कोविड-19 के प्रभावों के साथ भविष्य में होंगे अनेकों स्थायी परिवर्तन

रामपुर

 19-05-2020 09:30 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

कोविड-19 (COVID-19) से बचाव के लिए पूर्ण रूप से तैयारी करने से पहले ही कोविड-19 ने पूरी दुनिया को प्रभावित कर लिया है। कोरोना विषाणु पहले एक स्वास्थ्य महामारी के रूप में शुरू हुआ था, लेकिन इसका प्रकोप हमारे जीवन और काम करने के तरीके में लंबे समय तक रहने वाले परिवर्तन पैदा करेगा। विषाणु के प्रभाव को रोकने के लिए हम तालाबंदी और अन्य उपायों के बारे में सुन रहे हैं किंतु इसी दौरान व्यवसायों को जो संपार्श्विक क्षति हुई है, वह अभूतपूर्व है। विशेषज्ञ विश्लेषण से स्पष्ट रूप से पता चला है कि कोई भी इस प्रभाव के लिए तैयार नहीं था, क्योंकि यह बहुत जल्दी हुआ और एक लहर की तरह फैल गया जोकि पूरी तरह से नियंत्रण से बाहर हो गया। जबकि सरकारें और नागरिक इस अभूतपूर्व तबाही से बाहर आने के रास्ते तलाश रहे हैं, वहीं विशेषज्ञ नौकरियों के भविष्य पर कोविड-19 के प्रभाव का विश्लेषण कर रहे हैं। कोरोना विषाणु के ऐसे कई महत्वपूर्ण प्रभाव होंगे, जिससे व्यवसायों और अन्य क्षेत्रों में कई बडे बदलाव होने की सम्भावना है. उदाहरण के लिए पूर्णकालिक नौकरियां कम हो जाएंगी तथा गिग (Gig) अर्थव्यवस्था का उदय होगा। अब जब कंपनियों (Companies) को यह पता चल चुका है कि, कर्मचारी घर से भी आसानी से काम कर सकते हैं, इसलिए अधिकारी इस व्यवहार को आगे भी प्रोत्साहित कर सकते हैं। यह बहुत स्पष्ट है कि वे नौकरियां जो किसी भी व्यवसाय के लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं या यूं कहें कि जिनसे व्यवसाय को कोई भी फायदा नहीं होता वह तुरंत समाप्त हो जायेंगी। कंपनियां फ्रीलांसरों (Freelancers) और संविदात्मक कर्मचारियों को काम पर रखने के लिए अधिक कदम उठाएंगी तथा अपने निर्धारित खर्च को कम करने की कोशिश करेंगी। रिमोट (Remote) और डिजिटल (Digital) कार्यिकी को नया मानदंड बनाया जायेगा जिससे लंबे समय के लिए सामूहिक रिमोट कार्यिकी (Mass remote working) दूरस्थ काम करने में लोगों को अधिक परिपक्व बना देगी। यह लोगों के व्यवहार और कंपनियों से अपेक्षाओं को भी बदल देगी। अच्छे अनुभव के साथ न केवल दूरस्थ काम करने के लिए बल्कि दूरस्थ शिक्षा के लिए भी तकनीकी में काफी सुधार होगा। लंबी अवधि के लिए स्वीकृत मानदंड के रूप में अधिक लोग सामाजिक दूरी को प्रोत्साहित करने के लिए कार्यस्थलों से दूर रहकर अपने घर से काम करेंगे। कम्पनियों द्वारा दिया जाने वाला वेतन अनिश्चित हो जाएगा।

