साग सब्जियां उगाते हुए सुखद और पारिवारिक शौक में तब्दील हो गई है, बागवानी

रामपुर

 29-07-2021 09:30 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

वर्तमान समय में कोरोना महामारी पूरे विश्व में फैली हुई है, तथा इसे रोकने के लिए अनेकों उपाय किए गए हैं, जिनमें से तालाबंदी भी एक है। तालाबंदी के कारण लोग अपने घर पर ही रहने को मजबूर हुए हैं,किंतु जो अच्छी बात सामने आयी है, वो यह है कि इस दौरान लोगों में बागवानी के प्रति अत्यधिक उत्साह पैदा हुआ है। लोग घर पर ही अपने बगीचे में तरह-तरह की साग -सब्जियां उगा रहे हैं तथा अपने खाली समय का सदुपयोग कर रहे हैं। इस प्रकार दुनिया भर के लोगों के जीवन में बागवानी एक सुखद और पारिवारिक शौक में तब्दील हो गई है।
तालाबंदी ने फसलों की कटाई और वितरण को धीमा किया है, इसलिए बागवानी ने खाद्य सुरक्षा से सम्बंधित चिंताओं को कम करने में भी मदद की है। लोगों द्वारा घर में ही कुछ प्रकार के फल और सब्जियां उगाने के कारण दुनिया भर में फलों और सब्जियों के बीजों की बिक्री में भी वृद्धि हुई है। जहां कोरोनो महामारी के दौरान लोग घर में रह रहे हैं, वहीं होम गार्डनिंग (Home gardening) या घर पर ही बागवानी करने का नया चलन सामने आया है।इस तथ्य की पुष्टि इस बात से की जा सकती है, कि विश्व स्तर पर बीजों की मांग में एक उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। लोग अपने घरों तक ही सीमित रहकर अपने बाड़े की सफाई कर रहे हैं और अपने द्वारा उगायी गयी सब्जियों पर ध्यान दे रहे हैं।
शहरी क्षेत्रों में अनेकों लोगों ने तालाबंदी के दौरान सब्जियों की नियमित आपूर्ति की उपलब्धता में अत्यधिक कमी का अनुभव किया है,किंतु वे लोग जिन्होंने अपने किचन गार्डन का रखरखाव सही तरीके से किया है, उन्हें सब्जियों की अनुपलब्धता से कुछ खास असर नहीं पड़ा है।ऐसा इसलिए है, क्यों कि तालाबंदी के दौरान शहरी निवासियों के बीच किचन गार्डन में रुचि बढ़ गई है और जो कुछ समय से बागवानी कर रहे हैं वे अनौपचारिक नेटवर्क और औपचारिक प्लेटफार्मों के माध्यम से सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा कर रहे हैं। इसके अलावा लोग इस समय खाद बनाने में भी रुचि ले रहे हैं और इस क्षेत्र में काम करने वाले संगठन रसोई के कचरे से खाद बनाने को बढ़ावा दे रहे हैं। लोग अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी बालकनी या छत पर उगाई गई सब्जियों और जड़ी-बूटियों की तस्वीरों को साझाकर रहे हैं, जो लोगों के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य कर रही है।इन तस्वीरों की मदद से लोग भोजन और अपनी रसोई से उत्पन्न होने वाले कचरे के महत्व को महसूस कर रहे हैं। आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि ब्रिटेन (Britain) के 45% लोग तालाबंदी का सामना बागवानी के माध्यम से कर रहे हैं।वे अपने खाली समय के दौरान बागवानी को एक बाहरी गतिविधि के रूप में अपना रहे हैं।
भले ही कोविड महामारी ने विभिन्न क्षेत्रों पर अपना बुरा प्रभाव डाला है, किंतु बीजों की बिक्री पर इसका कोई खास असर नहीं दिखाई दिया है।हालांकि महामारी को रोकने के लिए लगायी गई तालाबंदी के कारण बीजों का मुक्त प्रवाह नहीं हो पाया है, लेकिन स्थिति चिंताजनक नहीं है क्योंकि बीजों की आपूर्ति हो रही है। ऐसा इसलिए है, क्यों कि किसान कभी भी बुवाई बंद नहीं करेंगे, चाहे जो भी स्थिति हो, बशर्ते उन्हें समय पर बीज मिल जाए। बीज उद्योग औसतन 9% (CAGR) की दर से बढ़ रहा है, इससे पहले पिछले साल महामारी के कारण यह विकास मामूली रूप से घटकर लगभग 8% रह गया था। पिछले खरीफ सीजन में सब्जियों के बीजों की बिक्री में गिरावट आई थी, लेकिन रबी सीजन में इसमें तेजी आई है,क्योंकि लॉकडाउन प्रतिबंधों को धीरे-धीरे हटा दिया गया है, जिससे बीजों की मांग में वृद्धि हुई है। साथ ही लोग बागवानी में रूचि लेने लगे हैं, जिससे बीजों की मांग और तीव्र हो गई है। बीजों की बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनियां बीजों की ऑनलाइन बिक्री पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं, तथा अपनी वेबसाइट पर ग्राहकों के समय को सीमित कर रही हैं, क्यों कि तालाबंदी के कारण कर्मचारियों की संख्या में भी कमी आयी है।