अन्धविश्वास के घेरे में आई ये नायाब और अनोखी छिपकली

रामपुर

 02-09-2019 02:47 PM
रेंगने वाले जीव

समाज के लिए यदि कुछ सबसे अधिक हानिकारक है और समाज जिसके कारण अपनी अमूल्य संपदा को खर्च करने में ज़रा सा भी नहीं सोचता, वह है अंधविश्वास। अंधविश्वास मानवों का नुक्सान तो करता ही है परन्तु इसके साथ ही साथ यह अनेकों प्रजाति के जीवों को भी काल के गाल में समा देता है। भारत और आस-पास के अन्य देशों जैसे कि नेपाल, तिब्बत और भूटान में एक ऐसा सरीसृप पाया जाता है जो लोगों के अंधविश्वास के चलते अचानक ही विलुप्तता की कगार पर पहुँच गया है।

यह जीव है तक्षक या ‘टोकाय गेको’ (Tokay Gecko)। तक्षक एक प्रकार की छिपकली है जो कि करीब 40 सेंटीमीटर लम्बाई और 200 ग्राम वज़न तक की हो सकती है। यह छिपकली एशिया ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे बड़ी छिपकली की प्रजाति है। ये जीव वर्षावनों में अपना निवास स्थान बनाते हैं तथा इनका घर मूलरूप से पेड़ों आदि के कोटरों और छालों के अन्दर होता है। ये जीव मानव निवासों में भी रहने लायक अपने आप को ढाल लेते हैं। मानव निवासों में ये जीव दीवारों आदि पर देखने को मिल जाते हैं। इन जीवों को यदि संरक्षण में रखा जाए तो ये करीब 18 साल तक और यदि ये अपने प्राकृतिक आवास में रहे तो 7-10 साल तक जीवित रह सकते हैं।

पिछले कुछ वर्षों से ये जीव अपने से जुड़े कुछ अंधविश्वास के कारण तेज़ी से समाप्त होने की कगार पर हैं। चीन और अन्य कुछ देशों में यह धारणा है कि तक्षक से बनी दवाइयों के सेवन से एड्स (AIDS) जैसी बिमारी से भी निजात पाया जा सकता है। यह एक कारण है कि बड़ी संख्या में लोग इस जीव के पीछे पड़े हुए हैं। आज एक वयस्क तक्षक की कीमत बाज़ार में करोड़ों रूपए की है। आये दिन विश्व बाज़ार में पकड़े गए जीवों में जिनकी तस्करी की जा रही थी, में तक्षक की संख्या बहुत ही ज़्यादा है। एड्स के अलावा यह भी माना जाता है कि इनसे घाव आदि पर भी आराम पाया जा सकता है। हांलांकि अब तक हुए प्रयोगों में यह सिद्ध हो चुका है कि तक्षक के मांस या किसी भी अंग से किसी भी प्रकार की बिमारी का इलाज संभव नहीं है। परन्तु मानव और उसके अंधविश्वास के कारण ही आज तक्षक को जंगल अधिनियम के अनुसार विलुप्त प्राय प्राणी III और IV में स्थान दिया गया है।

भारत में लगाये गए नकेल के कारण इस जीव के व्यापार पर असर पड़ने के अच्छे आसार मिलने का संकेत है। इस जीव की तस्करी की गंभीरता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि इस जीव को खरीदने और बेचने के लिए तस्करों ने बकायदे फेसबुक पेज (Facebook Pages) और वेबसाइटें (Websites) बनायीं हैं। तक्षक को अंधविश्वास से बचाने के लिए लोगों को शिक्षित और जागरूक करने की कवायद करना एक ऐसा कदम हो सकता है जो इस जीव को फिर से जंगलों में बड़ी संख्या में स्थापित करने में सहायक हो सकता है।

संदर्भ:-
1.
https://bit.ly/2jYAUFW
2. https://www.dw.com/en/indian-geckos-are-in-high-demand-for-hiv-cures/a-16328544
3. http://www.conservationindia.org/gallery/tokay-gecko-the-million-rupee-reptile
4. https://bit.ly/2lTQWS1



RECENT POST

  • हानिकारक कीटों की उपस्थिति को इंगित करती हैं, चीटियां
    तितलियाँ व कीड़े

     10-07-2020 05:27 PM


  • क्या है चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (क्वाड)?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-07-2020 06:41 PM


  • मेसोपोटामिया और इंडस घाटी सभ्यता के बीच संबंध
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:39 PM


  • सुखद भावनाओं को उत्तेजित करती हैं पुरानी यादें
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:47 PM


  • काली मिट्टी और क्रिकेट पिच का अनोखा कनेक्शन
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:32 PM


  • आज का पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण
    जलवायु व ऋतु

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारतीय उपमहाद्वीप के लुभावने सदाबहार वन
    जंगल

     03-07-2020 03:10 PM


  • विशालता और बुद्धिमत्ता का प्रतीक भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 01:53 AM


  • मुरादाबाद के पीतल की शिल्प का भविष्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     02-07-2020 11:48 AM


  • रामपुर में इत्र की महक
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:13 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.