वित्तीय संकट की स्पष्ट प्रतिक्रिया लागत में कटौती कर रही है, इसलिए कंपनियां अपने साधनों से परे कर्मचारियों की देखभाल का बोझ उठाने में सक्षम नहीं होंगी। मूल्य धारणा बढ़ेगी और हर स्तर पर वास्तविक मूल्य की मांग की जाएगी। स्पष्ट रूप से तीन मूल्य होंगे जो कंपनियां नौकरी निर्माण से पहले निर्धारित करेंगी। पहला राजस्व बढ़ाने के लिए जवाबदेही, दूसरा लागतों का अनुकूलन करने के लिए जवाबदेही, तथा तीसरा मूल्य-वर्धित विनियमन और शासन प्रदान करने की जवाबदेही। भविष्य में विभिन्न प्रकार के नए रोजगार सृजित होने की भी सम्भावना है। इस संकट की स्थिति ने लाखों लोगों को बेरोजगार कर दिया है, लेकिन लोगों को फिर से नया रोजगार प्राप्त हो सकता है। जैसे कोविड-19 के साथ, स्वास्थ्य देखभाल और सुरक्षा क्षेत्रों को जबरदस्त बढ़ावा मिलेगा और अधिक नौकरियां पैदा होंगी। डिजिटल अर्थव्यवस्था को एक बड़ा बढ़ावा मिलेगा और प्रौद्योगिकी पेशेवरों के लिए अधिक नौकरियां पैदा होंगी। एक बड़ा परिवर्तन जो होगा, वह है 'स्थानीयकरण'। यात्रा और वैश्विक व्यापार के कम हो जाने की संभावनाओं के साथ, स्थानीय अर्थव्यवस्थाएं जो बड़े पैमाने पर वैश्वीकरण द्वारा नष्ट हो गयी थीं, फिर से उभरेंगी और छोटे रोजगार के अवसर पैदा करेंगी। कौशलों का फिर से निर्माण होगा तथा ई-लर्निंग (E-Learning) को तेजी से अपनाया जायेगा। एक व्यक्ति जिसे रोजगार की आवश्यकता होगी, वह सम्बंधित नए कौशल को जल्दी से सीखने में सक्षम होगा। लगभग हर व्यवसाय को किसी न किसी तरह से नए उभरते रुझानों और वैश्विक ताकतों को समायोजित करने की आवश्यकता होगी। कौशलों का फिर से निर्माण तथा ई-लर्निंग नये मानदंड होंगे, जो ई-लर्निंग उपकरण और प्लेटफार्मों (Platforms) को तेजी से अपनाये जाने में सहायता करेंगे। नए स्नातकों से खुद से ही प्रशिक्षण प्राप्त करने और तैयार होने की उम्मीद की जायेगी अर्थात नौकरी के इच्छुक स्नातकों को नौकरी के लिए खुद से ही तैयार होना होगा। नए स्नातकों को अनुभवी लोगों (जो अब नई नौकरियों की तलाश करेंगे और कम वेतन स्वीकार करने के लिए भी तैयार होंगे) से अतिरिक्त प्रतिस्पर्धा करनी पडेगी। चूंकि सरकारी अधिकारियों ने संघीय और राज्य स्तरों पर - नागरिकों को घर पर रहने के लिए कहा है यहां तक कि स्कूलों को भी बंद कर दिया है, इसलिए गैर-आवश्यक व्यवसाय बंद हो जायेंगे। घर पर काम करने और पढ़ाई करने वाले लगभग सभी लोगों के साथ, सहकर्मियों और मित्रों के संपर्क में रहने के लिए ऑनलाइन वीडियो कॉल (Online video call) का सहारा लिया जा रहा है। घर पर कार्य करने से कर्मचारी अब अपने छोटे बच्चों को देख सकते हैं, परिवार के बड़े या बीमार सदस्यों की देखभाल कर सकता है तथा अन्य महत्वपूर्ण कार्यक्रमों में भाग ले सकता है। कॉलेज ट्यूशन (College tuition) आसमान को छुएंगे और नियंत्रण से बाहर हो जायेंगे। केवल बहुत अमीर और गरीब-जो वित्तीय सहायता प्राप्त करते हैं, वे ही यहां उपस्थित होने में सक्षम होंगे। मध्यम वर्ग के बच्चों को और भी बड़े ऋण भार वहन करने होंगे।

