अनोखा है, अन्य जंगली जानवरों से बचाव के लिए पैंगोलिन का तरीका

रामपुर

 19-04-2020 01:10 PM
स्तनधारी

भारतीय पैंगोलिन (Manis crassicaudata), जिसे मोटी पूंछ वाला पैंगोलिन भी कहा जाता है और परतदार चींटीखोर पैंगोलिन भारत का मूल निवासी है। अन्य पैंगोलिन की तरह, इसके शरीर पर बड़े, अतिव्यापी परत होती हैं जो कवच के रूप में कार्य करती हैं। यह बाघों और शेरों जैसे शिकारियों के खिलाफ आत्मरक्षा के लिए अपने शरीर को एक गेंद के रूप घुमाकर गोल कर सकता है। इसके शरीर पर परतों का रंग पृथ्वी और आसपास के परिवेश के रंग के आधार पर भिन्न होता है। यह एक कीटभक्षी है, अपने लंबे पंजे का उपयोग करते हुए मिटटी के टीलों और अन्य स्थानों से खोदकर ये चींटियों और दीमकों को खाता है, , इसके पंजे इसके अग्र अंगों की तरह लंबे होते हैं। यह रात्रिचर है और दिन के दौरान गहरे गड्ढों में रहता है।

भारतीय पैंगोलिन को उसके मांस और उसके शरीर पर पायी जाने वाली परतों के लिए अवैध शिकार से खतरा है, जो स्थानीय लोगों द्वारा उपयोग और उपभोग किया जाता है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इसका तेजी से कारोबार किया जाता है। पैंगोलिन के शरीर के विभिन्न भागों को भोजन और चिकित्सा के स्रोतों के रूप में महत्व दिया जाता है। इसके शरीर पर पायी जाने वाली परतों का उपयोग एक कामोद्दीपक औषधि के रूप में किया जाता है और इससे आकर्षक और सुन्दर छल्ले भी बनाये जाते हैं। चमड़े का सामान बनाने के लिए खाल का उपयोग किया जाता है, जिसमें बूट्स और जूते शामिल हैं। शिकार का अधिकांश हिस्सा खानाबदोश और प्रशिक्षित स्थानीय शिकारियों द्वारा किया जाता है। कम से कम 2000 के दशक से चीन में खपत के लिए भारतीय पैंगोलिन के शरीर के अंगों की तस्करी की जा रही है। पैंगोलिन सबसे भारी तस्करी के कारण संरक्षित स्तनधारियों में से एक है।

सन्दर्भ:
1.
https://www.youtube.com/watch?v=9apG1ILx_PY
2. https://www.youtube.com/watch?v=nV4tkt30Kqs
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_pangolin



RECENT POST

  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM


  • प्राकृतिक इतिहास में विशाल स्क्विड की सबसे मायावी छवि मानी जाती है
    शारीरिक

     26-06-2022 10:01 AM


  • फसल को हाथियों से बचाने के लिए, कमाल के जुगाड़ और परियोजनाएं
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:46 AM


  • क्यों आवश्यक है खाद्य सामग्री में पोषण मूल्यों और खाद्य एलर्जी को सूचीबद्ध करना?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:47 AM


  • ओपेरा गायन, जो नाटक, शब्द, क्रिया व् संगीत के माध्यम से एक शानदार कहानी प्रस्तुत करती है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:28 AM


  • जीवन जीने के आदर्श सूत्र हैं , महर्षि पतंजलि के अष्टांग योगसूत्र
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:18 AM


  • कहीं आपके घर के बाहर ही तो नहीं है लाखों रुपयों के ये कीड़े
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:42 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id