व्यक्तियों और समुदायों के जीवन को समृद्ध करते हैं, संग्रहालय

रामपुर

 18-05-2020 01:00 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

संग्रहालय हमारी विरासत, संस्कृति, कला आदि को समाज से जोड़े रखने तथा उन्हें संरक्षण प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। संग्रहालय की उपयोगिता को देखते हुए हर साल 18 मई को अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य संग्रहालय के प्रति लोगों के बीच जागरूकता बढाना है जो कि सांस्कृतिक आदान-प्रदान और लोगों के बीच आपसी समझ, सहयोग और शांति के विकास के एक महत्वपूर्ण साधन के रूप में कार्य करता है। समाज में संग्रहालयों की भूमिका बदल रही है। संग्रहालय अधिक संवादात्मक, दर्शकों पर केंद्रित, समुदाय उन्मुख, लचीले, अनुकूल और गतिशील बनने के लिए खुद को सुदृढ़ कर रहे हैं। वे सांस्कृतिक केंद्र बन गए हैं, जो ऐसे मंच की तरह कार्य करते हैं, जहाँ रचनात्मकता ज्ञान के साथ जुड़ती है और जहां आगंतुक सह-सृजन, साझा और सहभागिता भी कर सकते हैं।

इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ म्यूजियम (International Council of Museums- ICOM), समाज के विकास में संग्रहालयों की भूमिका के प्रति सार्वजनिक जागरूकता को प्रोत्साहित करने के लिए 1977 से हर साल अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मना रहा है। इस समय संग्रहालयों के लिए यह एक विशेष रूप से महत्वपूर्ण तर्क है। संग्रहालय संघ ने संग्रहालय के भविष्य के बारे में विचार करने हेतु क्षेत्र को प्रोत्साहित करने के लिए 2013 में म्यूजियम 2020 (Museum 2020) लॉन्च (Launch) किया। इसका परिणाम ‘म्यूज़ियम चेंज लाइव्स’ (Museums Change Lives): स्पष्ट और बढ़ते सामाजिक प्रभाव के रूप में संग्रहालयों के लिए एक घोषणापत्र था। संग्रहालय व्यक्तियों और समुदायों के जीवन को समृद्ध करते हैं, वे एक न्यायपूर्ण समाज के निर्माण में मदद करते हैं और बदले में, अपने जीवंत और विविध प्रकाशनों से समृद्ध होते हैं। तो इस प्रकार यह दो तरह की प्रक्रिया है, जो संग्रहालयों और उनके समुदायों पर समान रूप से निर्भर है। अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस इसलिए है ताकि लोग अपने स्थानीय संग्रहालय के बारे में सोचें, वहां जाएं और इस पर विचार करें कि संग्रहालय आपके समुदाय के लिए क्या कर सकता है? अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2019 ने संग्रहालयों की नई भूमिकाओं पर अपने समुदायों में सक्रिय अभिनेता के रूप में ध्यान केंद्रित किया। अपने प्राथमिक मिशनों -संग्रह, संरक्षण, संचार, अनुसंधान, प्रदर्शनी- को संरक्षित करते हुए संग्रहालयों ने अपनी प्रथाओं को उन समुदायों के करीब रहने के लिए बदल दिया है, जिनकी वे सेवा करते हैं।

आज वे समकालीन सामाजिक मुद्दों और संघर्ष से निपटने के लिए नए तरीके खोज रहे हैं। आज के समाज की चुनौतियों का लगातार सामना करने का प्रयास करते हुए स्थानीय रूप से कार्य करके, संग्रहालय वैश्विक समस्याओं का समर्थन और उन्हें नष्ट करने में भी सक्षम हैं। समाज के दिल में, संस्थानों के रूप में संग्रहालयों के पास संस्कृतियों के बीच संवाद स्थापित करने, एक शांतिपूर्ण दुनिया के लिए पुल बनाने और एक स्थायी भविष्य को परिभाषित करने की शक्ति है। जैसे-जैसे संग्रहालय सांस्कृतिक केंद्रों के रूप में अपनी भूमिकाओं को बढाते जा रहे हैं, वैसे-वैसे वे अपने संग्रह, उनके इतिहास और उनकी विरासत को सम्मानित करने, के नए तरीके भी खोज रहे हैं। वे ऐसी परंपराओं का निर्माण करते हैं जिनका अर्थ भविष्य की पीढ़ियों के लिए नया होगा तथा जो वैश्विक स्तर पर तेजी से विविध समकालीन दर्शकों के लिए प्रासंगिकता पैदा करेगा। यह परिवर्तन, जिसका संग्रहालय सिद्धांत और व्यवहार पर गहरा प्रभाव पड़ेगा, वह संग्रहालय के पेशेवरों को संग्रहालयों के मूल्य पर पुनर्विचार करने और उनके काम की प्रकृति को परिभाषित करने वाली नैतिक सीमाओं पर सवाल उठाने के लिए भी मजबूर करता है। अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का उद्देश्य इस बारे में जागरूकता बढ़ाना है कि, संग्रहालय सांस्कृतिक आदान-प्रदान, संस्कृतियों के संवर्धन और लोगों के बीच आपसी समझ, सहयोग और शांति के विकास का एक महत्वपूर्ण साधन हैं। पूरे विश्व में संग्रहालय से सम्बंधित घटनाओं और गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए, ICOM, 1977 के बाद से हर 18 मई को, अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का आयोजन कर रहा है। 2018 में, 158 देशों और क्षेत्रों के हजारों संग्रहालयों ने इस अनोखे उत्सव में भाग लिया था।