ऑनलाइन शिक्षा, शिक्षा का एक व्यवहार्य साधन साबित होगी। हालांकि यह वर्तमान में भी मौजूद है, किंतु अनुपातं भविष्य में इसका उपयोग आसमान की ऊंचाईयों को छूयेगा। इसका उपयोग पारंपरिक स्कूली शिक्षा के संयोजन में किया जाएगा। कॉलेज की लागत में भी भारी गिरावट आ सकती है क्योंकि ऑनलाइन तरीकों को शिक्षण साधन के रूप में छात्र अधिक पसंद करेंगे। अगर कई हाई स्कूल स्नातक, व्यवसायों में प्रवेश करने का निर्णय लेते हैं तो यह आश्चर्य की बात नहीं होगी। क्योंकि उनके माता-पिता अपनी नौकरी खो चुके होंगे। इलेक्ट्रीशियन (Electrician), बढ़ई, प्लंबर (Plumber) या शिल्पकार आदि व्यवसायों को वे चुन सकते हैं क्योंकि यह स्थिर, अच्छे वेतन और अच्छे लाभ वाले व्यवसाय होंगे। यदि कोई व्यक्ति उद्यमशील है, तो वह अपना खुद का व्यवसाय भी खोल सकता है। घर पर कार्य कर रहे श्रमिकों के मूल्यांकन के लिए विभिन्न मैट्रिक्स (Matrix) या मापकों का सहारा लिया जायेगा। जैसे परिणामों के आधार पर श्रमिकों का मूल्यांकन किया जा सकता है। परिणामों से यह जानकारी प्राप्त की जा सकती है कि कर्मचारी औसत दर्जे के बेंचमार्क (Benchmarks) या लक्ष्यों को पूरा कर रहा है? स्पष्ट मापन और आकांक्षाओं के आधार पर भी मूल्यांकन किया जा सकता है। श्रमिकों या कर्मचारियों के लिए निर्धारित की गयी आकांक्षाओं के आधार पर उनके प्रदर्शन को मापा या आंका जा सकता है। इससे जो भी उत्पाद दूरस्थ बैठे कर्मचारियों द्वारा उत्पादित किया जायेगा वह पर्याप्त होगा क्योंकि कार्य से सम्बंधित शंकाओं को दूर करने के लिए उसके पास अवसरों की सम्भावना बहुत कम होगी। इसके अलावा आंतरिक प्रतिपुष्टि (Feedback) के आधार पर भी मूल्यांकन किया जा सकता है। इस पद्धति का उपयोग करना एक सटीक मूल्यांकन प्राप्त करने का एक अच्छा तरीका है क्योंकि आपके कर्मचारी ही परिणामों से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। यह कर्मचारियों को एक-दूसरे के साथ बातचीत करने के तरीके के बारे में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है, कि वे उन लोगों के बारे में कैसा महसूस करते हैं जो उनका नेतृत्व कर रहे हैं, और जहां उन्हें लगता है कि उनकी प्रतिभा का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग किया जा सकता है या जहां उन्हें अधिक प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है। यह वो समय है जब प्रबंधकों को उदार और लचीला होना होगा तथा कर्मचारियों को यह चयन करने की स्वतंत्रता देनी होगी कि वे कब, कहाँ, कैसे, और किसके साथ कार्य करते हैं।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र में वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) दिखाया गया है।
2. दूसरे चित्र में इ-लर्निंग (E-Learning) दृश्यांवित है।
3. अंतिम चित्र में फ्रीलांसर (Freelancer) है।
संदर्भ:
1. https://bit.ly/3bD6pdv
2. https://bit.ly/2LrhMdF
3. https://bit.ly/2WxtpWR
4. https://talkingtalent.prosky.co/articles/the-best-ways-to-evaluate-remote-employees



RECENT POST

  • विश्व युद्धों के हैं भारत पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     30-09-2020 03:51 AM


  • भारत में क्रिकेट की तुलना में इतना लोकप्रिया नहीं है फुटबॉल
    हथियार व खिलौने

     29-09-2020 03:18 AM


  • पारंपरिक और नाभिकीय हथियारों का फर्क
    हथियार व खिलौने

     28-09-2020 09:58 AM


  • फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     27-09-2020 06:51 AM


  • स्वर्ण अनुपात- संख्याओं और आकृतियों का सुन्दर समन्वय
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-09-2020 04:34 AM


  • वाइन और धर्म के बीच संबंध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-09-2020 03:23 AM


  • बरेच जनजाति और रोहिल्ला कनेक्शन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 04:00 AM


  • भारत में तुर्कों का मुगलों से लेकर वर्तमान की राजनीति पर एक उल्लेखनीय प्रभाव
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:25 AM


  • ‘इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic)’ वस्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण हैं, रामपुर स्थित रंग महल
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:27 AM


  • सबसे पुराने ज्ञात कला रूपों में से एक हैं मिट्टी के बर्तन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:05 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id