Machine Translator

क्या है बीटलविंग कला

रामपुर

 25-06-2019 11:30 AM
तितलियाँ व कीड़े

वर्तमान में भारत और अन्य देशों में महिलाएं विभिन्न प्रकार के आभूषणों और वस्त्रों का उपयोग कर रही हैं जिनको विभिन्न तकनीकों से निर्मित किया गया है। कुछ तकनीकें आधुनिक हैं तो वहीं कुछ पारंपरिक। बीटलविंग (Beetlewing) भी इन्हीं तकनीकों में से एक है।

बीटलविंग कला वास्तव में एक प्राचीन शिल्प तकनीक है जिसका प्रयोग कपड़ों और आभूषणों को सजावटी रूप देने के लिये काफी वर्षों पहले से किया जा रहा है। इस तकनीक में सजावटी रूप देने के लिये भृंगो (Beetle) के पंखो का उपयोग किया जाता है। यह शैली कोई नवीन नहीं बल्कि प्राचीन है और कई शाही घरानों द्वारा उपयोग भी की गयी है। इस प्राचीन शैली का उपयोग थाईलैंड, म्यांमार, चीन और जापान आदि देशों में काफी समय से ही किया जाता आ रहा है। दक्षिण भारत में यह आज भी विशेष रूप से लोकप्रिय है किंतु कुछ स्थानों जो कि हस्तकला और कढ़ाई के लिये जाने जाते हैं, जैसे कि रामपुर और बरेली में इसकी लोकप्रियता नहीं है। भारत में 19वीं शताब्दी के दौरान भृंग पंखों के टुकड़ों का उपयोग करके कशीदाकारी वस्त्रों की उत्कृष्ट कृतियों का उत्पादन किया गया था। भृंगों का जीवन काल बहुत कम (लगभग 3 से 4 सप्ताह) होता है और इसलिए इस तकनीक को अपनाने हेतु केवल उन ही भृंगों को एकत्रित किया जाता है जिनकी मृत्यु प्राकृतिक कारणों से होती है।

इनके पंखों का रंग हरा, तांबे जैसा, सोने के समान पीला और गहरा नीला होता है। जैसे ही पंखों पर प्रकाश पड़ता है तो सभी रंगों की विभिन्न परतें प्रदर्शित होने लगती हैं और यह इंद्रधनुष के समान चमकने लगता है। इनकी आकृति मज़बूत नाखूनों के समान होती है जिनका भार बहुत हल्का होता है। पर यदि इन पर अधिक ज़ोर दिया जाए तो ये चटक कर टूट जाते हैं।

इंद्रधनुषी भृंग पंखों का उपयोग चित्रों, वस्त्रों और गहनों को सजाने के लिये एशिया की प्राचीन संस्कृतियों में महत्वपूर्ण रूप से किया गया। इस तकनीक को अपनाने के लिये मेटालिक वुड-बोरिंग बीटल्स (Metallic wood-boring beetle) की विभिन्न प्रजातियों के पंखों का उपयोग किया गया लेकिन परंपरागत रूप से इन प्रजातियों में सबसे महत्वपूर्ण प्रजाति स्टर्नोसेरा (Sternocera) वंश की है। ये प्रजाति अपने पंखों की प्राकृतिक चमक को बनाये रखती है। थाईलैंड में भी स्टर्नोसेरा एक्विसिग्नाटा (Sternocera aequisignata) का उपयोग शाही घरानों के कपड़ों और गहनों को सजाने के लिए किया जाता था। जापान में पारंपरिक रूप से सजावटी काम में इस्तेमाल होने वाली भृंगों की प्रजाति क्राईसोक्रोआ फुलगिडिस्सीमा (Chrysochroa fulgidissima) है, जिसे वहाँ तामामुशी (Tamamushi) कहा जाता है। बैंकॉक में, इस तकनीक के साथ बनाए गए शिल्पों और गहनों के दुर्लभ टुकड़ों को राजा चुलालोंगकॉर्न (King Chulalongkorn) के दुसित पैलेस (Dusit Palace) परिसर, जो अब एक संग्रहालय बन चुका है, में प्रदर्शित किया गया है। आधुनिक बीटलविंग कार्य सरल वस्तुओं जैसे बालियों और कोलाज (Collage) पर किया जा रहा है जिनका विपणन पर्यटक केंद्रित दुकानों के माध्यम से किया जा रहा है। आभूषणों में इनका उपयोग करने के लिए पंखों को पांच मिनट के लिए भांप दी जाती है ताकि वे नरम हो जाएं और फिर एक तेज़ सुई की मदद से इनके सिरों और पक्षों में छेद किया जाता है। पंखों को विभिन्न आकार में काटा या छांटा भी जा सकता है और इन पर सिलाई भी की जा सकती है। भृंगों के ये पंख आज ऑनलाइन (Online) भी उपलब्ध हैं।

इसके अतिरिक्त इस तकनीक के लिये इरीडीसेंट इलीट्रा (Iridescent elytra) जोकि क्राइसोमलीडिया (Chrysomeloidea) और स्काराबीडिया (Scaraboidea) परिवार से संबंधित हैं, का उपयोग भी किया जाता है। आभूषण भृंग शारीरिक रूप से अन्य भृंगों से भिन्न होते हैं क्योंकि इनकी त्वचा चिटिन (Chitin) से बनी होती है। इन पर चिटिन अणुओं की कई परतें होती हैं जो कि चमकदार रंग प्रदर्शित करती हैं। इसका इंद्रधनुषी रंग चिटिन की परतों की संरचना के कारण ही उत्पन्न होता है न कि किसी वर्णक के कारण। इस तकनीक के प्रारूप को आप निम्न वीडियो में देख सकते हैं:

राजस्थान में आज भी इनका उपयोग पोम-पोम्स (Pom-poms) और बालों के आभूषण बनाने में किया जाता है। भृंग परिवार की 15,000 से भी अधिक प्रजातियां भारत में पायी जाती हैं, जिनका उपयोग बीटलविंग तकनीक में बहुत महत्वपूर्ण है।

संदर्भ:
1.https://bangaloremirror.indiatimes.com/opinion/others/urban-jungle-a-shine-like-no-other/articleshow/64005313.cms
2.https://en.wikipedia.org/wiki/Beetlewing
3.https://www.needlenthread.com/2007/10/beetle-wings-for-embroidery.html
4.https://frontline.thehindu.com/environment/wild-life/the-beetles-story/article9583232.ece



RECENT POST

  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM


  • अगस्त 1942 को गोवालिया टैंक मैदान में ध्वजारोहण के बाद की अनदेखी छवियाँ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:16 AM


  • सहयोग व रक्षा का प्रतीक हैं पर्यावरण अनुकूलित हस्तनिर्मित राखियां
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-08-2019 02:41 PM


  • रामपुर पर आधारित भावनात्मक इतिहास लेखन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-08-2019 12:44 PM


  • विभिन्न देशों में विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है, ईद-उल-जुहा / बकरीद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-08-2019 03:46 PM


  • भारत की महत्वपूर्ण वैज्ञानिक हस्तियां
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2019 12:14 PM


  • कुछ ऐसी सभ्यताएँ जो ख़त्म हो गयीं पारिस्थितिकी तंत्र के बदलाव से
    जलवायु व ऋतु

     10-08-2019 11:09 AM


  • हज यात्रा को पर्यावरण के अनुकूल बनाने हेतु एक कदम
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-08-2019 03:35 PM


  • बंगेश-बुंदेला युद्ध के कारण पड़ी रोहिलखंड राज्य की नींव
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     08-08-2019 03:50 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.