Machine Translator

क्या सच में होते थे जादुई घोड़े या ये बस एक काल्पनिक जीव है?

रामपुर

 24-04-2019 07:52 PM
शारीरिक

अक्सर आपने जादुई किताबों, कहानियां और फिल्मों में दो शानदार मिथकीय जीव यूनिकॉर्न (UNICORN) और पेगासस (PEGASUS) को देखा ही होगा। यूनिकॉर्न एक शानदार घोड़ा है जिसे अक्सर सफेद रंग का दिखाया जाता है और इसके माथे पर एक सींग सामने की ओर निकला होता है वहीं पेगासस की बात की जाए तो यह भी एक मिथकीय जीव है, इसे भी एक शानदार उड़ने वाले घोड़े के रूप में दर्शाया जाता है। वैसे तो यह व्यापक रूप से माना जाता है कि ये मिथकीय जीव केवल परी कथाओं में मौजूद है। परंतु, प्राचीन किंवदंतियों और जीवित लिखित स्रोतों में आज भी यह सवाल अनसुलझा है कि यूनिकॉर्न और पेगासस मौजूद हैं या नहीं।

ऊपर दिया गया चित्र पुनर्जागरण काल के चित्रकार डोमेनिको जम्पियरी (Domenico Zampieri) द्वारा चित्रित कुंवारी लड़की और यूनिकॉर्न (The Virgin and The Unicorn) नामक चित्र है।

प्राचीन काल में ऐसा माना जाता था कि यूनिकॉर्न एक जादुई जीव है जिसके सींग में जादुई शक्तियां होती है, इस सींग से सभी तरह की बीमारियों को खत्म किया जा सकता है, यहां तक कि ज़हरीले पानी को भी पीने योग्य बनाया जा सकता है। यूनिकॉर्न को सिंधु घाटी सभ्यता के प्राचीन मुहरों में भी दर्शाया गया था, सिन्धु घाटी सभ्यता के कुछ मुहरों पर एक सींग वाले पशु (जिसकी रूपरेखा किसी बैल के जैसी हो सकती है) का चित्र है। जो पूर्व में यूरोप, एशिया और उत्तरी अफ्रीका में बसे हुए थे। परंतु इससे जुड़े कुछ अपवाद भी हैं। कहा जाता है कि यह मुहरे हड़प्पा के शासक वर्ग की प्रतीक थी।

ऊपर दिया गया चित्र यूरोपियन यूनिकॉर्न (European Unicorn) की कलाकृति है।

हालांकि यूनानी पौराणिक कथाओं में यूनिकॉर्न का जिक्र नहीं है, परंतु यूनानी लेखकों के प्राकृतिक इतिहास में विवरणों में इसका उल्लेख है। माना जाता है कि यूनिकॉर्न का पता उन्हें भारत में मिला था जो उनके लिए एक दूरवर्ती एवं उत्कृष्ट क्षेत्र था। इसका आरंभिक विवरण मेगस्थनीज (Megasthenes) से प्राप्त हुआ है जिन्होंने अपनी पुस्तक “इंडिका (ऑन इंडिया)” में इन जीवों को जंगली गधों के रूप में वर्णित किया था जिसके पैरों में काफी फुर्ती थी और जिसका एक सींग था जिसकी लम्बाई 28 इंच थी और जिसका रंग सफ़ेद, लाल एवं काला था।

इसके अलावा स्ट्रैबो (Strabo), प्लिनी द यंगर (Pliny the Younger), और कॉस्मस इंडिकोप्लस्टेस (Cosmas Indicopleustes (हिंदी अर्थ: कॉसमस जो भारत आए थे)) आदि लेखकों ने भी अपने विवरणों में इसका उल्लेख किया है। बाइबिल में कई जगह रीम (Re’em) नामक एक पशु का उल्लेख मिलता है, जिसे प्रायः अन्य संकरणों में यूनिकॉर्न के रूप में अनुवादित किया गया है। हालांकि चीनी पौराणिक कथाओं में क़िलिन नामक एक प्राणी को कभी-कभी "चीनी यूनिकॉर्न" कहा जाता है, लेकिन यह एक पशु है जो देखने में यूनिकॉर्न जैसा कम लगता है और जिसका शरीर एक मृग की तरह है। यूरोपीय लोककथाओं में, यूनिकॉर्न को अक्सर लंबे सींग और फटे खुर (कभी-कभी बकरी की दाढ़ी) के साथ सफेद घोड़े या बकरी जैसे जानवर के रूप में चित्रित किया गया है।

