सभी प्रकार की ललित कलाओं में है, वीणा का प्राथमिक महत्व

रामपुर

 30-05-2021 11:13 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि
वीणा (Veena) उन तीन दिव्य संगीत वाद्ययंत्रों में से एक है, जिसके साक्ष्य वैदिक काल (बांसुरी और मृदंगम के साथ) से प्राप्त होते हैं। कला की देवी सरस्वती को हमेशा वीणा के साथ दिखाया जाता है, इसलिए यह इस बात का प्रतीक है, कि सभी प्रकार की ललित कलाओं में वीणा का प्राथमिक महत्व है। प्राचीन और मध्यकालीन भारतीय साहित्य में संस्कृत शब्द वीणा, तंत्री या तारों वाले संगीत वाद्ययंत्र को दिया गया नाम है। इसका उल्लेख ऋग्वेद, सामवेद और अन्य वैदिक साहित्य जैसे शतपथ ब्राह्मण और तैत्तिरीय संहिता में भी मिलता है। प्राचीन ग्रंथों में, नारद को तांपुरा का आविष्कारक माना गया है, जिसे धातु की पट्टियों पर मौजूद सात तार वाले वाद्य यंत्र के रूप में वर्णित किया जाता है। संगीत की एक प्रोफेसर सुनीरा कासलीवाल के अनुसार, ऋग्वेद और अथर्ववेद (दोनों 1000 ईसा पूर्व), उपनिषद (800-300 ईसा पूर्व) जैसे प्राचीन ग्रंथों में, एक तार वाले वाद्ययंत्र को वाना (Vana) कहा गया, जो बाद में विकसित होकर वीणा बना। प्रारंभिक संस्कृत ग्रंथों में किसी भी तार वाले वाद्य यंत्र को वाना कहा गया है, अर्थात तंत्रीय वाद्य यंत्र में चाहे एक तार हो या अनेक तार, उसमें धातु की पट्टियां हों या न हों, उसे हाथ से बजाया जाए या छड़ से, सभी प्रकार की परिस्थितियों में उसे वाना ही कहा गया है। शास्त्रीय संगीत और प्रदर्शन कला पर सबसे पुराना जीवित प्राचीन हिंदू ग्रंथ “नाट्य शास्त्र” जिसे भरत मुनि द्वारा लिखा गया था, में वीणा का वर्णन मिलता है। यह संस्कृत ग्रंथ, संभवतः 200 ईसा पूर्व और 200 ईस्वी के बीच पूरा हुआ, जिसकी शुरूआत में यह उल्लेख किया गया, कि “जब मनुष्य का गला या कंठ उत्तम या निपुण हो जाता है, तब वह “शरीर वीणा” या शरीर का तंत्रीय वाद्ययंत्र होता है, और ऐसा कंठ, तंत्रीय वाद्ययंत्र और बांसुरी गंधर्व संगीत का स्रोत बन जाते हैं। ऐसे ही कुछ वर्णन हिंदू धर्म के अन्य प्राचीन ग्रंथों, जैसे ऐतरेय आरण्यक के श्लोक 3.2.5 में तथा शंखायन आरण्यक के श्लोक 8.9 आदि में भी मिलते हैं। प्राचीन महाकाव्य महाभारत में ऋषि नारद को एक वैदिक ऋषि के रूप में वर्णित किया गया है, जो "वीणा वादक" के रूप में प्रसिद्ध हैं। आइए, आज इन दो वीडियो के माध्यम से वीणा की कई किस्मों में से दो किस्मों, सरस्वती और रुद्र वीणा की ध्वनि का आनंद प्राप्त करें।

संदर्भ:
https://bit.ly/34thVXt
https://bit.ly/3yWde6P
https://bit.ly/3p0zHeh


RECENT POST

  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id