विश्‍व स्‍तर पर पुदीने की बढ़ती मांग को देखकर इसकी खेती का बढ़ता विस्‍तार

रामपुर

 10-08-2021 08:33 AM
भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

2013 में पुदीने की खेती के तहत लगभग 1.2 लाख हेक्टेयर में उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में दूर तक पुदीने की सुगंध फैलने का वादा किया गया था। भारत दुनिया के पुदीने की आपूर्ति का 80% उत्पादन करता है और अपने उत्पादन का 75% निर्यात करता है।पुदीने की खेती रामपुर सहित राज्य के तराई क्षेत्र में बड़े पैमाने पर की जाती है।यूपी के किसानों ने पुदीने की खेती इसलिए अपनाया है क्योंकि एक एकड़ पुदीना तीन महीने में 30,000 रुपये तक रिटर्न दे सकता है, जो किसी भी नकदी फसल की तुलना में काफी अधिक है। इसके अलावा, अंतरराष्ट्रीय बाजार में मेंथा उत्पादों की मांग भी बढ़ रही है, विशेष रूप से चीन (China) और मेन्थॉल उद्योग (menthol industry) लगभग 15 प्रतिशत की दर से बढ़ रहे हैं।फसल की लोकप्रियता का एक अन्य कारण यह है कि अन्य नकदी फसलों की तुलना में इसकी खेती में कम समय लगता है। इसके अलावा, पुदीने की खेती के समय खेत खाली रहते हैं।फसल का एक नकारात्मक पहलू यह है कि इसे अधिकांश कृषि फसलों की तुलना में अधिक पानी की आवश्यकता होती है, लेकिन सिंचाई सुविधाओं में वृद्धि और सिंचाई के पारंपरिक स्रोतों जैसे नहर और तालाबों के दोहन के साथ, किसान अच्छा लाभ प्राप्त कर रहे हैं और इसका कृषि क्षेत्र हर मौसम में बढ़ रहा है। यहां बागवानी विभाग किसानों को छोटी आसवन प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित करके संयंत्र से पुदीने का तेल निकालने के लिए प्रशिक्षण भी देता है। इसका उपयोग टूथपेस्ट (Toothpaste), माउथ फ्रेशनर (Mouth freshener), औषधि, पेय पदार्थ, मुंह साफ करने के पानी, च्युइंग गम (Chewing gum), मिठाई और मिष्‍ठान के निर्माण में औद्योगिक निवेश के रूप में किया जाता है। पुदीने की पत्तियों का उपयोग पेय पदार्थ, मुरब्बे और चाशनी में किया जाता है। 2018 में कृत्रिम पुदीने का तेल (जिसका उपयोग मुख्य रूप से गैर-खाद्य अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है) की उपलब्धता में गिरावट के कारण प्राकृतिक पुदीने के तेल की कीमत औसतन 1,500 किलोग्राम से अधिक हुई थी। पुदीने की फसल के लिए मूल्य अस्थिरता एक बड़ी समस्या है। 2013-14 में कृत्रिम पुदीना तेल की शुरुआत के बाद से प्राकृतिक पुदीने की कीमत में काफी गिरावट आई है, जिसमें मेन्थॉल तेल का उच्चतम उत्पादन देखा गया है। 2013-18 में पुदीने की कीमत लगभग ₹ 2,200 रुपये प्रति किलोग्राम थी, लेकिन 2014-15 में यह घटकर ₹ 800 किलोग्राम रह गई थी। बाद में खेती में भारी गिरावट आने के बाद से पुदीने की कीमतें बढ़ने लगीं। 2017 में, पुदीने की कीमतों में 1,100 तक की वृद्धि हुई और वे 2018 में कृत्रिम मेन्थॉल की कम आपूर्ति की वजह से इसकी कीमत ओर बढ़ गई।