कई बार यूनिकॉर्न के बड़े-बड़े पंख दिखाए जाते हैं जिससे कि वह चमत्कारिक रुप से आकाश में उड़ने लगता है, इसे पंख वाला यूनिकॉर्न नाम दिया गया है, परंतु कुछ साहित्यों में इसे एक एलिकॉर्न (Alicorn) के रूप में संदर्भित किया गया। लैटिन में एलिकॉर्न का अर्थ “यूनिकॉर्न का सींग” होता है, जिसे पानी को शुद्ध करने और बीमारियों को ठीक करने में सक्षम माना जाता है। एलिकॉर्न, यूनिकॉर्न और पेगासस दोनों से मिलते है, इसके पास यूनिकॉर्न के समान सींग और पेगासस के समान पंख होते है।

पेगासस की बात की जाये तो आपने किस्से कहानियों में उड़ने वाला घोड़ा देखा ही होगा, इसे पेगासस नाम दिया गया था, वास्तव में पेगासस ग्रीक पौराणिक कथाओं का सबसे अधिक मान्यता प्राप्त जीव है। पेगासस को आमतौर पर सफेद रंग में दर्शाया जाता है। ग्रीक पौराणिक कथाओं के अनुसार पेगासस की उत्पत्ति ओलंपियन देवता पोसाएडन के बेटे के रूप में हुई थी। हालांकि बाद के लेखकों ने कहानियों और किस्सों में उड़ने वाले घोड़े को पेगासस कहा जिसके बहुत बड़े-बड़े पंख होते हैं। कहा जाता है कि पेगासस देवताओं के राजा ज़्यूस के निर्देश दिये जाने पर बिजली और गड़गड़ाहट लाता था।

ऊपर दिए गये चित्र में पेगासस का चित्रान्वित किया गया है।

युनिकोर्न, एलिकॉर्न और पेगासस में क्या अंतर है?

यूनिकॉर्न और पेगासस में सबसे बड़ा अंतर यह है कि यूनिकॉर्न को एक मिथकीय जीव के रूप में देखा जाता था जबकि पेगासस की उत्पत्ति के बारे में माना जाता था कि यह एक देवता का पुत्र है। दुसरा सबसे बड़ा अंतर यह है कि युनिकोर्न के पास एक सींग होता है लेकिन पेगासस के सिर पर कोई सींग नहीं होता परंतु उसके पास बड़े बड़े पंख होते हैं।
ऊपर दिया गया चित्र द्वितीय विश्व युद्ध में ब्रिटिश एयरबोर्न फोर्सेस (British Airborne Forces), बेलोरोफ़न (Bellerophon) के द्वारा उड़ते हुए घोड़े एलिकोर्न (Alicorn) पर सवार सिपाही को प्रतीक के रूप में प्रयुक्त किया गया था
वहीं एलिकॉर्न की बात की जाये तो ये जीव यूनिकॉर्न और पेगासस दोनों का मिला झुला रूप है, इसके पास यूनिकॉर्न के समान माथे एक सींग और पेगासस के समान पंख होते हैं।


संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Unicorn
2.https://www.harappa.com/content/unicorn
3.https://www.quora.com/Whats-the-difference-between-a-unicorn-a-Pegasus-and-an-alicorn
4.https://en.wikipedia.org/wiki/Pegasus
5.https://en.wikipedia.org/wiki/Winged_unicorn

चित्र सन्दर्भ :-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Unicorn#/media/File:DomenichinounicornPalFarnese.jpg
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Pegasus#/media/File:British_Airborne_Units.svg

3. https://image.freepik.com/free-vector/hand-drawn-unicorn_53876-88174.jpg



RECENT POST

  • भारत के अनाथालयों में बच्चों की बढ़ती संख्या एक गंभीर मुद्दा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-06-2019 12:40 PM


  • क्या है बीटलविंग कला
    तितलियाँ व कीड़े

     25-06-2019 11:30 AM


  • विश्‍व में आठवां सबसे बड़ा नियोक्‍ता भारतीय रेलवे
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-06-2019 11:59 AM


  • क्रिकेट विश्व कप में भारत के कुछ यादगार लम्हे
    हथियार व खिलौने

     23-06-2019 09:15 AM


  • रामपुर की जामा मस्जिद एवं भारत की विभिन्‍न मस्जिदों में सौर घडि़यों की भूमिका
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-06-2019 11:45 AM


  • योग का एक अनोखा रूप - कुंडलिनी योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     21-06-2019 10:40 AM


  • रुडयार्ड किपलिंग की कविता में रोहिल्ला युद्ध का वर्णन
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-06-2019 11:36 AM


  • टी-शर्ट का इतिहास
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     19-06-2019 11:15 AM


  • पाकिस्‍तान में अभी भी जीवित हस्‍त कशीदाकारी
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:10 AM


  • क्‍या है लाल मांस और सफेद मांस के मध्‍य भेद?
    शारीरिक

     17-06-2019 11:13 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.