वाइन और धर्म के बीच संबंध

रामपुर

 25-09-2020 03:23 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

क्रिश्चियन धर्म (Christian) के नए आदेश पत्र (New Testament) में यह अंकित है कि ईसा मसीह का जनता के बीच पहला चमत्कार एक शादी में पानी को वाइन (Wine) में बदलना था। क्रिश्चन समन्वय के धार्मिक अनुष्ठान में यह स्थापित करने का प्रयास है कि कैसे वाइन पीने का आनंद ईश्वर और समाज के स्नेहिल आपसी-संबंध के गठजोड़ से जुड़ जाता है। सदियों से क्रिश्चियन पादरी वाइन बनाने के कौशल को संरक्षित और प्रचारित करने में लगे रहे और वह इस संस्कारित वाइन को नई और पुरानी दुनिया के धर्मावलंबियों में बांटते रहे। रामपुर का चर्च शहर की धरोहर में से एक है। क्रिश्चियन समुदाय के लोग यहां अपने धार्मिक संस्कार जैसे बपतिस्म (Baptism) और रात्रि भोज ( ईसा के अंतिम भोज की स्मृति में) संपन्न करते हैं।
शराब और धर्म का आपसी संबंध 1779 में बेंजामिन फ्रैंकलिन (Benjamin Franklin) ने एबे आंद्रे मोर्लेट (Abbé André Morellet) को पत्र लिखा कि "कोहनी की सामरिक बनावट इसका सबूत है कि ईश्वर की इच्छा है कि हम वाइन पियें। आखिरकार अगर ईश्वर ने कोहनी को हाथ के नीचे बनाया होता तो वाइन का गिलास हमारे मुंह तक पहुंच ही ना पाता। अगर कोहनी ऊपर होती तो शराब का गिलास हमारे होठों से कहीं ऊपर निकल जाता। उसकी वास्तविक बनावट से यह व्यवस्था है कि हम अपनी सहूलियत से वाइन पी सकते हैं। इसी खुशी में एक जाम हो जाए!" फ्रैंकलिन की इस विनोदी टिप्पणी से यह तो जाहिर ही है कि वाइन का संबंध मौज और पूजा दोनों से है।
शराब और धर्म-पुराने साथी 4000 BC में मिस्र में कुछ देवताओं को शराब से जोड़ा गया। मिस्र के वाइन के देवता हाथोर (Hathor) की याद में मासिक स्तर पर डे ऑफ़ इंटोक्सिकेशन (Day of Intoxication ( नशे का दिन)) मनाते थे। इसी संदर्भ में ग्रीक लोग डायोनिसस (Dionysus) को पूजते थे। रोमन इसे बृहस्पति की कृपा मानते थे, जो हवा, प्रकाश और ऊर्जा के देवता थे। एशिया की संस्कृति भी शराब को आध्यात्मिकता से जोड़ती है। चीन और जापान में समृद्धि के देवताओं को शराब का प्रसाद लगाया जाता है। अमेरिकी उपनिवेश में भी वाइन और धर्म के इस अटूट रिश्ते को निभाया जाता है।
ईश्वर का प्रसाद या शैतान का प्याला? वाइन के सेवन और मद्यनिषेध की बहस के कई प्रसंग बहुत दिलचस्प है। मद्यनिषेध के पक्ष में कई कारण थे- आर्थिक सुरक्षा, शराबियों से बच्चों-महिलाओं की सुरक्षा आदि। 1920 से 1933 में मद्यनिषेध तभी लागू हो सका, जब कानून में क्रिस्चियन और यहूदी दोनों समुदायों के लिए शराब के निर्माण का विकल्प रखा गया। मद्यनिषेध के कट्टर समर्थकों ने यह पक्ष रखा कि शास्त्रों में जिस वाइन के सेवन की बात की गई है वह साधारण, बिना किष्वत /खमीरीकृत (non-fermented) अंगूरों का रस है। वैसे किसी ने भी इस तर्क को गंभीरता से नहीं लिया। हालांकि एक मेथोडिस्ट (Methodist) मंत्री से दंत विशेषज्ञ बन गए थॉमस वेल्च (Thomas Welch) ने अपने शराब से विरोध को प्रदर्शित करने के लिए एक प्रक्रिया इजाद की, जिससे वाइन बनाने वाला खमीर (Yeast) अंगूर से हटा दिया जाता है। कोरोना का प्रकोप और क्रिश्चियन मातावलंबी कोरोनावायरस सामाजिक दूरी के निर्देश को क्रिश्चन अनुयायियों ने पूरा सम्मान और सहयोग दिया है। इस संकट की घड़ी में लोगों का धर्म में विश्वास बढ़ा है।

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Eucharist
https://en.wikipedia.org/wiki/Wine#Christianity
https://theconversation.com/let-us-adore-and-drink-a-brief-history-of-wine-and-religion-35308
https://www.americamagazine.org/faith/2020/05/17/social-distancing-and-sacraments-how-coronavirus-pandemic-has-changed-our-sense
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र WINE का है।(canva)
दूसरा चित्र JESUS CHRIST का THANKSGIVING पर wine का होना दिखाता है।(wikipedia)
तीसरा चित्र ईसाई धर्म में WINE पीना आध्यात्मिक गतिविधि से जुड़ा हुआ है दिखाता है।(wikipedia)
चौथा चित्र WINE बोत्तले दिखाता है।(canva)


RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id