Machine Translator

जयपुर के जंतर मंतर का तारेक्ष कैसे भिन्न है, रामपुर रजा पुस्तकालय में मौजूद तारेक्ष से

रामपुर

 28-08-2019 03:03 PM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

रज़ा लाइब्रेरी रामपुर की वास्तुकला का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है। हामिद मंजिल के रूप में जाना जाने वाला यह पुस्तकालय अपने विभिन्न पांडुलिपियों, ऐतिहासिक दस्तावेजों, इस्लामी सुलेख नमूनों, लघुचित्रों, मुद्रित पुस्तकों और खगोलीय उपकरणों के दुर्लभ और मूल्यवान संग्रह के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। यहां संग्रहित सबसे पुराना खगोलीय उपकरण तारेक्ष (Astrolabe) है, जिसे सिराज दमशकी ने बनाया था।

लेकिन जयपुर के जंतर मंतर पर एक बेहतर तारेक्ष (यन्त्र राज) है। जयपुर के जंतर मंतर में यह यंत्र राज वहां मौजूद कई यंत्रों में से एक है। यंत्र राज नाम का शाब्दिक अर्थ है, यंत्रों का राजा। यह एक प्राचीन प्रकार का तारेक्ष है जो, खगोलशास्त्र में रूचि रखने वाले महाराजा सवाई जयसिंह का एक बहुत ही पसंदीदा साधन था।

राजा सवाई जय सिंह ने इस पर संस्कृत में एक विस्तृत पुस्तक लिखी, जिसे यंत्र राज कारिका कहा जाता है। यह पुस्तक वर्तमान में जयपुर के सिटी पैलेस (City Palace) के पुस्तकालय में रखी है। आज भी यह उपकरण भारतीय ज्योतिषियों और खगोलविदों के लिए बहुत महत्व रखता है और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की टिप्पणियों और गणनाओं के लिए किया जाता है।

माना जाता है कि यन्त्र राज अरब मूल का है। अरब तारेक्ष, टॉलेमी (Ptolemy) के सिद्धांतों पर आधारित था। यह मुस्लिम खगोलविदों के लिए एक बहुत लोकप्रिय उपकरण था, जिन्होंने इसे डिजाइन करने और इसे बेहतर बनाने में काफी सरलता का प्रयोग किया था। गुज़रते समय के साथ यह कला का एक बेजोड़ नमूना माना जाने लगा और उस समय खगोल विज्ञान की समझ और ज्ञान रखने वालों के लिए एक अनुपम विरासत।

भारत में तारेक्ष पर सबसे पहला काम 1370 ईस्वी में महेंद्र सूरी ने किया था। इसमें प्रयुक्त सिद्धांत हिंदू खगोलविदों के लिए नए नहीं थे। तारेक्ष प्राचीन हिंदू ग्रंथों में स्पष्ट रूप से एक खगोलीय मानचित्र के रूप में मौजूद था। ऐसे उपकरण का एक उदाहरण भास्कराचार्य का फलक यंत्र था, जिसमें एक धरातल (पटल) को क्षैतिज रूप से 90 बराबर भागों में विभाजित किया गया था और विभिन्न खगोलीय मंडलियों को दर्शाने वाली कुछ अन्य रेखाएँ खींची गईं थी। खगोलीय टिप्पणियों के उद्देश्य से इसे एक कुर्सी पर लंबवत रूप से लटका दिया गया। उस पटल को धूप में इस तरह रखा गया कि सूरज की रोशनी उसकी दोनों सतहों पर गिरे। पटल पर बनी रेखाओं पर गिरने वाली शंकु की छाया की ऊंचाई गणनाएं देगी। खगोलीय पिंडों को छड़ी के बाहरी छोर से देखा जाता था, जिसे खगोलीय मानचित्र पर विस्थापित किया जा सकता था।

अब जयपुर के जंतर मंतर में मौजूद तारेक्ष पर वापस आते हैं, इस उपकरण का कार्य इतना जटिल है कि इस उपकरण के मूल काम को समझाते हुए पुस्तकों के पूरे संस्करणों को लिखा जा सकता है। यंत्र 7 फीट व्यास के साथ एक बड़े धातु की तश्तरी के आकार में है। लेकिन निकट आने पर यह स्पष्ट रूप से सीधी और गोलाकार खगोलीय रेखाओं से बने मकड़ी के जाले के रूप में प्रतीत होता है। इस विशाल डायल (Dial) के केंद्र में एक छेद है, जो ध्रुव तारे का प्रतिनिधित्व करता है। इस बिंदु से 27 डिग्री नीचे एक घुमावदार रेखा पूर्व से पश्चिम की ओर खींची गई है, जो जयपुर के क्षितिज का प्रतिनिधित्व करती है। आंचलिकता, ऊँचाई और व्युत्पन्न मात्राओं की एक बड़ी संख्या के विभिन्न उपाय हैं। इसकी स्थापना के बाद से यह तरेक्सा काफी महत्वपूर्ण है और इसका उपयोग साल में एक बार हिन्दू कैलेंडर की गणना के लिए किया जाता है।

सन्दर्भ:-
1.
https://www.flickr.com/photos/achintyas_eye_view/4426046457
2. https://insa.nic.in/writereaddata/UpLoadedFiles/IJHS/Vol32_3_3_YOhashi.pdf
3. https://bit.ly/2HsOeux



RECENT POST

  • मानव शरीर में मौजूद हैं असंख्य लाभकारी सूक्ष्मजीव
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     18-09-2019 11:12 AM


  • उत्तर भारत की प्रसिद्ध मिठाई है खाजा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-09-2019 11:12 AM


  • प्रत्येक मानव में पाई जाती है आनुवंशिक भिन्नता
    डीएनए

     16-09-2019 01:38 PM


  • कैसे किया एक इंजीनियर ने भारत में दुग्ध क्रांति (श्वेत क्रांति) का आगाज
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:39 PM


  • रामपुर के नज़दीक ही स्थित हैं रोहिल्ला राजाओं के प्रमुख स्थल
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:30 AM


  • शुरुआती दिनों की विरासत हैं रामपुर स्थित फव्वारे
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:44 PM


  • विलुप्त होने की स्थिति में है मेंढकों की कई प्रजातियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • सर्गेई प्रोकुडिन गोर्स्की द्वारा रंगीन तस्वीर लिए जाने का इतिहास
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 12:17 PM


  • इस्लाम में चंद्रमा को देख मनाया जाता है मोहर्रम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:30 PM


  • सबका मन मोहता इंद्रधनुषी मोर पंख
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:32 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.