विदेशी और घरेलू दोनों बाजारों में मेंथा क्रिस्टल और फ्लेक्स (mentha crystal and flakes ) की भारी मांग को देखते हुए, उत्तरी क्षेत्र की दवा कंपनियां अनुबंध खेती के तहत मेंथा की खेती करने की योजना बना रही हैं। मेंथा डेरिवेटिव (mentha derivatives) की मांग को पूरा करने के लिए इन कंपनियों ने पहले ही अपनी प्रसंस्करण सुविधाओं को अपग्रेड (upgraded) कर दिया है।मेंथा का उत्पादन मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश और पंजाब में होता है। जबकि मेंथा की खेती के तहत यूपी में कुल क्षेत्रफल का लगभग 90 प्रतिशत हिस्सा है.चंडीगढ़ स्थित सूर्या फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड (Surya Pharmaceuticals Ltd.), जो उत्तर प्रदेश से मेंथा तेल खरीदती है, अगले सीजन में पंजाब में 5,000 एकड़ जमीन को अनुबंध खेती के तहत लाने की योजना बनाई। सूर्या मिंट/मेन्थॉल डेरिवेटिव ( mint/menthol derivatives ) जैसे फ्लेक्स (flakes ) और क्रिस्टल (crystal ) के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है और चीन (China), यूरोप (Europe) और अमेरिका (US) जैसे देशों को निर्यात करता है।चंडीगढ़ की एक अन्य फर्म इंड स्विफ्ट लेबोरेटरीज (Ind Swift Laboratories) ने कीमतों में उतार-चढ़ाव से बचने के लिए स्‍वयं मेंथा की खेती शुरू करने की योजना बनाई।
अच्छे बीज कृषि में परिवर्तन के उत्प्रेरक होते हैं। 1960 के दशक के मध्य में गेहूं (लर्मा रोजो और सोनोरा -64) (Lerma Rojo and Sonora-64) और चावल (आईआर -8) (IR-8) की उच्च उपज देने वाली किस्मों के 18,000 टन आयात ने भारत में हरित क्रांति की शुरुआत की थी। आज, हमारे अन्न भंडार भरे हुए हैं, और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) (ICAR) की राष्ट्रीय अनुसंधान प्रणाली द्वारा उन बीजों और उनमें निरंतर सुधार के कारण, भारत प्रधान फसल में आत्मानिर्भर है। अब, हम पड़ोसी देशों को भी बीज निर्यात कर रहे हैं। लॉकडाउन (lockdown ) अवधि के दौरान भी, निजी क्षेत्र द्वारा विशेष ट्रेनों के माध्यम से बांग्लादेश को हाइब्रिड (hybrid ) चावल के बीज निर्यात किए गए थे। भारत लगभग पिछले दो दशकों में उर्वरक पोषक तत्वों (एनपीके) (NPK) का शुद्ध आयातक रहा है।उर्वरकों में आत्मानिर्भरता प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका उर्वरक सब्सिडी की प्रणाली को बदलना है। प्रति हेक्टेयर के आधार पर परिकलित, सीधे किसानों के खातों में समान नकद राशि दें और उर्वरक की कीमतों को मुक्त करें। निजी क्षेत्र के संयंत्रों को लागत-प्रतिस्पर्धी तरीके से यूरिया उत्पादन में प्रतिस्पर्धा और विस्तार करने की अनुमति दें, चाहे वह घर पर हो या खाड़ी देशों में जहां गैस बहुत सस्ती हो।कृषि-आदानों में आत्मानिर्भता का सबसे अच्छा उदाहरण कृषि मशीनरी, विशेषकर ट्रैक्टरों का है। 1961-62 में, हरित क्रांति से पहले, भारत ने केवल 880 ट्रैक्टर इकाइयों का उत्पादन किया, जो 2018-19 में लगभग 900,000 इकाइयों तक पहुंच गया, जिससे भारत दुनिया में सबसे बड़ा ट्रैक्टर निर्माता बन गया।ट्रैक्टर सेवाओं के लिए बाजार बनाने के आधुनिक उपकरणों के माध्यम से इसे और अधिक कुशल बनाने की आवश्यकता है।
