Machine Translator

हर रसोई की ज़रूरत टोस्टर का आविष्कार

रामपुर

 05-07-2019 11:39 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

टोस्टर एक विद्युत उपकरण है जिसका उपयोग ब्रेड (Bread) या डबलरोटी को सेकने के लिये किया जाता है। ब्रेड को रेडिएंट (Radiant) ताप के संपर्क में लाने के लिए इसे डिज़ाइन (Radiant) किया गया है ताकि ब्रेड भूरी रंग की और करारी हो जाये। ब्रेड को सेंकने की यह प्रथा सदियों पहले से चली आ रही है जो विशेष रूप से रोमन ने अपनायी थी। उस समय ब्रेड को खुली आग पर सेका जाता था। शब्द ‘टोस्ट’ (Toast) वास्तव में लैटिन शब्द ‘टॉस्टम’ (Tostum) से लिया गया है जिसका अर्थ है झुलसना। इस प्रक्रिया को बाद में अंग्रेजों द्वारा अपनाया गया। समय बदलने के साथ इस प्रक्रिया में बदलाव आया और एक विद्युतीय टोस्टर (Toaster) का आविष्कार हुआ। तो आईये जानते हैं कि कैसे यह विद्युतीय टोस्टर अस्तित्व में आया।

विद्युतीय टोस्टर का आविष्कार सबसे पहले 1893 एलन मैकमास्टर्स ने स्कॉटलैंड में किया जिसे उन्होंने एक्लिप्स टोस्टर (Eclipse Toaster) नाम दिया। इसे व्यावसायिक रूप से क्रोम्प्टन (Crompton) कंपनी द्वारा उत्पादित और विपणित किया गया था। इस टोस्टर में समस्या यह थी कि इसकी लोहे की वायरिंग (Wiring) पिघल जाती थी जो लोगों को जोखिम में डालती थी और इसका उपयोग करने के लिये घरों में उस समय बिजली भी व्यापक नहीं थी। 1905 के बाद अल्बर्ट मैश ने इसकी वायरिंग के पिघलने पर काम शुरू किया और निकेल (Nickel) और क्रोमियम (Chromium) से बनी वायरिंग जो आग के प्रति उच्च प्रतिरोधक थी, का निर्माण किया। और अंततः यह उनके द्वारा पेटेंट (Patent) कराया गया।

1906 में, जॉर्ज श्नाइडर ने ड्यू (Dew) टोस्टर बनाने के लिए नए मिश्र धातु का उपयोग करना शुरू किया। 1909 में फ्रैंक शैलर ने एक नए विद्युतीय टोस्टर का आविष्कार किया और इसके लिए पेटेंट प्राप्त किया। उनके इस टोस्टर को ‘डी-12’ टोस्टर कहा जाता था हालाँकि यह ब्रेड के केवल एक ही हिस्से को सेक सकता था और इसलिए इसे संचालित करने के लिए किसी की आवश्यकता होती है। टोस्टर का अगला विकास 1913 में हुआ जिसे हेज़ल बर्जर और उनके पति लॉयड कोपमैन ने कोपमैन कंपनी (Copeman Company) के द्वारा जारी किया। यह ब्रेड को स्वचालित रूप से दूसरी तरफ से भी सेक सकता था। इसके एक साल बाद वेस्टिंगहाउस (Westinghouse) ने भी अपने विद्युतीय टोस्टर का उत्पादन किया।

टोस्टर के विकास को 1919 में एक और सफलता प्राप्त हुई जब मिनेसोटा मैन्युफैक्चरिंग कंपनी (Minnesota Manufacturing Company) के लिए काम कर रहे चार्ल्स स्ट्राइफ ने एक स्वचालित टोस्टर का निर्माण किया जिसमें एक टाइमर (Timer) और स्प्रिंग (Spring) को भी लगाया गया था। यह वह डिज़ाइन है जिसे आधुनिक टोस्टर में उपयोग किया जाता है। 1930 तक यही डिज़ाइन उपयोग में लाया गया। इसके बाद 1930 में ब्रेड स्लाइसर (Slicer) का भी निर्माण किया गया। 1980 के दशक में टोस्टर व्यापक स्लॉट्स (Slots) के साथ बनाए गए जो प्लास्टिक के बने थे अर्थात ताप प्रतिरोधी भी थे। 21वीं सदी में, टोस्टर अब माइक्रोचिप्स (Microchips) का उपयोग कर रहे हैं जो विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के लिये भी उपयोग किये जा सकते हैं।

