जैन धर्म के दो समुदाय – दिगंबर और श्वेताम्बर

रामपुर

 18-04-2019 12:05 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दिगम्बर संघ में साधु नग्न रहते है और श्वेतांबर संघ के साधु श्वेत वस्त्र धारण करते है। इसी मुख्य विभिन्नता के कारण यह दो संघ बने। चंद्रगुप्त मौर्य के शासनकाल के दौरान, जैन परंपरा बताती है कि आचार्य भद्रबाहु ने बारह साल लंबे अकाल की भविष्यवाणी की और अपने शिष्यों के साथ कर्नाटक चले गए। स्थूलभद्र (आचार्य भद्रबाहु के शिष्य), मगध में रहे। इसके बाद, जब आचार्य भद्रबाहु के अनुयायी लौटे, तो उन्होंने पाया कि जो लोग मगध में थे, उन्होंने सफेद कपड़े पहनना शुरू कर दिया था, जो दूसरों के लिए अस्वीकार्य था, जो नग्न रहते थे। (जैन अनुयायियों के अनुसार इसी कारण जैन धर्म में दिगंबर और श्वेताम्बर मत प्रारंभ हुए।) दिगंबर ने इसे अपरिग्रह के जैन सिद्धांत के विरोध के रूप में देखा, क्यूंकि दिगंबर के अनुसार जैन अनुयायियों को कपड़ो का भी त्याग करना होता है जो की परिग्रह का एक कारण हैं। दिगंबर, श्वेतांबर संप्रदाय द्वारा मान्य आगम-ग्रंथों को प्रामाणिक नहीं मानते। ऊपर दिए गये चित्र में एक ओर दिगंबर समुदाय के साधू श्री कुन्द्कुंदाचार्य भगवान हैं और एक श्वेताम्बर समुदाय के साधू का प्रतिनिधि चित्र है।

दिगंबर-श्वेताम्बर मतभेद – दोनों संप्रदायों में निम्नलिखित मुख्य भेद हैं—
दिगंबर - दिगंबर परंपरा के भिक्षु कपड़े नहीं पहनते हैं। दिगंबर संप्रदाय में मोक्ष के लिये नग्नत्व को मुख्य बताया गया है। दिगंबर संप्रदाय की महिला मठवासी बिना सिले सफेद साड़ी पहनती हैं और उन्हें आर्यिका कहा जाता है। महावीर ने पाँच प्रतिज्ञाएँ सिखाईं, जिनका दिगंबर पालन करते हैं। दिगंबर संप्रदाय श्वेताम्बर जैनियों की व्याख्याओं से असहमत है, और पार्श्वनाथ और महावीर के शिक्षण में अंतर के सिद्धांत को अस्वीकार करते हैं। दिगंबर स्त्री-मुक्ति को निषेध मानते हैं।

ऊपर दिया गया चित्र तमिलनाडु के तिरुवान्न्मलई जिले में स्थित तिरुवनईकोएल की गुफाओं में खोजा गया दिगंबर जैन साधू श्री पार्श्वनाथ का भित्ति चित्र है।

श्वेताम्बर - श्वेताम्बर सन्यासी सफेद कपड़े पहनते हैं। श्वेतांबर मोक्ष पाने के लिये नग्नत्व को आवश्यक नहीं मानते। श्वेताम्बर जैनियों ने अपनी प्रथाओं को पार्श्वनाथ की शिक्षाओं से प्राप्त किया। श्वेतांबर परंपरा में उन्नीसवें तीर्थकार मल्लिनाथ को मल्लिकुमारी के रूप में स्वीकार किया गया है। श्वेताम्बर जैनियों का मानना है कि जैन धर्म के 23 वें और 24 वें तीर्थकारों ने शादी की। श्वेताम्बर संस्करण के अनुसार, पार्श्वनाथ ने प्रभाती से विवाह किया, और महावीर ने यशोदा से विवाह किया, जिससे उन्हें प्रियदर्शना नाम की एक पुत्री हुई। श्वेताम्बर प्रतीकों को अधिक सजाया जाता है, जिससे वे सजीव प्रतीत हों।
ऊपर दिया गया चित्र श्वेताम्बर जैन साधू तशरीह-अल-अक़्वाम (Tashrih al-aqvam) का है।

जैन धर्म में निर्वस्त्रता –
जैन धर्म के दिगंबर संप्रदाय के अनुसार, भिक्षु और नन "आकाश-मंडल" के समान होते हैं और इसी कारणवश इस संप्रदाय के सदस्य अपनी पवित्र मूर्तियों को और स्वयं को नग्न रखते हैं। हालाँकि, श्वेतांबर संप्रदाय "सफेद-कपडा" पहनते हैं और उनकी पवित्र मूर्तियाँ एक लंगोट (Loin Cloth) पहनती हैं।

