पुराने दिनों की याद दिलाती यह मीटर गेज रेल

रामपुर

 12-10-2019 10:00 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

रेलवे का निर्माण शायद मानव जीवन का सबसे महत्वपूर्ण आविष्कार है। इसने पूरी दुनिया में यात्रा, व्यापार आदि को अत्यंत सरल सुगम और सहज बना दिया। शुरुवाती दौर में रेलवे मुख्य रूप से माल ले जाने और लाने का कार्य करती थी परन्तु कालान्तर में इसके कार्य में कई बदलाव आये। हम यह भी जानते हैं कि विश्वयुद्ध के दौरान भी रेल का अहम् योगदान रहा था। इसके सहारे पूरी फौजों को निश्चित स्थानों पर भेजा जाना संभव हो पाया था। कई ट्रेनों पर विशालकाय तोपों को भी लगाया गया था जो कि दुश्मन के ऊपर अंगार बरसाने का कार्य करते थे।

भारत में ट्रेन अंग्रेज़ों द्वारा लायी गयी थी जिसका मुख्य कारण था भारत के विभिन्न स्थानों से माल को बंदरगाहों तक पहुंचाना। भारत में रेल के आ जाने के बाद से पूरे भारत भर में इसका प्रचार प्रसार होने लगा। कई राजाओं या राजघरानों की अपनी खुद की ही ट्रेन भी होने लगी। इसका प्रमाण आज भी हम रामपुर में देख सकते हैं। आज भी पुराने रामपुर रेलवे स्टेशन पर एक शाही ट्रेन खड़ी है जो कि कभी रामपुर के नवाबों द्वारा प्रयोग में लायी जाती थी। उन खड़ी ट्रेनों में उस समय के ठाठ बाट आज भी देखे जा सकते हैं। ग्वालियर और अन्य कई घरानों में भी ये ट्रेने पायी जाती थीं। उस समय ट्रेनें मुख्य रूप से मीटर गेज (Metre Gauge) पटरियों पर दौड़ती थीं जो कि आज की ब्रॉड गेज (Broad Gauge) से पतली होती थीं। रामपुर में पुराने स्टेशन पर मीटर गेज की ट्रेन को देखा जा सकता है।

मीटर गेज की ट्रेनें अब आज कल बहुत ही कम स्थानों पर चलती हैं जिनमें मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आसाम आदि हैं। उत्तरप्रदेश की मीटर गेज की एक ट्रेन काफी लम्बी दूरी की ट्रेन है जो कि करीब 171 किलोमीटर की दूरी तय करती है तथा यह रामपुर से ज़्यादा दूर नहीं है। यह उत्तर प्रदेश की आखिरी बची हुई मीटर गेज ट्रेन है। यह ट्रेन नानपुर-मैलानी के रास्ते पर चलती है। यह ट्रेन महत्वपूर्ण भी इसलिए है क्यूंकि यह दो प्रमुख वन अभ्यारण्यों के मध्य दौड़ती है: दुधवा और कतरनियाघाट अभयारण्य। इस ट्रेन की पटरियां करीब 127 वर्ष पहले बनायी गयी थीं जिनका मुख्य उपयोग दुधवा जंगल से लकड़ियाँ ले जाने का था। वर्तमान में यह ट्रेन आज भी चलती है जो कि जंगल में करीब 20-30 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ती है। हाल ही में सरकार ने भारत भर में चालित 5 मीटर गेज लाइनों को बंद कर वहां पर ब्रॉड गेज की स्थापना करने का विचार बनाया था जिसे फिर से बदल दिया गया और इन मीटर गेज ट्रेनों को धरोहर की संज्ञा दे दी गयी। ये ट्रेने पर्यटकों को अपनी ओर खींचने का पूरा दमखम रखती हैं। यूं तो इन ट्रेनों के रखरखाव में खर्च के बढ़ने के आसार हैं परन्तु ये ट्रेने पर्यटकों को लुभाने और अधिक संख्या में पर्यटकों को लाने की अच्छी सौगात साबित हो सकती हैं।

दिए गए इस विचार से विभिन्न जंगल-जीव समर्थकों ने इसपर सवाल उठाया कि इससे जीवों के आम जीवन पर असर पड़ेगा। यह बिंदु भी सोचनीय है तथा कोई भी कदम उठाने से पहले गहराई से सोच विचार करने की आवश्यकता है।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2M7Nkqk
2. https://www.youtube.com/watch?v=QXwsPTGHQoI
3. https://bit.ly/2B5xDtm
4. http://www.dudhwatigerreserve.com/entry.html
5. https://bit.ly/2IIPpXt
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://www.youtube.com/watch?v=3zX8MaK6fn0



RECENT POST

  • ग्रामीण विकास के प्रबंधन का विकेंद्रीकरण और राज्य की भूमिका
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     17-08-2022 10:16 AM


  • सड़क निर्माण में प्रयोग होने वाले बिटुमेन या एस्फाल्ट का भारत करता है निर्यात
    खनिज

     16-08-2022 10:25 AM


  • व्यापार की शुरुआत से, भारत में स्थापित पुर्तगाली, डच व् फ्रांसीसी औपनिवेशिक शक्तियों का इतिहास
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:48 AM


  • भाला फेंक विश्व रिकॉर्ड के लिए जाने जाते हैं, यान ज़ेलेज़नी
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:54 AM


  • रामपुर सहित देशभर में सिंगल यूज प्लास्टिक की वस्तुओं पर प्रतिबंध
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-08-2022 09:53 AM


  • विलुप्त हो रहे है, रेगिस्तान के जहाज, यानी ऊंट
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:06 AM


  • रक्षाबंधन त्यौहार के आध्यात्मिक और सामजिक पहलू, तथा विभिन्‍न भारतीय परम्पराएं
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2022 10:13 AM


  • धार्मिक प्रसंगों से शुरू होते हुए, असमिया साहित्य का अन्य विधाओं में विकास
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:01 AM


  • अय्यामे अजा माहे मोहर्रम की शुरूआत से शहर के इमामबाड़ों में मजलिसों, रौशनी, फातेहाख्वानी का सिलसिला
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:23 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: बुनकरों की मेहनत और लगन की झलक स्पष्ट दिखाई देती है हथकरघा वस्त्रों में
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 09:00 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id