लाल चीटियों द्वारा दासता का विकास कैसे हुआ और लाल चींटी को लोग क्यों खाना पसंद करते है

रामपुर

 13-05-2021 05:33 PM
तितलियाँ व कीड़े

हर वर्ष गर्मियों में लाल चीटियों के प्रजाति में से फोर्मिका संगुनिआ (Formica singunea) अन्य चीटियों के प्रजाति को पकड़ने के लिए जाती है , वे अन्य चीटियों के घोसलो में घुसपैठ करके वहां के रानी को मारकर वहां के बच्चो (प्यूपा) का अपरहण करके अपने घोसलो में लेकर आती है। ये उन प्यूपा का अपरहण अपने देखभाल एवं रक्षा करने के लिए करती है , ठीक शब्दों में बोले तो दास या गुलाम बनाती है। जब वे प्यूपा नए घोसलो में आते है तो उनको अपने अपरहण के बारे में कोई जानकारी नहीं होती है इसीलिए वे उनके लिए भोजन इकठ्ठा करते है और उनके घोसलो की रक्षा करते है जैसे की वह घोसला उनके खुद का हो। इस प्रकिया ने वैज्ञानिको को सोचने के लिए विवश कर दिया की ऐसे गुलाम व्यवहार कैसे विकसित हुए, पर अब ये नए साक्ष्यों से पता चला की लाल चीटिया अन्य प्रजाति के चीटियों या प्यूपा को अस्थायी पर जीव के रूप में इस्तेमाल किया करती है। वे प्यूपा को अपने घोसलो में रखकर उन्हें अपने बच्चो के देखभाल करने के लिए प्रयोग करती थी।

कई वैज्ञानिको ने इस दासता पद्धति को समझने का प्रयास किया पर किसी को कुछ खास हाथ नहीं लगा | फिर जाकर शोधकर्ता जोनाथन रोमीगुएर (Jonathan Romiguier) और उसके कुछ सहयोगियों ने क्रमबद्ध तरीके से 15 फॉर्मिक (formic) प्रजाति के अनुवांशिक सम्बन्ध का अध्ययन किया तथा एक पेड़ के अलग-अलग शाखाओं पर अन्य प्रजातियों को रखा और अबतक का सबसे शानदार रिपोर्ट तैयार किया , और उन्ही शाखाओं का क्रम बताता है की दासता कैसे विकसित हुई।
यह बात सुनने में जरूर अजीब लगे पर है सच । लाल चींटी की चटनी खाने से मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियां नहीं होती हैं। छत्तीसगढ़ के सभी आदिवासी इलाकों में लाल चींटी के औषधीय गुण के कारण इसकी बहुत मांग हैं।
मीठे फलों के पेड़ पर अपना घोसला बनाने वाली चींटियों की इन इलाकों में बहुत मांग हैं। अपने औषधीय गुण के कारण धीरे-धीरे इसकी मांग बढ़ रही है। लाल चींटियों की चटनी यहां लगने वाले साप्ताहिक बाजारों में बेची भी जा रही हैं। आदिवासी इलाकों में लाल चींटियों से बनाई जाने वाली चटनी को चापड़ा कहा जाता है। लाल चींटी की चटनी को औषधि के रूप में प्रयोग ला रहे आदिवासियों का कहना है कि चापड़ा को खाने की सीख उन्हें अपनी विरासत से मिली है। यदि किसी को बुखार आजाए तो उस व्यक्ति को उस स्थान पर बैठाया जाता है जहां लाल चींटियां होती हैं। चींटियां जब पीड़ित व्यक्ति को काटती हैं तो उसका बुखार उतर जाता है।
प्रायःआम, अमरूद, साल और अन्य ऐसे पेड़ जिनमें मिठास होती है उन पेड़ों पर यह चींटियां अपना घरौंदा बनाती हैं। आदिवासी एक पात्र में चींटियों को एकत्र करते हैं। इसके बाद इनकों पीसा जाता है।नमक, मिर्च मिलाकर रोटी के साथ या ऐसे ही खा लिया जाता है। चींटी में फॉर्मिक एसिड होने के कारण इससे बनी चटनी चटपटी होती है। इसमें प्रोटीन भी होता है।

सन्दर्भ:-
https://bit.ly/3eHMkar
https://bit.ly/3tJlhje
https://bit.ly/3y9BqSL

चित्र संदर्भ
1.लाल चींटी तथा भोजन करते बच्चे का एक चित्रण (Youtube , Unsplash)
2.लाल चींटी की चटनी का एक चित्रण (Youtube)
3.पेड पर लाल चींटी का एक चित्रण (Freepik)



RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id