चींटियों द्वारा निभाई जाती है पारिस्थितिक तंत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका

रामपुर

 07-02-2020 09:30 AM
तितलियाँ व कीड़े

हमारे आसपास के सभी जन्तुओं में सबसे अधिक संख्या में पाए जाने वाली और समूह में रहकर जीवन-यापन करने वाली चींटियों की प्रकृति में उपस्थिति और पर्यावरण के प्रति किए जाने वाले कार्य पारिस्थितिकी तंत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। चींटियाँ जैविक अपशिष्ट, कीड़े या अन्य मृत जानवरों का सेवन करके अपघटन का काम करती हैं, इस तरह वे पर्यावरण को स्वच्छ रखने में मदद करती हैं। चींटियों द्वारा पृथ्वी के लगभग हर भू-भाग पर उपनिवेश किया हुआ है। केवल अंटार्कटिका (Antarctica) और कुछ दूरदराज़ या दुर्गम द्वीप में चींटियाँ नहीं पाई जाती हैं। चींटियां अधिकांश पारिस्थितिक तंत्रों में पनपती हैं और स्थलीय पशु बायोमास (Biomass) का 15-25% हिस्सा बनती हैं। इतने बड़े वातावरण में सफलतापूर्वक निवास करने के लिए उनकी सामाजिक संगठन और आवासों को संशोधित करने की उनकी क्षमता को ज़िम्मेदार ठहराया गया है।

पारिस्थितिकी तंत्र में चींटियों द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका मनुष्यों के लिए भी काफी फायदेमंद होती हैं, जिसमें कीटों की आबादी का दमन और मिट्टी का वातन भी शामिल है। दक्षिणी चीन में सिट्रस (Citrus) की खेती में बुनकर चींटियों का उपयोग जैविक नियंत्रण के सबसे पुराने ज्ञात अनुप्रयोगों में से एक माना जाता है। वहीं बढ़ई चींटियां, जो मृत या रोगग्रस्त लकड़ी में अपने घोंसले बनाती हैं, लकड़ी की अपघटन प्रक्रिया को काफी तेज़ करती हैं। चींटियों के जाने के बाद, दीर्घाओं में कवक और बैक्टीरिया (Bacteria) उत्पन्न होते हैं, जो बड़ी सतहों पर लिग्निन (Lignin) और सेलूलोज़ (Cellulose) को तोड़ते हैं। चींटियों का भोजन दूसरे कीड़े और उनके अंडे होते हैं।

उनके प्राकृतिक आवास में, वे कई अकशेरूकीय और कशेरुकियों के भोजन का स्रोत होती हैं, जिनमें कठफोड़वा और अन्य कीटभक्षी शामिल हैं। भालू द्वारा भी बढ़ई चींटियों के लार्वा (Larvae) और प्यूपे (Pupae) खाया जाता है। केवल इतना ही नहीं दीर्घाओं और सुरंगों को खोदकर चींटियाँ मिट्टी को चीरने में मदद करती हैं। वे कंकड़ और कणों को शीर्ष पर लाकर मिट्टी को जोतती हैं। ये बीज में पाए जाने वाले पौष्टिक इलायोसोम (Elaiosome) को खाने के लिए अपनी सुरंग में ले जाते हैं, जिससे आमतौर पर नए पौधे भी उगते हैं।

वहीं सबसे रोचक तथ्य तो यह है कि अनुमानित रूप में यदि हम धरती पर मौजूद सभी चींटियों का वज़न लेंगे तो वह धरती में मौजूद सभी इंसानों के बराबर होगा। इस बात का दावा मूल रूप से हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एडवर्ड ओ विल्सन (Professor Edward O Wilson) और जर्मन जीवविज्ञानी बर्ट होल्डोब्लर (Bert Hoelldobler) ने अपनी 1994 की पुस्तक “जर्नी टू द आंट्स” (Journey To The Ants) में किया था। उन्होंने ब्रिटिश एंटोमोलॉजिस्ट (British Entomologist) सी बी विलियम्स (C B Williams) द्वारा पहले के एक अनुमान पर अपना अनुमान लगाया था, जिन्होंने एक बार गणना की थी कि एक निश्चित समय पर पृथ्वी पर जीवित रहने वाले कीटों की संख्या एक मिलियन ट्रिलियन थी।

क्या कभी आपने सोचा है कि भारत में कौन कौन सी चींटियाँ पाई जाती हैं? निम्न कुछ भारत में पाई जाने वाली चींटियों के नाम हैं :-
1)
मेरानोप्लस बायकलर (गुएरिन-मेनेविल, 1844) (Meranoplus bicolor (Guérin-Méneville, 1844))
2) ईकोफिला स्मरगडीना (फैब्रीशियस, 1775) (Oecophylla smaragdina (Fabricius, 1775)) - बुनकर चींटी
3) एनोप्लोलेपिस ग्रेसीलिप्स (स्मिथ, 1857) (Anoplolepis gracilipes (Smith, 1857)) -विनाशक चींटी
4) अफेनोगेस्टर बेकारी एमरी, 1887 (Aphaenogaster beccarii Emery,1887)
5) क्रैमाटोगेस्टर रोथनेई माय्र, 1879 (Crematogaster rothneyi Mayr, 1879)
6) कैम्पोनोटस रेडियेटस फ़ोरेल, 1892 (Camponotus radiatus Forel, 1892)
7) कैरबारा डायवर्सा (जेरडन, 1851) (Carebara diversa (Jerdon, 1851))

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Ant
2. https://www.sciencedaily.com/releases/2011/01/110131133227.htm
3. https://m.espacepourlavie.ca/en/ecological-importance-ants
4. https://harvardforest.fas.harvard.edu/ants/ecological-importance
5. https://www.bbc.com/news/magazine-29281253
6. https://www.antdiversityindia.com/common_indian_ants
चित्र सन्दर्भ:
1.
https://www.youtube.com/watch?v=cf3ZHWeeoo0



RECENT POST

  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM


  • काफी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है संपूर्ण विश्व में बुद्ध पूर्णिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:46 AM


  • तीव्रता से विलुप्‍त होती भारतीय स्‍थानीय भाषाएं व् उस क्षेत्र से संबंधित ज्ञान का भण्‍डार
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:11 AM


  • जलीय पारितंत्र को संतुलित बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, शार्क
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:26 PM


  • क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:07 AM


  • गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:35 AM


  • भारत में ऊर्जा खपत पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए नीति और संरचना में बदलाव
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id