Machine Translator

उच्च आय और रोज़गार सृजन में लाभदायक हो सकता है केले का उत्पादन

रामपुर

 30-01-2020 12:00 PM
साग-सब्जियाँ

दुनिया भर में केले की लगभग 1,000 से अधिक किस्में पायी जाती हैं जिसमें से एक किस्म ‘लाल केले’ की भी है। केले की इस किस्म का रंग लाल-बैंगनी होता है। कुछ किस्में सामान्य केले से आकार में बड़ी हैं तो कुछ छोटी। यह किस्म पीले रंग की किस्मों की तुलना में अधिक मुलायम और मीठी होती है। मध्य अमेरिका में यह फल सबसे पसंदीदा फलों में से एक है जिसे दुनिया भर में बेचा जाता है। कई लाल केले पूर्वी अफ्रीका (East Africa), एशिया (Asia), दक्षिण अमेरिका (South America) और संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates) में उत्पादकों द्वारा निर्यात किए जाते हैं। केले की यह किस्म जब पक जाती है तो इसका रंग गहरा लाल हो जाता है।

पीले रंग के केले की तुलना में इसमें अधिक बीटा कैरोटीन (Beta carotene) और विटामिन सी (Vitamin C) पाया जाता है तथा पोटैशियम (Potassium) और आयरन (Iron) की एक संतुलित मात्रा भी पायी जाती है। इसे खाने का तरीका वैसा ही है जैसा कि पीले रंग की किस्म का है। अक्सर कच्चे केले को मीठा और फलों का सलाद बनाने में उपयोग में लाया जाता है। इसके अलावा इसे सेका जा सकता है तथा तलकर या टोस्ट (Toast) बनाकर भी उपयोग में लाया जा सकता है। इस फल में शर्करा के तीन प्राकृतिक स्रोत सुक्रोज़ (Sucrose), फ्रुक्टोज़ (Fructose) और ग्लूकोज़ (Glucose) मुख्य रूप से पाये जाते हैं जो उन्हें स्थायी ऊर्जा का स्रोत बनाते हैं। 1870-1880 में टोरंटो (Toronto) के बाज़ार में दिखाई देने वाली पहली केले की किस्म लाल केले की ही थी। संयुक्त राज्य अमेरिका के मुख्य बाज़ारों और बड़े सुपरमार्केटों (Supermarkets) में यह किस्म साल भर उपलब्ध होती है।

विश्व में भारत केला उत्पादन में पहले स्थान पर है। 2010 के एक आंकड़े के अनुसार भारत में केले का उत्पादन सबसे अधिक महाराष्ट्र में किया जाता है जिसके बाद तमिलनाडु का स्थान है। महाराष्ट्र में केले की उच्चतम उत्पादकता प्रति हेक्टेयर 65.70 मीट्रिक टन (65,700 किलोग्राम) है, जबकि राष्ट्रीय औसत उत्पादकता प्रति हेक्टेयर 30.5 टन (30,500 किलोग्राम) है। भारत में केले का उत्पादन करने वाले अन्य प्रमुख राज्य कर्नाटक, गुजरात, आंध्र प्रदेश और असम हैं। केले की लाल किस्म में सिर्फ 110 कैलोरी (Calorie) तथा 4 ग्राम फाइबर (Fibre) मौजूद होता है। इसके सेवन से हृदय रोग और मधुमेह के होने की सम्भावना बहुत कम हो जाती है। पिछले कुछ समय में लाल केले की कीमत में अभूतपूर्व गिरावट आयी है, जिससे किसानों को 25 रुपये (USD 0.37) प्रति किलो के हिसाब से इन्हें बेचना पड़ा। बाद में खुदरा विक्रेताओं द्वारा इन्हें लगभग 40 रुपये (USD 0.58) प्रति किलो तक बेचा गया। आय बढ़ाने और आजीविका चलाने के लिए केले की खेती को एक प्रभावी रूप में देखा जा रहा है। भारत में केले की फसल, कृषि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 2.8% है। यह किसानों के जीवन निर्वाह के लिए एक महत्वपूर्ण फसल है तथा भोजन या आय के लिए वर्षभर की सुरक्षा भी सुनिश्चित करती है। विश्व स्तर पर उत्पादन के सकल मूल्य के मामले में, चावल, गेहूं और मक्का के बाद केले का स्थान है। लाखों लोगों के लिए एक प्रमुख खाद्य फसल के रूप में केले को जाना जाता है जो स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के माध्यम से आय निर्माण में भी सहायक है। केले का उत्पादन लगभग 135 देशों और प्रदेशों में किया जाता है। 2017-18 के दौरान, केले का वैश्विक उत्पादन 1253.4 लाख टन और उत्पादकता 20.8 टन/हेक्टेयर थी।

