क्या भारत की मूल मिठाई है खाजा?

रामपुर

 05-01-2021 02:09 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

मिठाई किसी भी समारोह, पूजा-पाठ, शादी के अवसरों में एक अहम भूमिका निभाती है, कोई भी उत्सव बिना मिठाई के तो पूरा हो ही नहीं सकता है। ऐसे ही रामपुर की मिठाई की दुकानों, त्योहारों और मेलों आदि में पाई जाने वाली स्वादिष्ट मिठाई खाजा की उत्पत्ति अवध राज्य के पूर्वी हिस्सों और आगरा और अवध के पूर्व संयुक्त प्रांत से हुई थी। यह क्षेत्र वर्तमान में उत्तर प्रदेश के पूर्वी जिलों और बिहार के पश्चिमी जिलों से मेल खाता है और ओडिशा राज्य की यह मूल मिठाई है। बिहार की सिलाव खाजा पूरे भारत भर में प्रसिद्ध है जो पेटीज़ (Patties) की तरह दिखती है किन्तु स्वाद में मीठी होती है। सिलाव खाजा को अपने स्वाद, कुरकुरेपन, और बहुपरतों के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। किवदंतियों के अनुसार जब भगवान गौतम बुद्ध अपने अनुयायियों के साथ इस क्षेत्र से गुज़र रहे थे तो उन्होंने इस मिठाई का सेवन किया था। भक्तों की मानें तो इसका नाम भगवान बुद्ध ने ही खाजा रखा।
खाजा को मुख्य रूप से गेंहू के आटे या मैदे और मावे से बनाया जाता है, इसमें ड्राइ फ्रूइट्स (Dry fruits) या अन्य स्टफिंग (Stuffing) के साथ तेल में तला जाता है, फिर चीनी की चाशनी में डुबाया जाता है। यह ओडिशा की बहुत प्रसिद्ध मिठाइयों में से एक है और यह सभी ओडिया लोगों की भावनाओं से संबंधित है। इसे जगन्नाथ मंदिर, पुरी में प्रसाद के रूप में भी परोसा जाता है। बिहार के सिलाओ और राजगीर का खाजा लगभग पूरी तरह से बाकलावा के समान है। बाकलावा एक तुर्क की मिठाई है जिसे पेस्ट्री की परतों के अंदर कटे हुआ नट (Nuts – बादाम आदि) की स्टफिंग करके बनाया जाता है और चाशनी या शहद की मदद से मीठा किया जाता है। यह दक्षिण काकेशस (South Caucasus), बाल्कन (Balkans) और मध्य एशिया (Central Asia) के साथ-साथ ईरानी (Iranian), तुर्की (Turkish) और अरब (Arab) व्यंजनों, और लेवंत और माघरेब के अन्य देशों की एक आम मिठाई है। भारत में ज्यादातर लोगों को पहली बार बाकलावा खाने का मौका तब मिला था जब एक व्यक्ति तुर्की से छुट्टी से लोटा था और अपने साथ बाकलावा लेकर आया था। उसके बाद से लोगों द्वारा उत्सव के दौरान या उपहार के रूप में इसे भेंट करने लग गए। धीरे धीरे यह शादी के निमंत्रण के साथ, मिठाई की मेज पर और दुकानों में अलमारियों पर दिखाई देने लगा। कोरोनावायरस (Coronavirus) तालाबंदी के दौरान, मुस्लिम उपवास का महीना रमजान भी शुरू हो गया था, इस बीच पेस्ट्री की दुकानों को भी छूट मिली क्योंकि तुर्की के लोग बिना बाकलावा मिठाई के रमजान में नहीं रह पाए। वहीं सिलाव का खाजा अपने स्वाद, कुरकुरापन और बहुस्तरीय उपस्थिति के लिए जाना जाता है जिसका श्रेय स्थानीय जल और सिलाओ की जलवायु को जाता है। यहाँ की खाजा मिठाई को दिसम्बर 2018 में भौगोलिक संकेतक रजिस्ट्री द्वारा भौगोलिक संकेत टैग (जिसे जी. आई (G.I.) टैग(Tag)) कहा जाता है दिया। भौगोलिक संकेत मुख्य रूप से किसी विशिष्ट उत्पाद को दिया जाता है जो किसी भौगोलिक क्षेत्र में कई वर्षों से बन रहा हो। सिलाव में 60 से भी अधिक दुकानें सिलाव खाजा को कई वर्षों से बना रही हैं। इस मिठाई को बनाने के लिए गेंहू का आटा या मैदा, चीनी, इलायची, घी आदि का उपयोग किया जाता है। सिलाव खाजा की प्रत्येक 28 ग्राम में 158 कैलोरी, 11 ग्राम वसा, 13 ग्राम कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate), 2 ग्राम प्रोटीन (Protein) आदि पोषक तत्व मौजूद होते हैं। आम तौर पर, 12 से 15 दिनों के भीतर सिलाव खाजा खराब नहीं होता है। जबकि बारिश के मौसम में यह मिठाई जल्दी खराब हो सकती है।

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Khaja
https://en.wikipedia.org/wiki/Baklava
https://www.quora.com/Was-Khaja-originated-from-Bihar
https://bit.ly/2X3fM18
https://bit.ly/2MtWrE9
https://bit.ly/2MqOiAl
चित्र संदर्भ:
मुख्य चित्र में खाजा दिखाया गया है। (Wikimedia)
दूसरी तस्वीर बाकलावा दिखाती है। (Wikimedia)


RECENT POST

  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id