बेहद शक्तिशाली और विचित्र जीव हैं, गोरिल्ला

रामपुर

 24-11-2019 10:00 AM
स्तनधारी

गोरिल्ला मानवनुमा परिवार का सबसे बड़ा सदस्य है। यह एक शाकाहारी पशु है। गोरिल्ला मध्य अफ़्रीका में पाया जाता है। गोरिल्ला का डी एन ए मनुष्य से 98-99% मेल खाता है।‌‌‌यह चिंपाजी और बोनोबोस के बाद मनुष्यों के निकटतम रिश्तेदार हैं। यह उंचाई पर भी रहते हैं। माउंटेन गोरिल्ला विरुंगा ज्वालामुखी (Virunga Volcanoes) के अल्बर्टिन रिफ्ट मोंटेन क्लाउड वन (Albertine Rift montane cloud forests) में रहता है, जो 2,200-4,300 मीटर ऊंचाई पर है।

आज प्रारंग आपके लिए लेकर आया है, एक ऐसा चलचित्र जिसमें गोरिल्ला के बारे में महत्वपूर्ण और रोचक तथ्य प्रदर्शित किये गये हैं। इस चलचित्र को एनिमल्स कल्चर (Animal Culture) नामक यूटयूब चैनल ने प्रदर्शित किया है।

शब्द "गोरिल्ला" हनो द नेविगेटर के इतिहास (एक कार्थेजियन खोजकर्ता, जो पश्चिमी अफ्रीकी तट पर एक अभियान पर थे और जो बाद में सिएरा लियोन के नाम से जाने गये।) से आता है। गोरिल्ला शब्द का प्रयोग 500 ईं पूर्व पश्चिमी अफ्रिका के अंदर सिएरा लियोन ने किया था । उसके अभियान के सदस्यों पर काले बालों वाले एक समूह ने हमला किया था, (जिसमें ज्यादातर महिलाए थी) ने आक्रमण कर दिया था। इस समूह को उसने गोरिल्ला कहा था।

गोरिल्ला के निकटतम रिश्तेदार होमिनिना जेनेरा, चिम्पांजी और इंसान हैं जोकि 7 मिलियन वर्ष पूर्व इनसे अलग हो गए थे । पहले गोरिल्ला एक जाति माना जाता था । जिसके अंदर तीन उपजातियां थी ।पश्चिमी लोलैंड गोरिल्ला, पूर्वी निचला भूमि गोरिल्ला और पर्वत या माउंटेन गोरिल्ला । लेकिन अब ‌‌‌गोरिल्ला को दो जातियों के अंदर विभाजित किया गया है। ‌‌हिमयुग के दौरान गोरिल्ला की अनेक प्रजातियां विकसित हुई । लेकिन अब उनमें से अधिकतर नष्ट हो चुकी हैं।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Gorilla
2. https://www.youtube.com/watch?v=y--WzQj2ghg



RECENT POST

  • नवपाषाण काल में पत्‍थरों के औजारों का उपयोग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 12:25 PM


  • विश्व के सभी खट्टे फलों का जन्मस्थल हिमालय है
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:14 AM


  • दृश्यों की संवेदनशील प्रकृति के कारण भिन्न हैं, मोचे संस्कृति द्वारा बनाए गये मिट्टी के बर्तन
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 06:58 PM


  • उत्तम प्रकृति चंदन को संरक्षण की दरकार
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:00 AM


  • आदिकाल से ही मानव कर रहा है, इत्र का उपयोग
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 12:18 PM


  • क्यों गुप्तकाल को भगवान विष्णु मूर्तिकला का उत्कृष्ट काल माना जाता है?
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 08:48 AM


  • अपनी कला के माध्यम से कर रहे हैं सड़क प्रदर्शनकर्ता लोगों को जागरूक
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:10 AM


  • इस्लामिक ग्रंथों में मिलता है दुनिया के अंत या क़यामत का वर्णन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 07:16 AM


  • रेडियो दूरबीनों के अंतर्राष्ट्रीय तंत्र की ऐतिहासिक उपलब्धि है, ईवेंट होरिजन टेलीस्कोप
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     22-11-2020 10:08 AM


  • इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic) कला के अद्वितीय नमूने रामपुर कोतवाली और नवाब प्रवेशमार्ग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:02 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id