Machine Translator

क्या है रामायण और रामचरितमानस में अंतर?

रामपुर

 07-08-2019 02:08 PM
ध्वनि 2- भाषायें

महान हिंदू संत और कवि गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती के अवसर पर, उनके कार्य रामचरितमानस (अवधी हिंदी में लिखी गई) और यह ऋषि वाल्मीकि जी कृत रामायण (संस्कृत में लगभग 2000 साल पहले लिखी गई) से कैसे अलग है, इस बात की चर्चा करते हैं ।

वाल्मीकि जी द्वारा रचित रामायण प्राचीन भारत के इतिहास में साहित्य की सबसे बड़ी कृतियों में से एक है। यह समय की कसौटी पर खरी उतरी और अभी भी सभी पीढ़ियों के सबसे समीक्षकों द्वारा प्रशंसित कार्यों में से एक है। यह हर किसी के जीवन में सूक्ष्म विनम्रता के साथ उनकी आंतरिक आत्मा को छूती है। यह विश्व साहित्य के मानकों में मील का पत्थर साबित हुई है और 300 से अधिक भाषाओं में इसका अनुवाद किया गया है। यह शब्द-साहित्य के अंतर्गत सबसे बड़े प्राचीन महाकाव्यों में से एक है, जिसमें लगभग 24,000 छंद हैं, जो सात पुस्तक खण्डों (कांडों) में विभाजित हैं, जिसमें 500 सर्ग (अध्याय) शामिल हैं। भारतीय और विश्व साहित्य दोनों में रामायण का महत्व भारत की समृद्ध और विविध विरासत के लिए बहुत गर्व की बात है। सभी पीढ़ियों के लेखकों को वाल्मीकि जी की प्रतिभा के टुकड़े से बहुत प्रेरणा मिली है और उन्होंने उनके महान महाकाव्य के आधार पर कई काम किए हैं।

रामायण की सबसे लोकप्रिय प्रतिलिपियों में से एक रामचरितमानस है, जिसे गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है। रामचरितमानस, 16वीं शताब्दी के भारतीय भक्ति कवि गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित है। रामचरितमानस शब्द का अर्थ है, राम के कर्मों की झील। पूरी कहानी में मधुर ढंग से कविताओं का समावेश है। पूरी कहानी भगवान शिव द्वारा देवी पार्वती को सुनाई जाने वाली कथा है। 'मानस' शब्द का अर्थ शिव के मन में कल्पनाओं की झील से है। रामचरितमानस वाल्मीकि जी की रामायण जितनी ही लोकप्रिय साबित हुई है। इसे हिंदू पौराणिक कथाओं के साहित्यिक कार्यों में से एक माना जाता है। रामायण और रामचरितमानस महान भारतीय महाकाव्य हैं, जो हमें भगवान राम ( भगवान विष्णु के पृथ्वी पर सातवें अवतरण) की यात्रा बताते हैं।

वाल्मीकि रामायण और तुलसीदास की रामचरितमानस कब लिखी गई?
वाल्मीकि जी ने मूल रूप से 1500 से 500 ईसा पूर्व के बीच संस्कृत में रामायण लिखी थी। पुस्तक के उत्पादन की सही तारीख अज्ञात है, अनुमान नेपाल में पाए गए सबसे पुराने पांडुलिपियों से लेकर, 11 वीं शताब्दी तक के हैं। रामचरितमानस को गोस्वामी तुलसीदास ने 16वीं शताब्दी ईस्वी में हिंदी की अवधी बोली में लिखा था। हालाँकि तुलसीदास जी संस्कृत के बहुत बड़े विद्वान थे। उन्होंने अवधी बोली में रामायण का संस्करण लिखने का फैसला किया, ताकि महान नायक श्री राम की कहानी को स्थानीय भाषा में सुनाया जा सके, ताकि सभी के लिए इसे सुलभ बनाया जा सके। अवधी, उस समय मध्य और उत्तर भारत के प्रमुख हिस्सों में सामान्य भाषा में प्रयुक्त होने वाली भाषा थी। संस्कृत, तब विद्वानों और उच्च वर्ग द्वारा उपयोग की जाती थी और समझी जाती थी। वास्तव में, उस समय कई संस्कृत विद्वानों ने एक शानदार भाषा में, इस तरह की प्रतिभा और पवित्रता के काम को पुन: पेश करने के लिए तुलसीदास की अवहेलना की। हालाँकि, तुलसीदास जी महर्षि वाल्मीकि द्वारा कृत रामायण की कहानियों में निहित महान ज्ञान को सरल बनाने के अपने उद्देश्य में दृढ़ रहे।