अन्य धर्मों में निर्वस्त्रता – प्रारंभिक मिस्र (Early Egypt) - यह ज्ञात है कि अखेन-अटन (Akhken-Aton) और नेफेरतिति (Nefertiti) सूरज की किरणों में नग्न होने वाले पहले मिस्रवासी नहीं थे। (चौदहवीं शताब्दी में, एक नग्न सुमेरियन पुजारी की नक्काशी ब्रिटिश संग्रहालय में संरक्षित है, और एक पंद्रहवीं शताब्दी, की नग्न पेंटिंग में मिस्र की लड़की लुटिस्ट (Lutist) एक थेब्स (Thebes) कब्र की दीवार पर पाई जाती है।

प्राचीन ग्रीस (Ancient Greece) - शुरुआती यूनानी एथलेटिक्स और मूर्तिकला में नग्नता इतनी आम थी कि ऐतिहासिक रूप से इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है, इतिहासकार ग्रीक जीवन में नग्नता के लिए धार्मिक और दार्शनिक आधारों को नजरअंदाज करते हैं। यूनानी लोग जितना संभव हो सके मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से अपने देवताओं की नकल करने का प्रयास करते थे ताकि वो उनको श्रद्धांजलि दे सके और उनके प्रति अपनी श्रद्धा निर्दिष्ट कर सके।

प्राचीन भारत - सिकंदर के समय (356-323 ई.पू.) में भारत में कई तपस्वी संप्रदाय थे, जिनके सदस्य अपने आध्यात्मिक अनुशासन के तहत नग्न होकर चलते थे। अधिकतर, अजीविकास ने अपने शिष्यों की पूर्ण नग्नता की मांग की। यह समूह लगभग दो हजार साल पहले पूरी तरह से गायब हो गया। बुद्ध अपने धर्म को पाने से पहले एक नग्न तपस्वी थे, और यह सुझाव दिया गया है कि बुद्ध ने अपने अनुयायियों को मुख्य रूप से अन्य संप्रदायों से अलग करने के लिए वस्त्र पहने थे।

आज, भारत के अधिकांश नग्न पवित्र पुरुष जैनियों से जुड़े हुए हैं, एक प्रमुख भारतीय धर्म के सदस्यों ने लगभग 500 ई.पू. जैनियों के संस्थापक महावीर ने सभी सांसारिक वस्तुओं को त्यागने की अपनी प्रतिज्ञा के रूप में भिक्षुओं के लिए पूरी नग्नता पर जोर दिया।

आज के समय में हमें यह ज्ञात होना चाहिए की नग्नता को अश्लीलता की श्रेणी में नही रखा जा सकता। नग्नता मानव इतिहास में प्राचीन समय से ही एक पवित्र परियोजन है। आज के मानव की मानसिक अनुभूति कमज़ोर हो जाने के कारण हम आज नग्नता को शर्म या अश्लीलता की श्रेणी में खड़ा कर देते हैं ।

सन्दर्भ:-
1. https://www.jainworld.com/jainbooks/antiquity/digasvet.htm
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Jain_schools_and_branches
3. https://bit.ly/2GtgiOo
चित्र सन्दर्भ:-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Asceticism
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Sth%C4%81nakav%C4%81s%C4%AB#/
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Jain_sculpture#/



RECENT POST

  • सुखद भावनाओं को उत्तेजित करती हैं पुरानी यादें
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:47 PM


  • काली मिट्टी और क्रिकेट पिच का अनोखा कनेक्शन
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:32 PM


  • आज का पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण
    जलवायु व ऋतु

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारतीय उपमहाद्वीप के लुभावने सदाबहार वन
    जंगल

     03-07-2020 03:10 PM


  • विशालता और बुद्धिमत्ता का प्रतीक भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 01:53 AM


  • मुरादाबाद के पीतल की शिल्प का भविष्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     02-07-2020 11:48 AM


  • रामपुर में इत्र की महक
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:13 PM


  • पृथ्वी के सबसे बड़े खतरों में से एक है 'क्षुद्रग्रह' का पृथ्वी से टकराना
    खनिज

     30-06-2020 06:30 PM


  • क्या है, भारतीय इतिहास में मुद्रा शास्त्र की भूमिका
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 12:30 PM


  • हिंदी फिल्म अकेले हम और हॉलीवुड की फिल्म द गॉडफ़ादर के मध्य का सम्बन्ध
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:30 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.