Machine Translator

रामपुरिया गौरव का प्रतीक है, कोठी खास बाग़

रामपुर

 25-11-2019 11:38 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

रामपुर यहाँ के नवाबों द्वारा नाज़ों से सजाया गया शहर है। यह शहर अपनी वास्तुकला को लेकर भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व भर में जाना जाता है। रामपुर रज़ा पुस्तकालय, जामा मस्जिद, कोठी खास बाग़ आदि यहाँ की ऐसी इमारतें हैं जो इतिहास के एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण और स्वर्णिम दौर को प्रदर्शित करती हैं।

आज इस लेख में हम बात करेंगे रामपुर के प्रतिष्ठित कोठी खास बाग़ के बारे में-
कोठी खास बाग़ डब्लू सी राईट द्वारा डिज़ाइन किया गया था जो कि नवाब हामिद अली खान के कहने पर हुआ था। सन 1896 में हामिद अली के सिंहासन पर बैठने के बाद इस जगह की कल्पना की गयी थी। राईट एक इंडो सार्सैनिक (Indo Saracenic) वास्तुकला के जानकार थे अतः यह कोठी इस कला के अद्भुत नमूने के रूप में देखी जाती है। इस कोठी में करीब 200 कमरे, दरबार, कला वीथिका, संगीत कक्ष आदि मौजूद हैं। यह महल पुराने किले के अवशेषों के ऊपर बनाया गया है।

यदि इस महल के अन्दर की बात करें तो यहाँ पर रोमन (Roman) शैली के अनेकों खम्बे लगे हैं, संगमरमर की टाइलें इस महल में लगाई गयीं हैं तथा यहाँ पर 60x30 गज का तैरने का पूल (Pool) भी मौजूद है। इस कोठी के अन्दर और बाहर बड़े-बड़े फव्वारे लगाये गएँ हैं जो कि आज भी दिखाई दे जाते हैं। यह महल चारों ओर से खूबसूरत बगीचों से और क्यारियों से घिरा हुआ है जिन्हें आज भी देखा जा सकता है।

कोठी ख़ास बाग़ में कालांतर में कई चोरियां भी हुईं जिनमें यहाँ की कई बहुमूल्य वस्तुएं विदेशों में भेजी गईं जो अभी हाल ही में कुछ नीलामी में सामने आईं। विदेशियों के विवरण से यह पता चलता है कि यहाँ के कमरों आदि में रखे सोफे आदि की कुशन (Cushion) पर सोने के तारों से सजावट की गयी थी जो यहाँ की उच्च कला को और धन धान्य की पूर्णता को प्रदर्शित करती है। कोठी ख़ास बाग़ अपने महल के लिए तो जाना ही जाता है पर यह अपने यहाँ पर लगे विभिन्न किस्मों के आमों के लिए भी जाना जाता है।

आज से करीब 100 वर्ष पूर्व की यदि बात करें तो इस महल के मेहराबों के पास खड़े होने पर एक अत्यंत ही खूबसूरत छटा दिखाई देती होगी जो आज वर्तमान में कम हो गयी है लेकिन आज भी यहाँ पर आने पर ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि व्यक्ति प्रकृति की गोद में आ गया हो। यहाँ के बाग़ को लक्खी बाग़ के नाम से भी जाना जाता है। यह नाम अर्थात ‘लक्खी’ इस लिए पड़ा क्यूंकि यहाँ पर करीब 1 लाख पौधे लगाए गए थे। यह बाग़ करीब 2 हज़ार बीघे में उपस्थित है जिसमें चौसा, लंगड़ा, दशहरी, दूधिया आदि किस्म के आम हमें देखने को मिल जाते हैं। लोगों में यह कथन मशहूर है कि जब यहाँ के आम लगाए गए थे तब उनको दूध से सींचा गया था। इस बाग़ में जामुन और लीची के पेड़ों की भी संख्या हज़ारों में है। यह कोठी रामपुर के गौरव का प्रतीक है जो आज भी यहाँ खड़ी इस शहर की शौर्यगाथा को बतलाती है।

संदर्भ:
1.
https://www.jagran.com/uttar-pradesh/rampur-11471076.html
2. https://rampur.prarang.in/posts/1989/Mysterious-theft-in-Kothi-Khas-Bagh-of-Rampur-Nawab
3. http://www.bl.uk/onlinegallery/onlineex/apac/photocoll/k/019pho000430s42u00051000.html
4. https://www.exploreouting.com/attraction/kothi-khas-bagh
5. https://www.facebook.com/pages/The-Kothi-Khas-BaghRampur/132005900215859



RECENT POST

  • अन्य प्राचीन सभ्यताओं में भी हैं, देवी सरस्वती की तरह ज्ञान के देवता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     29-01-2020 01:00 PM


  • रोजगार तथा साक्षरता दर का निम्न स्तर है रामपुर के लिए वास्तविक चुनौती
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     28-01-2020 01:00 PM


  • विभिन्न गुणों से भरपूर है, रामपुर में पाया जाने वाला सिरीस का वृक्ष
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     27-01-2020 10:00 AM


  • क्या है झंडों (Flags) का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     26-01-2020 11:00 AM


  • क्या सौन्दर्य का राज़ है स्वर्णिम अनुपात?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     25-01-2020 10:00 AM


  • भारत में निर्मित कालीनों का तेजी से हो रहा है विस्तार
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     24-01-2020 10:00 AM


  • कौन से जीव रहते हैं भारत के सबसे ऊंचे पर्वतों पर?
    निवास स्थान

     23-01-2020 10:00 AM


  • क्यों बिछाया जाता है कंकड़ों को रेल मार्ग में
    खनिज

     22-01-2020 10:00 AM


  • लंघनाज और महादहा से प्राप्त होते हैं कई प्रारंभिक जीवों के अवशेष
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     21-01-2020 10:00 AM


  • उत्तर प्रदेश में भी पाये जाते हैं, ग्रे (Grey) लंगूर
    स्तनधारी

     20-01-2020 10:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.