वाल्मीकि रामायण और रामचरितमानस के 7 कांड

वाल्मीकि की रामायण सात कांडों में लिखी गई है, जिन्हें बाल कांड, अयोध्या कांड, अरण्य कांड, किष्किन्धा कांड, सुंदर कांड, युद्ध कांड और उत्तर कांड के नाम से जाना जाता है। यहां तक कि तुलसीदास जी ने भी रामचरितमानस को सात कांडों में विभाजित किया है। हालांकि, तुलसीदास जी ने युद्ध कांड का नाम बदलकर लंका कांड रखा है। यह रामायण और रामचरितमानस के प्रमुख अंतरों में से एक है।

रामायण को त्रेता युग में संस्कृत भाषा में ऋषि वाल्मीकि ने लिखा था। ऋषि वाल्मीकि भगवान राम के समकालीन थे। रामचरितमानस को कलयुग में महान अवधी कवि गोस्वामी तुलसीदास ने अवधी भाषा में लिखा था। तुलसीदास 15वीं शताब्दी ईस्वी (1511-1623) में रहे। रामायण शब्द दो शब्दों से बना है - राम और अयनम (कहानी), इस प्रकार रामायण का अर्थ राम की कहानी है। रामचरितमानस शब्द तीन शब्दों से बना है - राम, चरित्र (अच्छे कर्म) और मानस (झील), इस प्रकार रामचरितमानस का अर्थ है राम के अच्छे कर्मों की झील।

रामायण को श्लोकों के प्रारूप में लिखा गया है, जबकि रामचरितमानस को ‘चौपाई’ प्रारूप में लिखा गया है। रामायण भगवान राम और उनकी यात्रा की मूल कहानी है। रामचरितमानस रामायण का मूलमंत्र है। तुलसीदास ने अपनी पुस्तक में वाल्मीकि को माना है।

रामायण के अनुसार, राजा दशरथ की 350 से अधिक पत्नियां थीं, जिनमें से तीन प्रमुख पत्नियां थीं - कौसल्या, कैकेयी और सुमित्रा। रामचरितमानस के अनुसार राजा दशरथ की केवल तीन पत्नियां थीं। रामायण के अनुसार, भगवान हनुमान को एक ऐसे इंसान के रूप में दिखाया गया है जो वानर जनजाति से हैं। वानर दो शब्दों से बना है - वान (वन) और नर (मनुष्य)। वन में रहने वाली जनजातियों को रामायण में वानर के रूप में संदर्भित किया गया था। रामचरितमानस में उन्हें एक बंदर के रूप में दिखाया गया है और 'वानर' का इस्तेमाल बंदरों की अपनी प्रजाति का उल्लेख करने के लिए किया जाता है। रामायण के अनुसार, राजा जनक ने कभी सीता स्वयंवर का आयोजन एक बड़े समारोह के रूप में नहीं किया, इसके बजाय, जब भी कोई शक्तिशाली व्यक्ति जनक से मिलने जाता था, तो वह उन्हें शिव धनुष (शिव का धनुष) दिखाते थे और उन्हें इसे उठाने के लिए कहते थे। एक बार जब विश्वामित्र राम और लक्ष्मण के साथ जनक के पास गए, तब जनक ने राम को धनुष दिखाया। भगवान राम ने धनुष उठाया और उनका विवाह सीता से हुआ। रामचरितमानस के अनुसार, स्वयंवर का आयोजन राजा जनक द्वारा सीता के विवाह के लिए किया गया था और शिव के धनुष को उठाने की प्रतियोगिता थी। सीता उस व्यक्ति को अपने पति के रूप में चुनेंगी जो धनुष को बिना तोड़े उठा सकता है।

