण‚ श्रवण और वाक् संरक्षण‚ मधुमेह जागरूकता‚ युवा पहुंच‚ अंतर्राष्ट्रीय संबंध‚ पर्यावरण संबंधी मुद्दे और कई अन्य कार्यक्रम शामिल हैं। इसमें राजनीति और धर्म की चर्चा वर्जित है। लायंस (LIONS) का संक्षिप्त नाम; लिबर्टी‚ इंटेलिजेंस‚ अवर नेशन्स सेफ्टी (Liberty‚ Intelligence‚ Our Nations’ Safety) है।
भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के रामपुर में दो लायंस क्लब निकाय हैं; उपकार रामपुर (Upkar Rampur) और ग्रेटर रामपुर (Greater Rampur)। लायंस हर दिन स्थानीय समुदायों और दुनिया की जरूरतों को पूरा करते हैं‚ क्योंकि वे अपने समुदाय की सेवा करने के लिए एक मूल विश्वास साझा करते हैं। लायंस का एक गतिशील इतिहास रहा है। जिसमें 1917‚ अंधेपन से लड़ने के लिए सबसे अच्छी तरह से जाना जाता है‚ लेकिन यह कई अलग-अलग प्रकार की सामुदायिक परियोजनाओं के लिए भी स्वेच्छा से काम करते हैं; जिसमें पर्यावरण की देखभाल करना‚ भूखे को खाना खिलाना और वरिष्ठों और विकलांगों की सहायता करना आदि शामिल है। लायंस सभी के लिए दृष्टि जांच आयोजित करके‚ अस्पतालों और क्लीनिकों को सुसज्जित करके‚ दवा वितरण और नेत्र रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाकर‚ अपने मिशन ‘दृष्टि प्रदान करने’ की दिशा में काम करते हैं। लायंस क्लब अपने अनगिनत स्थानीय प्रयासों तथा अपने अंतरराष्ट्रीय साइटफर्स्ट कार्यक्रम (SightFirst Program) के माध्यम से‚ दृष्टि संरक्षण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को बढ़ाते है‚ जो अंधेपन को मिटाने के लिए काम करता है। इनकी सामुदायिक परियोजनाएं अक्सर छात्रवृत्ति‚ मनोरंजन तथा सलाह के माध्यम से स्थानीय बच्चों और स्कूलों का समर्थन करती हैं। ये अंतरराष्ट्रीय स्तर पर‚ पीस पोस्टर कंटेस्ट (Peace Poster Contest)‚ यूथ कैंपस एंड एक्सचेंज (Youth Camps and Exchange) तथा लायंस क्वेस्ट (Lion Quest) सहित कई कार्यक्रमों की पेशकश करते हैं। इनका लियो प्रोग्राम (Leo Program) दुनिया के युवाओं को स्वयंसेवा के माध्यम से व्यक्तिगत विकास का अवसर प्रदान करता है। दुनिया भर में 140 से अधिक देशों में लगभग 144‚000 लियो (Leos) तथा 5‚700 लियो क्लब (Leo clubs) हैं। 1968 के बाद से‚ लायंस क्लब इंटरनेशनल फाउंडेशन (Lions Clubs International Foundation (LCIF)) ने दुनिया भर में‚ लायंस मानवीय परियोजनाओं (Lions humanitarian projects) का समर्थन करने के लिए‚ 700 मिलियन डॉलर से अधिक का अनुदान दिया है। द फाइनेंशियल टाइम्स (The Financial Times) द्वारा 2007 के एक अध्ययन में एलसीआईएफ (LCIF) को नंबर एक गैर-सरकारी संगठन का दर्जा दिया गया था। फाउंडेशन और लायंस मिलकर प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त समुदायों को भोजन‚ पानी‚ कपड़े और चिकित्सा आपूर्ति जैसी तात्कालिक जरूरतों को पूरा करने में मदद करते हैं तथा दीर्घकालिक पुनर्निर्माण में सहायता प्रदान करते हैं। लायंस एक वैश्विक सेवा नेटवर्क का हिस्सा हैं‚ जो स्थानीय समुदायों की मदद करने के लिए जो भी आवश्यक है वह करते हैं।