भारत दुनिया में सबसे बड़ा केला उत्पादक है जिसने 2017-18 के दौरान, 8.6 लाख हेक्टेयर में लगभग 304.7 लाख टन केले का उत्पादन किया। उत्तर प्रदेश में केले की खेती के लिए लगभग 67.4 हज़ार हेक्टेयर भूमि का उपयोग किया जाता है जिससे हर साल लगभग 30.8 लाख टन केले का उत्पादन होता है। उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर, बस्ती, संत कबीरनगर, महाराजगंज, कुशीनगर, फैज़ाबाद, बाराबंकी, सुल्तानपुर, लखनऊ, सीतापुर, कौशाम्बी, इलाहाबाद आदि प्रमुख शहरों में केले की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले से एकत्रित किए गए प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार केले की खेती की कुल लागत प्रति हेक्टेयर 1,65,515.00 रुपये थी जिसमें मानव श्रम की महत्वपूर्ण भूमिका रही। केले की खेती से सकल और शुद्ध लाभ क्रमशः प्रति हेक्टेयर 2,55,000.00 और 89,485.00 रुपये था। लाभ लागत अनुपात (Benefit cost ratio) 1.54 रहा, जो यह दर्शाता है कि केले की खेती अत्यधिक लाभदायक फसल है तथा क्षेत्र में उच्च आय और रोज़गार सृजन के लिए लोकप्रिय बनायी जा सकती है। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह उत्तम फल है क्योंकि यह पोटेशियम (Pottassium), विटामिन सी, विटामिन B6, एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidants), प्रीबायोटिक्स (Prebiotics) इत्यादि से भरपूर है।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Red_banana
2. https://bit.ly/2RZqyT8
3. https://www.itfnet.org/v1/2016/02/india-red-bananas-rule-fruit-market-in-tamilnadu/
4. https://www.healthline.com/nutrition/red-bananas
5. http://soeagra.com/iaast/iaastsept2019/4.pdf
चित्र सन्दर्भ:
1.
https://bit.ly/2U7kMkZ
2. https://bit.ly/2U7u14H
3. https://bit.ly/3aSV21z
4. https://pxhere.com/en/photo/1460765



RECENT POST

  • रामपुरवासी सावधानी से करें मकोय का सेवन
    बागवानी के पौधे (बागान)

     17-02-2020 01:30 PM


  • घर पर भी उगाया जा सकता है, अत्यंत गुणकारी अदरक
    बागवानी के पौधे (बागान)

     16-02-2020 10:07 AM


  • अंतरिक्ष गतिविधियों को नुकसान पहुंचा सकता है अंतरिक्ष अपशिष्ट
    जलवायु व ऋतु

     15-02-2020 01:30 PM


  • आज की दुनिया में यौन शिक्षा का महत्व
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     14-02-2020 01:00 PM


  • क्या है, राकेट मेल (Rocket mail) और उसका इतिहास ?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     13-02-2020 02:00 PM


  • तीन सौ साल और दो भागीरथ प्रयासों की देन है, ये दुर्लभ किताब
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     12-02-2020 02:00 PM


  • क्या है इस्लामिक अल-क़ियामा?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     11-02-2020 01:50 PM


  • कुम्हार के पहिये के आविष्कार से पूर्व भी बनाए जाते थे, मिट्टी के बर्तन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     10-02-2020 01:00 PM


  • जापानी कबुकी नृत्य है यूनेस्को की उत्कृष्ट विरासत की सूची में
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     09-02-2020 05:11 AM


  • आय और रोज़गार का अवसर प्रदान कर सकता है बटेर
    पंछीयाँ

     08-02-2020 07:06 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.