चक्रवात का पूर्वानुमान लगा कर बचाई जा सकती है कई जानें

रामपुर

 02-12-2020 09:40 AM
जलवायु व ऋतु

विश्व भर में कई विशेषज्ञ उष्णकटिबंधीय चक्रवात पूर्वानुमान केंद्र मौजूद हैं। ये केंद्र उष्णकटिबंधीय चक्रवातों का पता लगाने और उन्हें समझने के लिए उपग्रह चित्रों, विभिन्न मौसम उपकरणों और कंप्यूटर (Computer) आधारित भविष्यवाणी प्रतिरूपण का उपयोग करते हैं। जब उष्णकटिबंधीय तटीय क्षेत्रों को प्रभावित करने वाले उष्णकटिबंधीय चक्रवातों की भविष्यवाणी की जाती है, तब केंद्र चेतावनी जारी करता है, यह चेतावनियाँ स्थानीय अधिकारियों को उष्णकटिबंधीय चक्रवात के रास्ते में होने की संभावना की जानकारी देता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि सार्वजनिक सुरक्षा के लिए तैयारी की जा सके। चेतावनियों को टीवी (T.V), रेडियो (Radio) और स्मार्ट फोन (Smart Phone) पर प्रसारित करके लोगों को सावधान किया जाता है और अतिसंवेदनशील तटीय क्षेत्रों के लोगों को आमतौर पर अपनी संपत्ति को सुरक्षित करके उस स्थान से दूर जाने की सलाह दी जाती है। वहीं हाल ही में उष्णकटिबंधीय चक्रवात निवार (Nivar) ने तमिलनाडु-पुडुचेरी तट में भूस्खलन करने के ठीक एक दिन बाद, बंगाल की खाड़ी में एक और तूफान विकसित हो सकता है। यदि यह विकसित होता है, तो तूफान तमिलनाडु और पुडुचेरी की ओर बढ़ सकता है और 2 दिसंबर को तट से टकरा सकता है।
भारत भूकंप, बाढ़, सूखा, चक्रवात और भूस्खलन जैसे प्राकृतिक खतरों के लिए अत्यधिक संवेदनशील है। मौसम विभाग के अनुसार, 13 तटीय राज्य हैं और भारत में केंद्र शासित प्रदेश चक्रवात प्रवण क्षेत्र हैं। पश्चिम तट पर चार राज्य जैसे पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, तमिलनाडु और पुडुचेरी और पश्चिमी तट पर गुजरात अधिक असुरक्षित हैं। प्रत्येक वर्ष समुद्र से वायुमंडल में कई मेगाटन (Megaton) परमाणु बमों के बराबर चक्रवात ऊर्जा का स्थानांतरण होता है और हर साल, लगभग 70 से 90 चक्रवाती प्रणाली दुनिया भर में विकसित होते हैं। कोरिओलिस (Coriolis) बल जो सतह की हवाओं को कम दबाव प्रणाली की ओर घूमने के लिए मजबूर करता है। जैसा कि कोरिओलिस बल 5 डिग्री (Degree) उत्तर और 5 डिग्री दक्षिण में अक्षांशों के बीच भूमध्यरेखीय क्षेत्र में बहुत कम है, इस क्षेत्र में चक्रवाती प्रणाली विकसित नहीं होते हैं। आमतौर पर चक्रवात कम दबाव वाले क्षेत्र में उत्पन्न होते हैं। स्थलाकृति और तीव्रता के साथ-साथ किसी तट पर हमला कर सकने वाली चक्रवात की आवृत्ति उस स्थान की भेद्यता को तय करती है। गर्म, बढ़ते और ठंडे वातावरण के बीच तापमान का अंतर हवा के बढ़ने के कारण और अधिक बढ़ जाता है और फिर ऊपर की ओर बढ़ता है। फिर उच्च दबाव वाला क्षेत्र कम दबाव वाले क्षेत्र में हवा को भर देता है। यह चक्र गर्म हवा के उठने और उस क्षेत्र में ठंडी हवा के भरने तक जारी रहता है। गर्म, नम हवा ऊपर उठती है और हवा में मौजूद पानी को ठंडा करती है, जिससे बादलों का निर्माण होता है। समुद्र की गर्मी और समुद्र की सतह से वाष्पित हो रहे पानी से बादलों और हवाओं की पूरी प्रणाली घूमती है और बढ़ती है।
चक्रवात के गठन के लिए छह कारक जिम्मेदार हैं:
(1) समुद्र की सतह पर पर्याप्त गर्म तापमान
(2) वायुमंडलीय अस्थिरता
(3) कोरिओलिस बल का प्रभाव क्षेत्र ताकि कम दबाव विकसित किया जा सके
(4) क्षोभमंडल के निचले से मध्य स्तरों में उच्च आर्द्रता
(5) पहले से मौजूद निम्न-स्तरीय केंद्र या उपद्रव।
