रामपुर के निकट आ रहा है कम लागत वाला स्थानीय हवाई अड्डा

रामपुर

 29-09-2021 11:06 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

एक शहर से दूसरे शहर जाने के लिए हमारे पास परिवहन के ढेरों माध्यम उपलब्ध हैं, किंतु हवाई जहाज के माध्यम से हवा में उड़कर यह सफर तय करना, न केवल बेहद रोमांचक होता है, बल्कि हमारे बहुमूल्य समय की बचत भी करता है। साथ ही हवाई यात्रा क्षेत्रीय विकास को भी रफ़्तार देती है। हालांकि अधिकांश हवाई सेवाएं देश में बड़े शहरों तक ही सीमित है, किंतु यदि छोटे स्थानीय शहरों में भी, भले ही कम लागत वाले हवाई अड्डों का निर्माण हो लेकिन यह बड़े बदलाव ला सकता है।
भारतीय शहरों में कम विलासिता (low-luxury) वाले, क्षेत्रीय हवाई अड्डे भारत के विमानन उद्योग के लिए विकास की अगली लहर को गति दे सकते हैं। राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन नीति के अनुसार “सरकार मौजूदा हवाई मार्गों का विस्तार करेगी”। जिसके तहत हवाई सेवाओं को दूरदराज के क्षेत्रों में भी उड़ान भरनी होगी। इसके तहत ऐसे हवाई अड्डों का निर्माण करने पर विचार किया जा रहा है, जिनकी लागत ₹ 50 करोड़ से कम है। ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी (Ohio State University) में प्रोफेसर नवल तनेजा के अनुसार: “कनेक्टिविटी यानी लोगों का एक दूसरे से जुड़े रहना, न केवल सामाजिक विकास को बढ़ाने के लिए, बल्कि एक क्षेत्र में अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है।
अतः इन दोनों उद्देश्यों को पूरा करने के लिए हवाई जहाज के माध्यम से कनेक्टिविटी सबसे अधिक प्रभावी तरीका है। और, यदि इस नीति को देश भर में कई क्षेत्रों में रणनीतिक रूप से लागू किया जाता है, तो यह निश्चित रूप से देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करेगा, साथ ही क्षेत्रीय उड़ानों में एयरलाइनों की रुचि और बिना तामझाम वाले हवाई अड्डों के कारण, कम लागत वाले हवाई सफर से यातायात में भी काफी सुधार हो सकता है। इस संदर्भ में 2016-17 के केंद्रीय बजट में भी घरेलू हवाई यात्रा को भी बढ़ावा दिया गया है। जिसके अंतर्गत सरकार योग्य हवाई पट्टियों की पहचान करेगी,और फिर राज्य सरकारों से क्षेत्रीय हवाई अड्डों के विकास की लागत साझा करने के लिए कहेगी। इस योजना में राज्य द्वारा संचालित भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के स्वामित्व वाले हवाई अड्डों का पुनरुद्धार किया जाना भी शामिल है। इस संदर्भ में एएआई ने अगले पांच वर्षों में लगभग ₹ 20,000 करोड़ खर्च करने की योजना बनाई है, जिसमें से ₹ ​​18,000 करोड़ हवाई अड्डा योजनाओं के लिए, ₹ 128 करोड़ सूचना प्रौद्योगिकी उन्नयन के लिए और ₹ 865 करोड़ हवाईअड्डा प्रणालियों के लिए निर्धारित किए गए हैं।
क्षेत्रीय स्तर पर हवाई सेवा के विस्तार के साथ ही उत्तर प्रदेश के आठ शहरों में क्षेत्रीय हवाई अड्डों का निर्माण सुनिश्चित हो गया है। जिसके अंतर्गत मुरादाबाद मुंडा पाण्डेय हवाई पट्टी के स्थान पर हवाई अड्डा बन जायेगा। सरकार द्वारा उठाये गए इस कदम से मुरादाबाद के पीतल उद्द्योग को भी लाभ मिलेगा। हालांकि पहले मुरादाबाद में केवल हवाई पट्टी ही थी, जिसमें केवल सरकारी जहाज ही उतर सकते थे, वही अब एयरपोर्ट (Airport) बनने के बाद यहां पर विदेशी नागरिक भी ख़रीदार बनकर आ सकते हैं। मुरादाबाद में हवाई अड्डा बनने की खबर के साथ ही यहां पर जमीनों के भाव भी बेहद ऊँचे हो गए हैं। स्थानीय हवाई अड्डों के विभिन्न लाभों में व्यापार और वाणिज्य सार्वजनिक सुरक्षा, आपदा और आपातकालीन प्रतिक्रिया, सामुदायिक जीवन को समृद्ध करना, वन निरीक्षण आदि अनगिनत लाभ शामिल हैं। साथ ही एयर एम्बुलेंस (air ambulance) के माध्यम से आग, बाढ़, खोज और बचाव, के कार्य भी तुरंत किये जा सकते हैं। मुख्य रूप से किसी भी छोटे शहर में हवाईअड्डा नहीं होने से स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता में कमी आएगी, स्थानीय, राज्य और संघीय एजेंसियों की आपदाओं और आपात स्थितियों का जवाब देने में सक्षम होने की क्षमता कम हो जाएगी, अतः क्षेत्रीय हवाई अड्डे कई अन्य चुनौतियों का बेहतर समाधान भी साबित हो सकते हैं।
हालाँकि जिस प्रकार हर सिक्के के दो पहलु होते हैं उसी प्रकार ग्रामीण अथवा स्थनीय हवाई सेवाओं की कुछ हानियां भी देखी जाती हैं। सबसे बड़ी हानि आर्थिक क्षेत्र में देखी जाती है, उदाहरण के लिए, कम लागत में बनाया गया एक बिगड़ता हवाई अड्डा स्थानीय व्यवसायों की लागत को बढ़ाता है, जिसमे उन्हें अधिक दूर के हवाई अड्डे पर भरोसा करने या परिवहन के अधिक महंगे साधनों का उपयोग करने के लिए मजबूर किया जाता है। अपर्याप्त हवाई अड्डे भी ग्रामीण व्यापार फर्मों के भौगोलिक बाजार क्षेत्रों को प्रतिबंधित करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप बिक्री और मुनाफे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

संदर्भ
https://bit.ly/3m4ShAU
https://bit.ly/3kKeCUL
https://bit.ly/3CQ8uk9
https://bit.ly/3kI578H
https://trid.trb.org/view/674446

चित्र संदर्भ
1. निर्माणधीन एयरपोर्ट का एक चित्रण (CAPA)
2. 2000 के दशक के मध्य तक इंडियन एयरलाइंस के पुराने डीप ऑरेंज लोगो का एक चित्रण (wikimedia)
3. हवाई अड्डे पर खड़े विमान का एक चित्रण (flickr)
4. लखनऊ चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट का एक चित्रण (constructionworld)



RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id