विश्व के सभी खट्टे फलों का जन्मस्थल हिमालय है

रामपुर

 30-11-2020 09:14 AM
साग-सब्जियाँ

सर्दियों के महीनों की सबसे खास बात तो यह होती है कि इस समय खट्टे फल काफी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। संपूर्ण वर्ष में यह सबसे बेहतर समय में से एक है, इस समय अच्छी धूप के साथ ताजे कटे हुए संतरे या अंगूर की तुलना किसी अन्य फल या सब्जी के साथ नहीं की जा सकती है। बेशक खट्टे फलों की कई किस्में साल भर मौजूद होती हैं, लेकिन सर्दियों के महीनों के दौरान वे काफी स्वादिष्ट होते हैं और प्रचुर मात्रा में होने की वजह से इस समय ये काफी अच्छे दामों में मिल जाते हैं। इसके अलावा खट्टे फलों की कुछ ऐसी किस्में (कारा कारा नैवल संतरे (Cara Cara Navel Oranges), मैंडरिन संतरे (Mandarin Oranges), क्लेमेंटाइन (Clementines) और प्यूमेलोस (Pummelos)) भी हैं जो केवल इसी मौसम में देखी जा सकती हैं। ताजे और स्वादिष्ट होने के अलावा खट्टे फल विटामिन सी के उत्कृष्ट स्रोत होते हैं, जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और बीमारियों से लड़ने में हमारी मदद करते हैं। यह ठंड और फ्लू के मौसम के दौरान विशेष रूप से सहायक है। खट्टे फल फाइबर का एक बड़ा स्रोत है, जो पाचन में सहायता करता है और आपको भरा हुआ महसूस कराता है।
खट्टे फल दक्षिण एशिया, पूर्वी एशिया, दक्षिण पूर्व एशिया, और ऑस्ट्रेलिया में मूल रूप से पाए जाते हैं। प्राचीन काल से इन क्षेत्रों में विभिन्न खट्टे फलों की प्रजातियों का उपयोग किया गया है। वहां से इसकी खेती औस्ट्रोनेशी (Austronesian) प्रसार (3000-1500 ईसा पूर्व) द्वारा माइक्रोनेसिया (Micronesia) और पोलिनेशिया (Polynesia) और धूप के व्यापार मार्ग के माध्यम से मध्य पूर्व और भूमध्य सागर में फैल गई। वहीं जीनोमिक (Genomic – डीएनए (DNA) का अध्ययन), जातिवृत्तीय (विकास का अध्ययन) और जैव-भौगोलिक (समय के माध्यम से प्रजातियों के प्रवास और वितरण का अध्ययन) के अध्ययनों ने अब साबित कर दिया है कि आज उपलब्ध सभी खट्टे फलों की प्रजातियां विशेष रूप से हिमालय के दक्षिण-पूर्वी तलहटी, असम के पूर्वी क्षेत्र, उत्तरी म्यांमार और चीन में पश्चिमी युन्नान से आई हैं। 15 से अधिक वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय समूह ने नींबू, संतरे और अंगूर सहित खट्टे फलों की 60 विभिन्न प्रजातियों का अध्ययन किया, और निष्कर्ष निकाला कि फल के मूल रूप से सिर्फ तीन पूर्वज थे। भारत में उपलब्ध प्रसिद्ध खट्टे फल मेयर नींबू (Meyer Lemon), क्लेमेंटाइन, लाल संतरा, गलगल, चकोतरा, टंगर (Tangor) और हैंड ऑफ बुद्धा (Hand of Buddha) हैं। भारत में उपलब्ध खट्टे फलों की शीर्ष किस्में निम्न हैं :- मौसम्बी : उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय जलवायु में उगने वाला मौसम्बी फल काफी रसीला और खट्टा मीठा होता है। यह भारत में पाए जाने वाले खट्टे फलों के जूस में से सबसे आम है। संतरा : संतरा खट्टे वंश के मीठे संतरे समूह से प्राप्त होने वाला फल है और भारत में सबसे महत्वपूर्ण कृषि उत्पाद है, विशेष रूप से नागपुर और कूर्ग। ब्राजील (Brazil) और चीन (China) के बाद भारत दुनिया में संतरे का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।
नागपूर संतरा : नागपूर संतरा भारत में संतरे की सबसे उत्कृष्ट किस्म है, जिसे महाराष्ट्र के नागपुर शहर में उगाया जाता है। कूर्ग संतरा : इसे कूर्ग मंदारिन के रूप में भी जाना जाता है, कर्नाटक के कोडागु में उगाया जाता है। किननो (Kinnow) : यह किंग संतरे (King Orange) और मैंडरिन संतरे (Mandarin Orange) से उत्पन्न खट्टा फल है, इसमें उच्च रस की मात्रा होती है। भारत के बाजारों से संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates), नीदरलैंड (Netherlands) और फिलीपींस (Philippines) के लिए किननो के फलों का निर्यात किया जाता है। मैंडरिन संतरे : यह फल आकार में छोटा होता है और उच्च मात्रा में चीनी होने की वजह से ये स्वाद में कम खट्टा और ज्यादा मीठा होता है। कीनू : कीनू एक अन्य नारंगी रंग का खट्टा फल है और इसे मैंडरिन संतरे के संकर के रूप में जाना जाता है, जो आकार में छोटा और मीठा और मजबूत होने के साथ कम खट्टा होता है। नींबू : ऐसा माना जाता है कि नींबू को सर्वप्रथम असम में उगाया गया था और भारत नींबू और कागजी नींबू का सबसे बड़ा उत्पादक है। छोटा सदाबहार वृक्ष उत्तर पूर्वी भारत का मूल है और मणिपुर (Manipur) राज्य में कछाई भारत में बड़े पैमाने पर नींबू के रोपण और उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है। गलगल : गलगल एक बड़ा सुगंधित खट्टा फल है, जिसका व्यापक रूप से भारतीय व्यंजनों के साथ-साथ पारंपरिक दवाओं में भी उपयोग किया जाता है। यह उत्तराखंड में पूर्वी हिमालय की तलहटी की घाटी में मूल रूप से पाया जाता है। अंगूरफल : कैलिफोर्निया (California), टेक्सास (Texas), फ्लोरिडा (Florida) और एरिज़ोना (Arizona) से अंगूरफल जनवरी के महीने में पाए जाते हैं और गर्मियों की शुरुआत तक मौजूद रहते हैं। कीवी : कीवी का फल बेल पर उगता है और इन्हें सर्दियों के अंत में और वसंत की शुरुआत में काटा जाता है। आंशिक रूप से छाल में निहित फ्लेवोनोइड (Flavonoids) और लिमोनोइड्स (Limonoids) और अधिकांश रस से भरे होने के कारण खट्टे फल उनकी खुशबू के लिए उल्लेखनीय हैं। रस में उच्च मात्रा में साइट्रिक एसिड (Citric Acid) और अन्य जैविक अम्ल (Organic Acids) होते हैं, जो उन्हें विशिष्ट तेज स्वाद देते हैं। ये व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि इनके फल के लिए इनकी कई प्रजातियों की खेती की जाती है। वहीं संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के अनुसार, 2016 में सभी खट्टे फलों का विश्व उत्पादन 124 मिलियन टन था, जिसमें से लगभग आधा हिस्सा संतरे के रूप में था। 2019-20 में, ब्राजील (Brazil), मैक्सिको (Mexico), यूरोपीय संघ (European Union) और चीन (China) के सबसे बड़े उत्पादकों के नेतृत्व में संतरे के विश्व उत्पादन का अनुमान 47.5 मिलियन टन था।

