यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों में नामित है, गीज़ा के पिरामिड

रामपुर

 25-07-2021 02:10 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन
गीज़ा (Giza), अरबी अहरामत अल-जिज़ाही (Arabic Ahrāmāt Al-Jīzah) के पिरामिड, तीन चतुर्थ राजवंशीय (सी 2575 – सी 2465 ईसा पूर्व) पिरामिड हैं, जिन्हें उत्तरी मिस्र (Egypt) में अल-जिज़ा (गीज़ा) के पास नील नदी के पश्चिमी तट पर एक चट्टानी पठार पर बनाया गया था। प्राचीन काल में उन्हें दुनिया के सात अजूबों में शामिल किया गया था। मेम्फिस (Memphis) क्षेत्र के प्राचीन खंडहर, जिनमें गीज़ा के पिरामिड, सक़क़ाराह (Ṣaqqārah), दहशुर (Dahshūr), अबू रुवेश (Abū Ruwaysh‌) और अबु सर (Abū Ṣīr) शामिल हैं, को सामूहिक रूप से 1979 में यूनेस्को (United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization - UNESCO) की विश्व धरोहर स्थल नामित किया गया। पिरामिडों के पदनाम- खुफ़ु (Khufu), खफ़्रे (Khafre) और मेनकौर (Menkaure) हैं - उन राजाओं के अनुरूप बनाए गए हैं, जिनके लिए उन्हें बनाया गया था। समूह का सबसे उत्तरी और सबसे पुराना पिरामिड, खुफ़ु के लिए बनाया गया था जो चौथे राजवंश के दूसरे राजा थे। इसे ग्रेट पिरामिड कहा जाता है, जो कि तीनों में सबसे बड़ा है। आधार पर प्रत्येक पक्ष की लंबाई औसतन 755.75 फीट (230 मीटर) और इसकी मूल ऊंचाई 481.4 फीट (147 मीटर) है। मध्य पिरामिड खफ़्रे के लिए बनाया गया था, जो चौथे राजवंश के आठ राजाओं में से चौथा था। संरचना प्रत्येक तरफ से 707.75 (216 मीटर) फीट है और यह मूल रूप से 471 फीट (143 मीटर) ऊंची थी। सबसे दक्षिणी और आखिरी पिरामिड मेनकौर का था, जो चौथे राजवंश का पांचवां राजा था। इसका प्रत्येक पक्ष 356.5 फीट (109 मीटर) है, और संरचना की पूर्ण ऊंचाई 218 फीट (66 मीटर) थी। तीनों पिरामिडों को प्राचीन और मध्यकाल में आंतरिक और बाह्य दोनों तरह से लूटा गया था। इस प्रकार, मूल रूप से दफन कक्षों में जमा किए गए कब्र के सामान गायब हैं, और पिरामिड अब अपनी मूल ऊंचाई तक नहीं पहुंचते हैं क्योंकि उनके चिकने सफेद चूना पत्थर के बाहरी आवरण लगभग पूरी तरह से निकल गए हैं। उदाहरण के लिए, ग्रेट पिरामिड अब केवल 451.4 फीट (138 मीटर) ऊंचा है। चिकने सफेद चूना पत्थर का बाहरी आवरण केवल खफ़्रे के सबसे ऊपरी भाग पर है। प्रत्येक पिरामिड के पास एक मुर्दाघर का निर्माण किया गया था, जो नील नदी के किनारे पर एक घाटी मंदिर से जुड़ा हुआ था। इसके अलावा सहायक पिरामिड भी थे, जिनका इस्तेमाल शाही परिवार के अन्य सदस्यों की समाधि के लिए किया जाता था।

संदर्भ:
https://bit.ly/3rAKBJ4
https://bit.ly/3kNQCAJ


RECENT POST

  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM


  • रामपुर के निकट कासगंज से जुड़ा द सेकेंड लांसर्स रेजिमेंट के गठनकर्ता विलियम गार्डन का इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:08 PM


  • कोविड 19 के उपचार हेतु लगाए जाने वाले एमआरएनए टीकों से उत्‍पन्‍न समस्‍या
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 08:57 AM


  • भारत में दुनिया में सबसे अधिक एम.बी.ए डिग्री प्राप्तकर्ता हैं, लेकिन फिर भी कई हैं बेरोजगार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-05-2022 08:51 AM


  • निवख समूह के लिए उनके पूर्वज और देवताओं दोनों को अभिव्यक्त करते हैं, भालू
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:31 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id