लायंस अद्वितीय मित्रता और सार्थक संबंध बनाते हैं‚ जो जीवन भर चल सकते हैं। लायंस क्लब‚ नेतृत्व कौशल को विकसित करने और उन्हें क्रियान्वित करने के लिए एक बेहतरीन जगह है। प्रत्येक क्लब द्वारा वैश्विक संघ से प्रथम श्रेणी के प्रशिक्षण के साथ-साथ नेतृत्व करने के अवसर प्रदान किये जाते हैं। सभी लायंस और क्लब को‚ अंतरराष्ट्रीय संघ का समर्थन प्राप्त है। 300 से अधिक लायंस अंतरराष्ट्रीय स्टाफ सदस्य‚ सेवा को बढ़ाने के लिए उपकरणों और प्रौद्योगिकी पर लगातार काम कर रहे हैं। लायंस क्लब विभिन्न प्रकार की सेवा परियोजनाएं बनाते हैं और उनमें भाग लेते हैं‚ जो लायंस क्लब इंटरनेशनल के अंतर्राष्ट्रीय लक्ष्यों के साथ-साथ उनके स्थानीय समुदायों की आवश्यकताओं को पूरा करती हैं; जैसे धर्मशालाओं को दान या सामुदायिक अभियान। अंतरराष्ट्रीय उद्देश्यों के लिए भी पैसा जुटाया जाता है। इनमें से कुछ‚ 2004 हिंद महासागर भूकंप और 2013 टाइफून हैयान (Typhoon Haiyan) जैसी घटनाओं की प्रतिक्रिया में दान किया गया है‚ जहां लायंस और एलसीआईएफ (LCIF) ने स्थानीय और दुनिया भर से आपदा राहत प्रदान की। अन्य धन का उपयोग एलसीआईएफ द्वारा समन्वित अंतर्राष्ट्रीय अभियानों का समर्थन करने के लिए किया जाता है। लायंस‚ सामुदायिक श्रवण और कैंसर-जांच परियोजनाओं का भी संचालन करते हैं। पर्थ‚ पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया (Perth‚ Western Australia) में‚ उन्होंने 30 से अधिक वर्षों के लिए‚ श्रवण जांच आयोजित किये हैं और 9 सितंबर‚ 2001 को स्थापित लायंस ईयर एंड हियरिंग इंस्टीट्यूट (Lions Ear and Hearing Institute) के लिए वित्त पोषण प्रदान किया है‚ जो कान और श्रवण विकारों के निदान‚ प्रबंधन और अनुसंधान में उत्कृष्टता का केंद्र है। कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के दौरान अपने समुदायों की सेवा करने के लिए‚ दुनिया भर में 1.4 मिलियन से अधिक लायंस आगे आए हैं। इन नई चुनौतियों ने‚ जीने के तरीके को बदल दिया है‚ लेकिन जरूरतमंदों की मदद करने के लिए लायंस क्लब्स का समर्पण उतना ही मजबूत है‚ जितना कि 100 साल पहले हुआ करता था‚ जब उन्होंने पहली बार अपने दरवाजे खोले थे। जैसे ही दुनिया कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए एकजुट हुई‚ लायंस क्लब्स इंटरनेशनल फाउंडेशन भी मानव जाति के सामने मौजूद बड़ी चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हो गया। अनुदान वित्त पोषण में लाखों डॉलर के माध्यम से‚ एलसीआईएफ (LCIF) ने विश्व स्तर पर लायंस राहत प्रयासों का समर्थन किया है। मुसीबत के इस दौर में‚ दुनिया भर के लायंस‚ सेवा के माध्यम से सुरक्षित तथा पूर्ण सहयोग दे रहे हैं‚ स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए भोजन वितरण से लेकर चिकित्सा आपूर्ति प्रदान करने तक‚ जहां उन्हें सबसे अधिक आवश्यकता होती है‚ लायंस (Lions) और लेओस (Leos) यह दिखाने के तरीके खोज रहे हैं कि दया कैसे मायने रखती है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3kcEfgy
https://bit.ly/3GTNkEy
https://bit.ly/3ELTvsg
https://bit.ly/3wqBgGa
https://bit.ly/3woebUl
https://bit.ly/2ZYGHja

चित्र संदर्भ
1. लायंस क्लब इंटरनेशनल की 100वीं वर्षगांठ को समर्पित भारत के 2018 के डाक टिकट को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2  लायंस क्लब ब्रिज, अंतर्राष्ट्रीय मैत्री और सहयोग का प्रतीक (स्थान: आचेन-लिचेंबुश, जर्मन-बेल्जियम सीमा चौकी) को दर्शाता एक चित्रण (Britannica)
3. दुनिया भर में लायंस क्लबों की भागीदारी दिखाने वाले नक्शा का एक चित्रण (wikimedia)
4. लायंस क्लब इंटरनेशनल के लिए लोगो का एक चित्रण (wikimedia)
5. फरीदाबाद लायंस क्लब (भारत) द्वारा रक्तदान आयोजन का एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id