अगर कोविड -19 की स्थिति में सुधार होना शुरू हो जाता है और इसके कम मामले सामने आते हैं,तो खरीफ बुवाई के संचालन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना नहीं है।
घर पर ही बागवानी करके आप ऐसी अनेकों साग -सब्जियां और जड़ी बूटियां उगा सकते हैं, जिनके पोषक तत्व आपको स्वस्थ रखेंगे तथा कोरोना संक्रमण से बचने में भी मदद करेंगे। घर पर बागवानी शुरू करने के लिए बस आपको घर पर एक अच्छी धूप वाली जगह की आवश्यकता होती है।पौधों या जड़ी बूटियों को उगाने के लिए एक ऐसा गमला या बर्तन चुनें जिसमें पर्याप्त जल निकासी के लिए छेद मौजूद हो और पौधा आसानी से उसमें आ जाए। बर्तन के लिए आप जूस के डिब्बों, प्लास्टिक की बोतल, दूध के डिब्बे आदि का भी उपयोग कर सकते हैं। इसके बाद आपको अपने बर्तन या गमले में मिट्टी और जैविक खाद मिलाकर अपनी मिट्टी तैयार करनी होगी तथा उस पर अपने पौधे को रोपित करना होगा। पौधे को अच्छी तरह से लगाने के बाद आपको उसे थपथपाना होगा और फिर उसे पानी देना होगा। कुछ साग -सब्जियों और जड़ी बूटियों को अधिक देखभाल की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए उन्हें उगाना बहुत ही आसान है।प्रत्येक जड़ी बूटी की एक अलग सुगंध और स्वाद होता है, किंतु अपने किचन गार्डन के लिए आपको ऐसी जड़ी बूटियों का चुनाव करना चाहिए,जिन्हें आप खाना पकाने में सबसे अधिक बार उपयोग करते हैं, जैसे कि धनिया, पुदीना, तुलसी, अजवाईन, चांगेरी आदि। 1. धनिया उगाने के लिए आपको बस वसंत ऋतु में अपने घर की धूप वाली खिड़की पर एक गमले को रखकर उसमें अपनी रसोई से साबुत धनिया के बीज बोने हैं। इस पौधे को अत्यधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए इसे अत्यधिक पानी न दें। जल्द ही आपको इस पर धनिया के छोटे-छोटे अंकुर दिखाई देंगे जिन्हें तोड़ा जा सकता है और भोजन के लिए गार्निश के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। 2. पुदीना उगाने के लिए आपको जड़ों सहित इसके डंठल को एक गमले में स्थापित करना होगा। पुदीने की हरी पत्तियों का उपयोग ताज़ी चटनी बनाने या रायते आदि के लिए किया जा सकता है।
3. तुलसी को उगाने के लिए धूप और पानी की बहुत आवश्यकता होती है,इसलिए इसे मानसून से ठीक पहले लगाया जाना चाहिए।तीव्र गर्मी के तहत और बारिश और ठंडी जलवायु में यह अच्छे से उगती है। 4. लेमनग्रास (Lemongrass)को उगाने के लिए आपको नर्सरी से इसके डंठलों को लाकर अपने गमले में उगाना होगा। इसे उगाने के लिए सबसे पहले इसे पानी के एक बर्तन में रखें। जब तक लेमनग्रास लगभग 2 इंच लंबा न हो जाए, तब तक पानी को हर दिन बदलें।फिर इसे एक ऐसे बर्तन में स्थानांतरित करें, जो धूप में रखा जा सके तथा इसे हमेशा पानी देते रहें। इसी प्रकार से करी पत्ता,अजवाईन, मिर्ची, आदि को भी आप आसानी से अपने किचन गार्डन में उगा सकते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3f1iltI
https://reut.rs/3BLLWS0
https://bit.ly/3dTJXOA
https://bit.ly/2ZcHevs
https://econ.st/3rCp7LA
https://bit.ly/3BKD7Yy

चित्र संदर्भ
1. घरों में सब्जियां उगाने का एक चित्रण (flickr)
2. फ्रांसीसी ग्रामीण इलाकों में अपने पारंपरिक बिजूका के साथ विशिष्ट पोटेगर (फ्रेंच गहन बागवानी) का एक चित्रण (wikimedia)
3. घर की छत पर उगाए गए टमाटरों का एक चित्रण (Harvest to Table)
4. मिनेसोटा वेजी गार्डन (Minnesota veggie garden) का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id