पिछले दो दशकों में सर्पदंश के कारण भारत में लगभग 12 लाख लोगों की हुई मृत्यु

रामपुर

 06-01-2021 02:00 AM
रेंगने वाले जीव

भारत एक कृषि प्रधान देश है और यहां अधिकतर लोग कृषि पर आधारित हैं। ऐसे में यहां सांप के काटने की घटनाएं आम बात है, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि यहां विश्व भर में सर्पदंश से होने वाली कुल मृत्यु की संख्या का आधा पाया जाता है। एक लेख (जिसका शीर्षक ‘ट्रनडस इन स्नैक्बाइट मॉर्टलिटी इन इंडिया फ्रॉम 2000 टू 2019 इन आ नैशनली रेप्रिज़ेन्टईव मॉर्टलिटी स्टडी (Trends in snakebite mortality in India from 2000 to 2019 in a nationally representative mortality study)) के लेखकों के विश्लेषण से पता चलता है कि 611,483 मौखिक शव परीक्षाओं में 2,833 सर्पदंश से मौतें हुईं और 2000-2019 के मध्य में 87,590 साँप के काटने को आवरण करते हुए एक व्यवस्थित साहित्य समीक्षा की गई। लेखकों ने अनुमान लगाया कि भारत में 2000 से 2019 तक 12 लाख सर्पदंश से हुई मौतों (58,000 प्रति वर्ष की औसत का प्रतिनिधित्व) में लगभग आधे पीड़ित 30-69 आयु वर्ग के और 15 से कम उम्र के एक चौथाई बच्चे थे।
2001-2014 की अवधि के दौरान बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, राजस्थान और गुजरात जैसे राज्यों में कम ऊंचाई वाले घने कृषि क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में 70 प्रतिशत की मृत्यु सर्पदंश की वजह से हुई थी, विशेष रूप से बारिश के मौसम के दौरान जब सांप और मनुष्यों के बीच घर और बाहर अक्सर सामना होता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 2030 तक सर्पदंश के कारण होने वाली मौतों की आधी संख्या को कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया है और इस व्याधि को रोकने और नियंत्रित करने के लिए भारत के प्रयास इस वैश्विक लक्ष्य को काफी हद तक प्रभावित करेंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन का उद्देश्य सर्पदंश के कारण होने वाली मौतों की संख्या और विकलांगता के मामलों को एक कार्यक्रम के माध्यम से प्रभावित करना है जो प्रभावित समुदायों और उनकी स्वास्थ्य प्रणालियों को लक्षित करता है, और सभी स्तरों पर सहयोग, सहभागिता और साझेदारी में वृद्धि के माध्यम से सुरक्षित, प्रभावी उपचार तक पहुंच सुनिश्चित करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के क्षेत्रीय कार्यालयों, वैज्ञानिक और अनुसंधान समुदाय, स्वास्थ्य नींव, वकालत समूहों और हितधारकों के परामर्श से वैश्विक विशेषज्ञों के 28-सदस्यीय सूची द्वारा रणनीति विकसित की गई थी। रोकथाम, बेहतर सामुदायिक शिक्षा और सशक्तीकरण और प्रभावी पहली प्रतिक्रिया के महत्व को देखते हुए, रणनीति इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आकर्षक समुदायों को शामिल करती है। इसका एक केंद्रीय उद्देश्य सर्पविषरोधी (Anti-venoms) और सहायक चिकित्सा देखभाल जैसे सुरक्षित, प्रभावी और सस्ते उपचार तक पहुंच को सुनिश्चित करना है। सर्पदंश के इलाज के लिए आवश्यक जीवनरक्षक सर्पविषरोधी और अन्य वस्तुओं के उत्पादन, आपूर्ति और आपूर्ति में सुधार और मजबूती प्रदान की जाएगी। साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन नए उपचारों, नैदानिकी और स्वास्थ्य उपकरण सफलताओं पर शोध को प्रोत्साहित करने के लिए भी काम करेगा जो पीड़ितों के लिए उपचार के परिणामों में सुधार कर सकते हैं।
हालांकि, कुछ ही महीनों बाद, चल रहे कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी से प्रतिबंध ने नियोजित विश्व स्वास्थ्य संगठन के आरंभिक कार्यक्रमों सहित सभी स्तरों पर सर्पदंश संबंधी परियोजनाओं और गतिविधियों को बाधित कर दिया। दुख की बात है कि कोविड-19 (Covid-19) की पृष्ठभूमि के सामने, सांप का काटना अभी भी खतरनाक दर पर मृत्यु और विकलांगता का कारण बना हुआ है। जैसे-जैसे समुदाय तेजी से नेतृत्व कर रहे हैं और महामारी से निपटने के लिए व्यवस्था कर रहे हैं, वे सामुदायिक स्वास्थ्य प्रणालियों में निवेश के लिए भी एक परीक्षण करते हैं। वहीं सर्पदंश से होने वाली मौतों को कम करने के लिए भारत सरकार की रणनीति सफल होने के लिए सटीक सर्पदंश विवरण आवश्यक हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3od1c36
https://bit.ly/2X7R3Zk
https://haiweb.org/covid-19-snake/
चित्र संदर्भ:
मुख्य तस्वीर में सांप के काटते हुए हाथ को दिखाया गया है। (Wikimedia)
दूसरी तस्वीर में सांप चूहे को काटते हुए दिखाया गया है। (Pxhere)
तीसरी तस्वीर में सांप काटने की कोशिश करते दिखाया गया है। (Wikimedia)


RECENT POST

  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id