इस प्रकार टोस्टर को तीन श्रेणीयों में वर्गीकृत किया जा सकता जोकि निम्न है:

•पॉपअप टोस्टर (Pop-up Toaster): पॉप-अप या स्वचालित टोस्टर में, ब्रेड के एक टुकड़े को टोस्टर के ऊर्ध्वाधर शीर्ष पर डाला जाता है। टोस्टिंग चक्र के समय को लीवर (Lever) या नॉब (Knob) की श्रृंखला के माध्यम से समायोजित किया जाता है। इसका आंतरिक उपकरण निर्धारित करता है कि टोस्टिंग चक्र पूरा हो गया है और यह बंद हो जाता है।

•टोस्टर ओवन (Toaster Oven): यह अनिवार्य रूप से छोटे पैमाने का पारंपरिक ओवन है। इसमें एक दरवाज़ा होता जिसे खोलकर क्षैतिज रूप से उन्मुख ब्रेड स्लाइस (या अन्य खाद्य पदार्थों) को इसकी एक रैक (Rack) पर रखा जाता है। रैक के ऊपर और नीचे तापीय तत्व होते हैं। दरवाज़े को बंद कर इसके नियंत्रणों को समायोजित किया जाता है ताकि जब ब्रेड टोस्ट हो जाये तो तापीय तत्व बंद हो जाए। क्योंकि ब्रेड को क्षैतिज रखा जाता है इसलिये इसका उपयोग टॉपिंग टोस्ट (Topping Toast- अर्थात ब्रेड के ऊपर कुछ भी रख सकते हैं जैसे पनीर, आलू आदि) बनाने में भी किया जा सकता है। टोस्टर ओवन (2-3 मिनट) आमतौर पर पॉप-अप टोस्टर (4-6 मिनट) की तुलना में अधिक समय लेते हैं।

•प्रवहणी (Conveyor) टोस्टर: कन्वेयर टोस्टर, टोस्ट के कई स्लाइस बनाने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं जिनका उपयोग आमतौर पर खानपान उद्योग, रेस्तरां, वाणिज्यिक खाद्य सेवाओं में किया जाता है जहां निरंतर या उच्च मात्रा में टोस्टिंग की आवश्यकता होती है। इसमें एक घंटे में 300-1600 स्लाइस की दर से ब्रेड को टोस्ट किया जाता है।

इनकी बढ़ती उपयोगिता को देखते हुए नयी तकनीकों के विकास के साथ इसका संशोधन किया जाना आज भी जारी है।

संदर्भ:
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Toaster
2. https://www.worldatlas.com/articles/when-was-the-toaster-invented.html
3. https://www.johndesmond.com/blog/products/the-history-of-toasters/



RECENT POST

  • क्या वास्तव में अपराध के विषय में देश के लिये आदर्श हैं रामपुर के गांव?
    व्यवहारिक

     19-07-2019 11:42 AM


  • क्या रामपुर की धरती के नीचे मौजूद हैं तारे?
    खनिज

     18-07-2019 12:10 PM


  • रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र का इतिहास
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     17-07-2019 01:50 PM


  • दो ग्रीक दार्शनिक एवं उन पर भारत का प्रभाव
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-07-2019 03:12 PM


  • दिल्‍ली के होटलों में परोसे जाने वाले रामपुरी व्‍यंजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-07-2019 01:02 PM


  • मधुर और कर्णप्रिय सांध्य राग भीमपलासी
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     14-07-2019 09:00 AM


  • क्या है भाषा का दर्शन?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     13-07-2019 12:23 PM


  • रोहिलखण्ड और अवध रेलवे में भारत के प्रारम्भिक लोकोमोटिव इंजन
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     12-07-2019 01:08 PM


  • अमूल्य गुणों से भरपूर चंदन के पेड़ का संरक्षण है आवश्यक
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     11-07-2019 01:03 PM


  • संतुलित आहार का जीवन में महत्व
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     10-07-2019 01:19 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.