दास्तान: पवित्र काबा के सबसे पुराने दरवाजे की

रामपुर

 28-07-2020 06:19 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

5000 साल पहले जब अब्राहम ने अल-काबा का निर्माण किया और हज की आवाज उठाई, मक्का का इतिहास गवाह है कि इसके दरवाजे राजा और शासकों की दिलचस्पी का केंद्र रहे हैं। इतिहासकारों के अनुसार जब मक्का पहली बार बना, काबा में ना छत थी, ना दरवाजा सिर्फ दीवारें थी।

तस्वीरों में काबा के 6 दरवाजे

किताब अकबर मक्का(जिसमें मक्का के बारे में रिपोर्ट है) में अल-अरज़ाकी ने इब्न ज़रीर अल तबरी (ibn Jarīr al-Ṭabarī) का जिक्र किया है। यह कहते हुए कि ऐसा दावा है कि तूबा ने सबसे पहले अल-काबा को ढका। उन्होंने जुर्म जनजाति के प्रमुखों को आदेश दिया कि इसकी मरम्मत करके इसके लिए एक दरवाजा और उसकी चाभी बनाएं। तूबा द्वारा बनवाया लकड़ी का दरवाजा शुरुआती इस्लामी समय तक स्थापित रहा। यह तब तक नहीं बदला गया, जब तक अब्दुल्ला इब्न अल-ज़ुबैर (Abd Allah ibn al-Zubayr) ने 11 हाथ लंबा दरवाजा नहीं बनवा दिया।

दरवाजे में बदलाव

इतिहासकारों का कहना है कि साल 64 AD में दरवाजा बदलने के बाद अब्दुल्ला इब्न अल-ज़ुबैर के समय में दरवाजा दोबारा बना और इसकी ऊंचाई 6 हाथ हो गई। 1045 AD में यह फिर बदला। 2000 पाउंड के चांदी के गहने दरवाजे में लगाए गए और दरवाजे को सोने से पेंट किया गया। यह मुराद IV के कार्यकाल में हुआ। चांदी सोना जडा यह पहला दरवाजा था, जो कि 1356 AD तक बरकरार रहा। आजकल यह दरवाजा लॉवरे म्यूजियम(Louvre Museum), अबू धाबी में संरक्षित है। टूबा के बाद यह चौथा दरवाजा था।

सऊदी शासन के दरवाजे

तीन शताब्दियों बाद, सऊदी अरब के संस्थापक, बादशाह अब्दुल अजीज अल सौद (Abdulaziz Al Saud) ने 1363 AD में नया दरवाजा अपने खर्च से बनवाया। ऐसा बादशाह अब्दुल अजीज पब्लिशिंग हाउस के ऐतिहासिक दस्तावेज में जिक्र है। इस दरवाजे को बनाने में 3 साल लगे। इसका आधार धातु का था और उस पर दो लकड़ी के शटर लगाए गए थे। चांदी और तांबे से इसकी सजावट हुई और सोने की परत चढ़ाई गई।

आखिरी दरवाजा

वर्तमान में काबा में जो दरवाजा है, वह सोने का है और उसको बनाने का आदेश बादशाह खालिद बिन अब्दुल अजीज (Khalid bin Abdulaziz) ने सुनार अहमद बिन इब्राहिम बद्र (Ahmad bin Ibrahim Badr) को दिया था। 99.99% गुणवत्ता का 280 किलोग्राम सोना दरवाजों में लगा है। सोने की कीमत को छोड़कर, इसकी कुल लागत 13 मिलियन सऊदी रियाद थी।

दरवाजे की एक और कहानी

2017 में साउथ कोरिया के सियोल (Seoul) में लगी एक प्रदर्शनी में सऊदी अरब के ऐतिहासिक स्थलों के नमूनों के साथ-साथ इस्लाम के पवित्र काबा के सबसे पुराने दरवाजे की झलक दर्शकों को देखने को मिली। यह दरवाजा 1630 में ऑटोमान (Ottoman) के सुल्तान मुराद IV ने 400 साल पहले बनवाया था। दरवाजे की कहानी मक्का के प्रिंस इदरीस बिन हसन(Idrīs ibn Ḥasan) के समय से ताल्लुक रखती है, जब मक्का में बाढ़ आई थी। भारी बारिश से पवित्र मस्जिद अल-काबा की आधी दीवार तक धंस गई थी, जिससे उत्तरी दीवार ढह गई थी। पूर्वी दीवार जो दरवाजे को थामे थी, वह भी बारिश से कमजोर हो गई। मक्का के प्रिंस ने सुल्तान मुराद IV से बात की। सुल्तान ने मिस्र के गवर्नर को हुकुम दिया कि काबा की फ़ौरन मरम्मत की जाए। पूर्वी दीवार काफी कमजोर हो गई थी इसलिए उसे हटा दिया गया। सुल्तान मुराद IV ने मिश्री इंजीनियरों को बुलवाकर नया दरवाजा तैयार करवाया, जो कि बिल्कुल पुराने दरवाजे की तरह था। 1630 AD में लगा नया दरवाजा 1947 तक चला।

सन्दर्भ:
https://www.islamiclandmarks.com/makkah-haram-sharief/door-of-kabah (Inscription meanings)
https://www.academia.edu/28981712/Inscribing_the_Hajj
(Pg no. 159 and 161 Inscriptions meanings) http://english.alarabiya.net/en/life-style/art-and-culture/2017/05/09/The-story-behind-the-oldest-door-of-al-Kaaba.html
http://english.alarabiya.net/en/variety/2018/12/26/Oldest-out-of-six-Kaaba-doors-tours-the-world.html

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में काबा का दरवाज़ा और श्रद्धालु दिखाए गए हैं। (Pexels)
दूसरे चित्र में काबा का वर्तमान चित्रण है। (Youtube)
अंतिम चित्र पैगंबर मुहम्मद द्वारा काले पत्थर को अल-काबा में स्थान देने पर हुए विवाद को हल करने के दौरान की घटनाक्रम का चित्रण है।(Wikimedia)


RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id