रामायण के अनुसार, सीता का अपहरण और कष्ट वास्तविक थे। उसे रावण द्वारा बलपूर्वक अपने रथ पर खींचकर उसका अपहरण किया गया था। राम ने सीता को बचाया और उनसे अग्नि परीक्षा लेकर दुनिया के समक्ष अपनी पवित्रता साबित करने के लिए कहा, जबकि रामचरितमानस के अनुसार, असली सीता का अपहरण कभी नहीं हुआ था। राम ने सीता के अपहरण का पूर्वाभास कर लिया था और उन्होंने अग्नि देव से सीता को सुरक्षित रखने के लिए आग्रह करते हुए, सीता की छायाप्रति बने थी। अग्नि परिक्षा ही वास्तविक सीता के साथ सीता के छायाप्रति का आदान-प्रदान करने का एक तरीका था।

रामायण के अनुसार, रावण दो बार रणभूमि में राम से लड़ने आया था। सबसे पहले, वह युद्ध की शुरुआत में आया था। दूसरा, वह युद्ध के अंत में आया था और राम द्वारा मारा गया था। रामचरितमानस में, रावण अंत में केवल एक बार युद्ध के मैदान में आया। रामायण में, राम को "मर्यादा पुरुषोत्तम" के रूप में दर्शाया गया है, जिसका अर्थ है उत्कृष्ट आचरण वाले श्रेष्ठ पुरुष। उन्हें असाधारण गुणों वाले मानव के रूप में दिखाया गया है। रामचरितमानस में राम को भगवान के अवतार के रूप में दर्शाया गया है। उनके कार्यों को भगवान की धार्मिक बुराइयों को दूर करने और धर्म की स्थापना के तरीके के रूप में वर्णित किया गया है।

रामायण में कहानी तब समाप्त होती है, जब राम ने सीता और लक्ष्मण की अनुपस्थिति में दुखी होकर सरयू नदी में डूबकर अपने नश्वर शरीर की यात्रा पूरी की थी। सीता माता पृथ्वी में लुप्त हो गई थीं और लक्ष्मण स्वयं सरयू नदी में डूब गए थे। रामचरितमानस में कहानी राम और सीता को जुड़वां बेटों लव और कुश के जन्म के साथ समाप्त होती है। इसमें कहीं भी लक्ष्मण की मृत्यु या सीता के गायब होने का उल्लेख नहीं किया गया है।

सन्दर्भ:-
1. https://bit.ly/2Yu8oPB
2. https://bit.ly/2GOMQSz
3. https://bit.ly/2KwaO6q



RECENT POST

  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM


  • अगस्त 1942 को गोवालिया टैंक मैदान में ध्वजारोहण के बाद की अनदेखी छवियाँ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:16 AM


  • सहयोग व रक्षा का प्रतीक हैं पर्यावरण अनुकूलित हस्तनिर्मित राखियां
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-08-2019 02:41 PM


  • रामपुर पर आधारित भावनात्मक इतिहास लेखन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-08-2019 12:44 PM


  • विभिन्न देशों में विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है, ईद-उल-जुहा / बकरीद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-08-2019 03:46 PM


  • भारत की महत्वपूर्ण वैज्ञानिक हस्तियां
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2019 12:14 PM


  • कुछ ऐसी सभ्यताएँ जो ख़त्म हो गयीं पारिस्थितिकी तंत्र के बदलाव से
    जलवायु व ऋतु

     10-08-2019 11:09 AM


  • हज यात्रा को पर्यावरण के अनुकूल बनाने हेतु एक कदम
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-08-2019 03:35 PM


  • बंगेश-बुंदेला युद्ध के कारण पड़ी रोहिलखंड राज्य की नींव
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     08-08-2019 03:50 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.