जैसा की हम अभी ऊपर उष्णकटिबंधीय चक्रवात निवार की बात कर रहे थे, क्या कभी आपके मन में यह प्रश्न उत्पन्न हुआ है कि चक्रवात को नाम कैसे दिया जाता है? दरसल 2000 में, विश्व मौसम संगठन और और संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग के लिए एशिया और प्रशांत बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों को एक औपचारिक तरीके से नाम देने के लिए एक समझौते पर पहुंचे, और इस पैनल (Panel) के सदस्य बांग्लादेश (Bangladesh), भारत, मालदीव (Maldives), म्यांमार (Myanmar), ओमान (Oman), पाकिस्तान (Pakistan), श्रीलंका (Sri Lanka) और थाईलैंड (Thailand) ने 13 नाम दिए हैं। 2018 में ईरान (Iran), कतर (Qatar), सऊदी अरब (Saudi Arabia), संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates) और यमन (Yemen) को भी पैनल (Panel) में जोड़ा गया। निवार, अप्रैल में जारी की गई सूची (जिसमें चक्रवातों के 169 नाम हैं, 13 देशों के प्रत्येक 13 सुझावों का संकलन है) में से एक नाम है। कुछ चक्रवात के नाम जैसे आइला (Aila), माया (Maya), नरगिस (Nargis), नीलोफर (Nilofer) लोगों के नामों की तरह लग सकते हैं, लेकिन वे वास्तव में घातक चक्रवात के नाम हैं, जो बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से सटे क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर विनाश और जीवन की हानि करते हैं। चक्रवातों के नामकरण असंवेदनशील या तरुण लग सकते हैं, लेकिन नामकरण चक्रवातों का प्रचलन कई शताब्दियों पहले हुआ है, जब आमतौर पर रोमन कैथोलिक (Roman Catholic) संतों के नाम पर चक्रवातों का नामकरण किया जाता था। हालांकि चक्रवात को मुख्य रूप से एक चक्रवात को दूसरे से अलग करने के लिए नामित किया जाता है, नामकरण प्रणाली में हमेशा इसका एक स्वरूप होता है।
उदाहरण के लिए 1834 के पड्रे-रुइज़ (Padre-Ruiz) तूफान का नाम डोमिनिकन (Dominican) गणराज्य में एक कैथोलिक संत के नाम पर रखा गया था, जबकि 1876 में सैन फेलिप (San Felipe) तूफान का नाम कैथोलिक पादरी के नाम पर रखा गया था। 1944 में, सिपन वेदर सेंटर (Saipan Weather Center) में संयुक्त राज्य अमेरिका के सेना की वायु सेना के पूर्वानुमानकर्ताओं ने अपनी पत्नियों या प्रेमिका के नाम पर आंधी या तूफान का नाम रखा। हालाँकि, संयुक्त राज्य अमेरिका के वेदर ब्यूरो (Weather Bureau) ने अटलांटिक तूफान के नामकरण के विचार को छोड़ने का फैसला किया क्योंकि उन्हें लगा कि यह मूर्खतापूर्ण, उपेक्षा और अनुचित है। लेकिन जब अगस्त और सितंबर 1950 में, तीन उष्णकटिबंधीय चक्रवात एक साथ आए और संयुक्त राज्य अमेरिका को प्रभावित किया, तो इसने मीडिया (Media) और जनता को भ्रमित कर दिया। इसने सार्वजनिक बयानों और विवरणों में चक्रवातों के नामकरण के अभ्यास को प्रेरित किया।
वहीं तीन साल बाद, 1953 में, आधिकारिक तौर पर चक्रवातों का नाम रखने के लिए महिलाओं के नामों का उपयोग करने की प्रथा अस्तित्व में आई। अमेरिका के मौसम संस्था ने चक्रवातों के नामकरण के लिए कुछ अक्षरों को छोड़कर A से W तक एक नई ध्वन्यात्मक वर्णमाला प्रणाली को अपनाया, लेकिन केवल महिलाओं के नामों के उपयोग के खिलाफ लोगों द्वारा विरोध किया गया, जिसे देखते हुए प्रणाली को संशोधित किया गया और पुरुषों का नाम भी शामिल करने की अनुमति दी गई। नाम को स्वीकार्य तभी जाता है जब वे मौलिक मानदंडों को पूरा करते हैं, जैसे प्रसारण के समय नाम छोटा और आसानी से समझा जाना चाहिए। नाम सांस्कृतिक रूप से संवेदनशील नहीं होना चाहिए या कुछ अनपेक्षित और संभावित रूप से भड़काऊ अर्थ व्यक्त न करता हो। साथ ही तूफान को प्रत्येक देशों में विभिन्न नाम से जाना जाता है जैसे, दक्षिण प्रशांत और हिंद महासागर पर तूफान को चक्रवात के रूप में जाना जाता है। उत्तरी अटलांटिक, मध्य उत्तरी प्रशांत और पूर्वी उत्तरी प्रशांत महासागर में हरिकेन (Hurricane) शब्द का उपयोग किया जाता है। उत्तर पश्चिमी प्रशांत महासागर में इसी प्रकार की उपद्रव को आंधी (Typhoon) कहा जाता है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3mmAgwJ
https://www.deccanherald.com/specials/cyclone-nivar-how-cyclones-are-named-919371.html
https://www.bbc.co.uk/bitesize/guides/z9whg82/revision/3

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में चक्रवात के सांकेतिक चित्र को दिखया गया है। (Freepix)
दूसरे चित्र में चक्रवात से होने वाली तबाही का सांकेतिक चित्रण दिखाया गया है। (Freepix)
तीसरे चित्र में चक्रवात और तेज़ बारिश को दिखाया है। (Pixabay)


RECENT POST

  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id