अपने एक भाषण में प्रधान मंत्री ने कहा अनुबंध खेती किसी न किसी रूप में लंबे समय से की जा रही है। हमारा प्रयास होना चाहिए कि अनुबंध खेती न केवल एक व्यवसाय बन जाए बल्कि हमें उस भूमि के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को भी पूरा करना चाहिए।यह सुनिश्चित करना समय की मांग है कि किसानों की उपज को बाजार में अधिक से अधिक विकल्प मिले। हमें अपनी कृषि उपज को वैश्विक प्रसंस्कृत खाद्य बाजार में एकीकृत करना होगा।कृषि मूल्य श्रृंखला में आपूर्ति, उत्पादन, प्रसंस्करण, परिवहन, व्यापार, विपणन और निर्यात सहित विभिन्न चरण शामिल हैं। इनमें से अधिकांश आपस में जुड़े हुए हैं; एक फीडिंग का आउटपुट (Output) दूसरे के इनपुट (Input) के रूप में। उपरोक्त में से किसी में भी गड़बड़ी मूल्य श्रृंखला के पूरे पहिये को असंतुलित कर देती है। भंडारण और परिवहन के दौरान उपज का भौतिक नुकसान, अपर्याप्त विपणन बुनियादी ढांचे, सटीक और समय पर जानकारी की कमी, कई बिचौलियों, और अन्य कारकों के बीच संस्थागत ऋण तक पहुंच की कमी मूल्य श्रृंखला को अनावश्यक रूप से लंबा और खंडित रखती है। इतनी कमजोर कड़ियों के साथ कृषि मूल्य श्रृंखला को मजबूत बनाना एक चुनौती बनी हुई है।
राष्ट्रीय कृषि नीति 2000 में अनुबंध खेती, भूमि पट्टे की व्यवस्था, प्रत्यक्ष विपणन और निजी बाजारों की स्थापना के माध्यम से कृषि में निजी भागीदारी को बढ़ावा देने की परिकल्पना की गई है ताकि त्वरित प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, पूंजी प्रवाह और फसल उत्पादन के लिए सुनिश्चित बाजार की अनुमति मिल सके। निजी क्षेत्र कृषि मूल्य श्रृंखला में कई तरह से अपनी सेवाएं दे सकता है। अनुसंधान करना, उन्नत तकनीकों को शुरू करना, सहकारी समितियों और स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से ऋण का प्रावधान, बुनियादी ढांचे (बीज, उर्वरक और कीटनाशकों, परिवहन और प्रसंस्करण के लिए) का निर्माण करना, विस्तार सेवाओं में मदद करना, सटीक और समय पर जानकारी देना और फसल बीमा का प्रसार करना है। प्रमुख क्षेत्र जहां निजी क्षेत्र अपनी भागीदारी में और सुधार कर सकते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3CqTFVB
https://bit.ly/3AhT0UM
https://bit.ly/2LWf9Rz
https://bit.ly/2TjIyJi
https://bit.ly/3s1Ji6c
https://bit.ly/2VAhqKf
https://bit.ly/3g8R1IX

चित्र संदर्भ
1. पुदीने के बगीचे का एक चित्र (flickr)
2. पुदीने की खेती के लिए नमी की आवश्यकता होती है जिसको दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. पुदीने से निर्मति मीठी चटनी के जार का एक चित्रण (wikimedia)
4. भारत में जिलेवार कृषि उत्पादकता 2003–05 का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM


  • रामपुर के निकट कासगंज से जुड़ा द सेकेंड लांसर्स रेजिमेंट के गठनकर्ता विलियम गार्डन का इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:08 PM


  • कोविड 19 के उपचार हेतु लगाए जाने वाले एमआरएनए टीकों से उत्‍पन्‍न समस्‍या
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 08:57 AM


  • भारत में दुनिया में सबसे अधिक एम.बी.ए डिग्री प्राप्तकर्ता हैं, लेकिन फिर भी कई हैं बेरोजगार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-05-2022 08:51 AM


  • निवख समूह के लिए उनके पूर्वज और देवताओं दोनों को अभिव्यक्त करते हैं, भालू
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:31 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id