माँ दुर्गा के नौ रूप

रामपुर

 07-04-2019 07:00 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मनाईये नवरात्री माँ दुर्गा के नौ रूप और उनके मंत्रो के साथ।

माँ शैलपुत्री ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः
वह प्रकृति का पूर्ण रूप है और ब्रह्मा, विष्णु और महादेव की शक्ति का अवतार है।

माँ ब्रह्मचारिणी ॐ देवी ब्रह्मचारिण्यै नम:
यह माँ का अविवाहित, ब्रह्मचर्य रूप है।

माँ चंद्रघंटा ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नम:
देवी का यह रूप अपने भक्तों की शांति और कल्याण की रक्षा के लिए, अपने सभी हथियारों के साथ युद्ध के लिए तैयार है।

माँ कूष्माण्डा ॐ देवी कूष्माण्डायै नम:
वह अपने भक्तों को सिद्धियाँ (अलौकिक शक्तियाँ) और निधियाँ (धन) देती हैं।

माँ स्कंदमाता ॐ देवी स्कन्दमातायै नम:
"आग की देवी" के रूप में पहचाना जाने वाला वह बच्चे स्कंद को अपनी गोद में रखती है।

माँ कात्यायनी ॐ देवी कात्यायन्यै नम:
उसे क्रोध, प्रतिशोध और राक्षसों पर अंतिम विजय के लिए जाना जाता है।

माँ कालरात्रि ॐ देवी कालरात्र्यै नम:
वह समय की मृत्यु है और स्वयं काल (समय) से अधिक है।

महागौरी ॐ देवी महागौर्यै नम:
महागौरी को क्षमा करने वाली देवी के रूप में जाना जाता है और पापियों को क्षमा कर उन्हें शुद्ध करती है।

माँ सिद्धिदात्री ॐ देवी सिद्धिदात्र्यै नम:
वह अपने भक्तों को सभी प्रकार की सिद्धि (अलौकिक शक्तियां) प्रदान करती हैं और इसलिए उनकी पूजा मनुष्य, घंडार्व, असुर और देव समान करते हैं।

संदर्भ:

वीडियो के निर्माता - जयपुर द पिंक सिटी (jaipurthepinkcity)



RECENT POST

  • भारत में क्रिकेट की तुलना में इतना लोकप्रिया नहीं है फुटबॉल
    हथियार व खिलौने

     29-09-2020 03:18 AM


  • पारंपरिक और नाभिकीय हथियारों का फर्क
    हथियार व खिलौने

     28-09-2020 09:58 AM


  • फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     27-09-2020 06:51 AM


  • स्वर्ण अनुपात- संख्याओं और आकृतियों का सुन्दर समन्वय
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-09-2020 04:34 AM


  • वाइन और धर्म के बीच संबंध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-09-2020 03:23 AM


  • बरेच जनजाति और रोहिल्ला कनेक्शन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 04:00 AM


  • भारत में तुर्कों का मुगलों से लेकर वर्तमान की राजनीति पर एक उल्लेखनीय प्रभाव
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:25 AM


  • ‘इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic)’ वस्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण हैं, रामपुर स्थित रंग महल
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:27 AM


  • सबसे पुराने ज्ञात कला रूपों में से एक हैं मिट्टी के बर्तन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:05 AM


  • बादामी गुफाएं और उनका गहराई
    खदान

     20-09-2020 09:32 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id