Unique butterflies in Rampur

रामपुर

 27-11-2017 04:46 PM
तितलियाँ व कीड़े

भारत में तितलियों की हज़ार से भी अधिक प्रजातियाँ पायी जाति हैं। इनमें से कई प्रजातियाँ रामपुर एवं उसके आस पास के तराई इलाके में देखी जा सकती हैं। उन्ही कुछ प्रजातियों में से एक है कॉमन वॉण्डरर जिसे रामपुर में देखा जा सकता है। कॉमन वॉण्डरर तितली का वैज्ञानिक नाम है पारेरोनिया वैलेरिया। ये पिरिडे परिवार में आती हैं। दुनिया भर में पिरिडे परिवार की 1000 के करीब तितलियाँ पायी जाती हैं जिनमे से 109 प्रजाति की तितलियाँ भारत में मौजूद हैं। जब ये तितलियाँ विश्राम कर रही होती हैं तो इनके ऊपरी पंख इनके निचले पंखों से छिपे रहते हैं और इनके ऊपरी पंख का एक सिरा ही दिखाई देता है। ये तितलियाँ अक्सर धूप सेकने की शौक़ीन होती हैं। इनके अंडे लम्बे व धुरी के आकार के होते हैं जो कि या तो अकेले दिए जाते हैं या फिर जत्थे में। इस तितली की इल्ली का प्रमुख भोजन पत्ता गोभी और उसी परिवार के दूसरे पौधे होते हैं। इनके कोषस्थ कीट अपने अंतिम भाग के सहारे पेड़ की डाली से जुड़े रहते हैं और एक रेशमी कवच में लिपटे हुए सुरक्षित रहते हैं। कॉमन वॉण्डरर फीके नीले रंग की होती हैं जिनकी किनारी पतली और काले रंग की होती है। इनके ऊपरी पंखों पर नीले धब्बे देखे जा सकते हैं जिनका आकार सिरे की ओर जाते जाते बढ़ता जाता है। नर एवं मादा कॉमन वॉण्डरर दिखने में काफी असमान होती हैं जिसका अनुमान दिए गए चित्रों द्वारा लगाया जा सकता है। नर कॉमन वॉण्डरर तितली नदियों एवं नालों के समीप गीले भागों में पायी जाती हैं जहाँ वे सड़े हुए पौधे और कीचड़ ढूँढकर उनमें से कुछ तरल पदार्थ चूसती हैं। वहीं दूसरी ओर मादा कॉमन वॉण्डरर तितली आराम मिजाज़ की होती हैं और इस वजह से कम दिखाई पड़ती हैं। इनके पंखों के फैलाव की बात करें तो ये करीब 65-80 मिलीमीटर तक फैले होते हैं। ज़्यादातर कॉमन वॉण्डरर ऐसे खुले जंगलों में पायी जाती हैं जहाँ मध्यम बरसात होती हो। ये तितलियों को मार्च से लेकर नवम्बर के महीने तक दिखाई देती हैं। दिए गए चित्रों में नर एवं मादा कॉमन वॉण्डरर तितली को दर्शाया गया है। 1. द बुक ऑफ़ इंडियन बटरफ्लाईज़- आइसेक केहिमकर



RECENT POST

  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id