Machine Translator

सेल्फी के प्रति युवाओं का बढ़ता रूझान बन रहा है उनकी मौत का कारण

रामपुर

 03-06-2019 11:30 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

वर्तमान में स्मार्ट फोन (Smart Phone) के चलन से जहां पूरी दुनिया इंटरनेट (Internet) के माध्यम से आपस में जुड़ चुकी है तो वहीं इनका बढ़ता चलन और अत्यधिक निर्भरता समाज के लिये घातक भी सिद्ध हो रहा है। स्मार्ट फोन से ली जाने वाली सेल्फीज़ (Selfies) भी इसका ही एक उदाहरण हैं। अपनी सुंदरता का पता लगाने के लिए जहां पहले शीशे का प्रयोग किया जाता था तो अब इन शीशों की जगह सेल्फीज़ ने ले ली है। सेल्फी लेने की जगह का चुनाव अधिकांश लोगों के जीवन के लिये भारी पड़ रहा है। अक्सर ही लोग आपको रेलवे ट्रेक (Railway Track) के पास, समुद्र, नदियों या तालाबों, चट्टानों या पहाड़ों पर सेल्फीज़ लेने के लिये खड़े दिख जायेंगें जो कि इस बात से अनभिज्ञ हैं कि हमारी जान जोखिम में है। इसलिये सेल्फी के चलन से होने वाली मौतों को किल्फी (Killfie) का नाम दिया गया है। 2016 की रिपोर्ट ‘मी, माईसेल्फ एंड माई किल्फी’ (Me, Myself and My Killfie) के अनुसार सेल्फी के दौरान मरने वाले लोगों की संख्या सर्वाधिक भारत में ही है जिसके बाद रूस का स्थान है।

रूस के कई सेलीब्रिटीयों (Celebrities) की जोखिम भरी सेल्फी आपको अपने इंस्टाग्राम (Instagram) आदि में दिखायी दे जायेंगी, किंतु वास्तव में वे लोग अधिक जोखिम में नहीं होते क्योंकि उन्हें इसके लिये बहुत कठिन ट्रेनिंग (Training) के साथ पूरे सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराये जाते हैं। लेकिन इनसे प्रेरित हुए सामान्य लोगों के लिये ये स्टंट (Stunt) महंगे पड़ जाते हैं और वे अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं। इस कड़ी में अक्सर ही लोगों की मौत ट्रेनों की चपेट में आने, ऊँचाई से गिरने, नदियों, झीलों और तालाबों में डूबने, या बाँधों और समुद्र के किनारे बह जाने से हो रही है जो कि सेल्फी की ही देन है। शोधकर्ताओं के अनुसार 2017-18 में 18 महीने की अवधि में हुई 127 सेल्फी मौतों में से 76 भारत में हुईं। कर्नाटक के रामागोंडलु गांव का मंदिर तीर्थयात्रियों के साथ-साथ कॉलेज के छात्रों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। कुछ समय पहले कुछ छात्र जो कि नेशनल कैडेट कोर (National Cadet Corps) का हिस्सा थे, यहां घूमने के लिये आये किंतु श्याम को 15 फीट गहरे तालाब में सेल्फी लेते समय एक छात्र की वहां डूबकर मौत हो गयी। और अचम्भे की बात तो यह है कि जब वह छात्र डूब रहा था, तब उसके मित्र अपनी सेल्फी लेने में व्यस्त थे तथा एक सेल्फी में उस डूबते हुए छात्र का चित्र भी मौजूद है। इसी प्रकार क्षेत्र में सेल्फी के कारण कई हादसे सामने आये जिसके बाद से यहां सेल्फी के विरुद्ध अभियान भी चलाया गया।