संदर्भ :-
http://www.walkthroughindia.com/nursery/top-15-varieties-of-citrus-fruits-available-in-india/
https://bit.ly/3o2QOKM
https://en.wikipedia.org/wiki/Citrus
https://fruitsandveggies.org/stories/beat-the-winter-blahs-with-citrus-fruits/
https://www.thespruceeats.com/winter-fruits-2217203
चित्र सन्दर्भ:
प्रथम चित्र में मौसम्मी और नींबू के पेड़ को दिखाया गया है। (Needpix)
दूसरे चित्र में सभी खट्टे फलों को दिखाया गया है। (Wikimedia)
तीसरे चित्र में खट्टे फलों की अलग-अलग किस्मों को दिखाया गया है। (Prarang)


RECENT POST

  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM


  • रामपुर के निकट कासगंज से जुड़ा द सेकेंड लांसर्स रेजिमेंट के गठनकर्ता विलियम गार्डन का इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:08 PM


  • कोविड 19 के उपचार हेतु लगाए जाने वाले एमआरएनए टीकों से उत्‍पन्‍न समस्‍या
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 08:57 AM


  • भारत में दुनिया में सबसे अधिक एम.बी.ए डिग्री प्राप्तकर्ता हैं, लेकिन फिर भी कई हैं बेरोजगार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-05-2022 08:51 AM


  • निवख समूह के लिए उनके पूर्वज और देवताओं दोनों को अभिव्यक्त करते हैं, भालू
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:31 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id