वर्ष 2020 के लिए अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का मुख्य विषय 'समानता के लिए संग्रहालय : विविधता और समावेश' (Museums for Equality: Diversity and Inclusion) है। इस विषय के साथ अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का उद्देश्य दोनों परिप्रेक्ष्य जो संग्रहालयों और उत्तम औजारों की पहचान करने और उन पर आधारित पूर्वाग्रह को प्रदर्शित करने और उनके द्वारा बताई गई कहानियों पर काबू पाने के लिए समुदायों और कर्मियों को बनाते हैं, की विविधता का जश्न मनाने, के लिए रैलिंग (Rallying- एक शब्द, वाक्यांश, घटना या विश्वास के रूप में कुछ ऐसा जो लोगों को एक विशेष समूह या विचार के समर्थन में एकजुट होने और कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करता है) बिंदु बनना है। सभी मूल और पृष्ठभूमि के लोगों के लिए सार्थक अनुभव बनाने के लिए संग्रहालयों की क्षमता उनके सामाजिक मूल्य के लिए केंद्रीय है। संग्रहालयों के लिए आधुनिक समाज की राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक वास्तविकताओं में रचनात्मक रूप से संलग्न होकर उनकी प्रासंगिकता प्रदर्शित करने हेतु वर्तमान जैसा कोई समय नहीं है। समावेश और विविधता की चुनौतियां और तेजी से ध्रुवीकृत वातावरण में जटिल सामाजिक मुद्दों को नेविगेट (Navigate) करने की कठिनाई, जहां संग्रहालयों और सांस्कृतिक संस्थानों के लिए अद्वितीय नहीं हैं, वहीं वे उस उच्च संबंध के कारण महत्वपूर्ण हैं, जिसमें समाज द्वारा संग्रहालयों को रखा जाता है या अपनाया जाता है। सामाजिक परिवर्तन के लिए एक बढ़ती सार्वजनिक अपेक्षा ने प्रदर्शनियों, सम्मेलनों, प्रदर्शनों, शिक्षा कार्यक्रमों और निर्मित पहलों के रूप में सामाजिक भलाई के लिए संग्रहालयों की क्षमता के आसपास एक वार्तालाप को उत्प्रेरित किया है। हालाँकि, सचेत और अवचेतन शक्ति गतिकी जो संग्रहालयों के भीतर और संग्रहालयों और उनके आगंतुकों के बीच असमानता पैदा कर सकती है, को दूर करने के लिए बहुत कुछ करना बाकी है। ये असमानताएं कई विषयों से संबंधित हो सकती हैं, जिनमें जातीयता, लिंग, यौन अभिविन्यास और पहचान, सामाजिक आर्थिक पृष्ठभूमि, शिक्षा स्तर, शारीरिक क्षमता, राजनीतिक संबद्धता और धार्मिक विश्वास शामिल हैं।

चित्र (सन्दर्भ):
1. मुख्य चित्र और अंतिम चित्र अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस को प्रसारधित कर रहे हैं।
2. दूसरा चित्र रास्ट्रीय संग्रहालय में संगीत संग्रह को दिखता है।
संदर्भ:
1. https://www.apollo-magazine.com/need-international-museum-day/
2. https://icom.museum/en/news/imd2019-museums-as-cultural-hubs-the-future-of-tradition/
3. http://imd.icom.museum/international-museum-day-2019/museums-as-cultural-hubs-the-future-of-tradition/
4. https://planeta.com/imd2020/



RECENT POST

  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id