2014 में अमेरिका में भालू सेल्फी (Bear selfies) का भी चलन सामने आया था जिसके कारण अमेरिकी वन सेवा द्वारा इसके विरूद्ध चेतावनी दी गयी। हालांकि इसे अनसुना करते हुए कुछ लोग यह चलन अभी भी अपना रहे हैं। हमारा रामपुर भी इस श्रेणी में कहीं पीछे नहीं है। यहां भी सेल्फी से प्रभावित कई लोग मौत की दिशा में अग्रसर हुए। कुछ वर्ष पहले एक दर्जन स्थानीय छात्रों के कोसी नदी में बहने का किस्सा यहां सामने आया था। जिनमें से कक्षा दसवीं के दो छात्र नदी में डूब गये जबकि 10 छात्रों को गोताखोरों द्वारा बचाया गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार छात्र सेल्फी लेने में इतने व्यस्त थे कि उन्हें लालपुर बांध से छोड़े गए पानी के अचानक प्रवाह का आभास ही नहीं हुआ। इसी प्रकार कानपुर के गंगा बैराज में भी 7 युवा लड़के सेल्फी के कारण नदी में डूब गये थे।

गौर करने वाली मुख्य बात तो यह है कि इन दुर्घटनाओं में युवाओं की संख्या अधिक है। विशेषज्ञों के अनुसार सोशल मीडिया (Social Media) पर खुद को साबित करने की दौड़, वास्तविक जीवन में प्रशंसा न मिलना, जागरूकता की कमी और इंटरनेट की बहुत अधिक उपलब्धता आदि कारक ऐसे हैं जो युवाओं में सेल्फीज़ के चलन को बढ़ा रहें है। इसके अलावा युवा पहले किताबों, पत्रिकाओं, फ़िल्मों, और संगीत में रूचि रखते थे किंतु आज उनकी रूचि स्मार्ट फोन में अधिक हो गयी है। इस आयु वर्ग में युवा वास्तविक और आभासी दुनिया के बीच अंतर नहीं कर पाते और तुरंत प्रसिद्धि के लिए किसी भी हद तक चले जाते हैं।

इस समस्या से उभरने के लिये वर्तमान में माता-पिता तथा शिक्षकों को भी उनके साथ सोशल मीडिया पर जुड़े रहने की आवश्यकता है ताकि वे अपने युवाओं की क्रियाविधि पर नज़र रख सकें। इसके अतिरिक्त लोगों को इस तकनीक के सही उपयोग और इसके दुष्प्रभावों के बारे में भी जागरूक किये जाने की आवश्यकता है ताकि ऐसे हादसों से छुटकारा पाया जा सके।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/2MlKHDc
2. https://ind.pn/2GJltXi
3. https://www.bbc.com/news/world-asia-india-41966981
4. https://www.hindustantimes.com/lucknow/selfie-the-new-killfie-is-it/story-72fkV0B7HEkqJdqxX29f5K.html
5. https://www.youtube.com/watch?v=Aae0nJn-nvo
6. https://bit.ly/2HSVz7w



RECENT POST

  • क्या सच में प्रकृति के लिए वरदान है, कोविड - 19 (Covid – 19)?
    व्यवहारिक

     05-04-2020 03:45 PM


  • दांतों के विकारों में काफी लाभदायक होता है मौलसिरी वृक्ष
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     04-04-2020 01:20 PM


  • आंवला शहर में है रोहिलखंड के पहले नवाब अली मुहम्मद खान की कब्र
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     03-04-2020 04:00 PM


  • मातृका का इतिहास और पूजन की मान्यता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-04-2020 04:30 PM


  • रोहिल्ला के सम्मान में रखा गया था एस.एस. रोहिल्ला जहाज़ का नाम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     01-04-2020 05:00 PM


  • मानव के मस्तिष्क में कैसे पैदा होता है भय?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     31-03-2020 03:45 PM


  • विश्व भर के लिए रोगवाहक-जनित बीमारियां हैं एक गंभीर समस्या
    व्यवहारिक

     30-03-2020 02:50 PM


  • जीवन और मृत्यु के साथ का एक रूप है, द लाइफ ऑफ़ डेथ
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-03-2020 05:00 PM


  • कोरोनो विषाणु की अभूतपूर्व चुनौती का सामना करने हेतु किया जा रहा है अनेक योजनाओं का संचालन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     28-03-2020 03:50 PM


  • कोरोना ने कैसे किया पृथ्वी के वातावरण को सुरक्षित
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     27-03-2020 04:00 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.