Machine Translator

किसानों के लिए केला है एक बेहतर विकल्‍प

रामपुर

 26-02-2019 11:43 AM
साग-सब्जियाँ

आजकल देश में किसानों की आय दुगनी करने की बात की जा रही है। जिसमें मिश्रित फसल का उत्‍पादन अहम भूमिका निभा रहा है, भारत में इसका प्रचलन बढ़ता जा रहा है। उत्पादकों के लिए अंतर फसल के कई लाभ हैं जैसे जोखिम कम करना, उपलब्ध संसाधनों का प्रभावी उपयोग, मजदूरों का कुशल उपयोग और भूमि के प्रति यूनिट क्षेत्र में उत्पादन में वृद्धि, क्षरण में नियंत्रण और खाद्य सुरक्षा एवं आय में वृद्धि। अंतर फसल के रूप में केला किसानों के मध्‍य काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसके बागानों को आसानी से उगाया जा सकता है साथ ही यह अतिरिक्‍त आय का एक अच्‍छा विकल्‍प है।

केला एक ऐसी फसल है जो लगभग पूरे भारत में उगाया जाता है। भारत में केले की फसल अधिकांशतः छोटे किसानों द्वारा सीमित क्षेत्र में उगायी जाती है। केले का उत्‍पादन धान, कॉफी, कोको, रबर, नारंगी और आम के साथ उगाया जाता है, साथ ही यह इन फसलों के लिए छायादार वृक्ष के रूप में कार्य करता है। ककड़ी, कद्दू, तरबूज, ककड़ी, आदि जैसी सब्जियों को केले के साथ उगाने से बचना चाहिए क्‍योंकि यह केले को संक्रमित करने वाले क्लोरोसिस वायरस का स्‍त्रोत होते हैं। केले की खेती में ड्र‍िप सिंचाई प्रणाली अपनाने के साथ पंक्तियों के मध्‍य रिक्‍त स्‍थानों पर अन्‍य फसल उगाना आसान है। केले के साथ अन्‍य अंतर फसल (प्याज, लहसुन और फूलगोभी) उगाकर शोध किया गया, जिसमें अर्थशास्त्र पर प्रबंधन के प्रभाव को रिकॉर्ड करके अंतर फसलीय प्रारूप के प्रभावों का आकलन किया गया।

खेती की लागत
यूरिया : Rs. 250 /50 किग्रा
एसएसपी : Rs. 170 /50 किग्रा
एमओपी : Rs. 230 /50 किग्रा
श्रम : Rs. 100 / दिन
विक्रय मूल्य (रु. / किग्रा)
केला : 7
प्याज : 12
लहसुन : 50
फूलगोभी : 10

भारत ब्राजील के बाद दुनिया का सबसे बड़ा केला उपभोक्ता और उत्पादक देश है, जो कुल विश्व उत्पादन में लगभग 15 प्रतिशत योगदान देता है। भारत में फलों के उत्‍पादन में केला आम बाद दूसरा स्‍थान रखता है। भारत में, केले का वार्षिक उत्पादन पूरे देश में फैले 7.09 लाख हेक्टेयर के क्षेत्र में 26.21 मिलियन टन है। फलों के अंतर्गत केले का कुल क्षेत्रफल 12.50 प्रतिशत है, जो देश में कुल फल उत्पादन का लगभग एक तिहाई है। भारत में, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, असम और गुजरात प्रमुख केला उत्पादक राज्य हैं। सबसे अधिक उत्पादकता महाराष्ट्र में 62.0 टन प्रति हेक्‍टेयर है, इसके बाद वर्ष 2008-09 में गुजरात में 58.7 टन प्रति हेक्‍टेयर है।

अधिकांश केले उत्‍पादकों ने दावा किया है कि उन्‍होंने इसके उत्‍पादन से अतिरिक्‍त मुनाफा कमाया है तथा उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार आया हैं। यदि अन्‍य किसान विशेषकर वे जो अपनी पारंपरिक फसलों में हानि के कारण आत्‍महत्‍या करने की सोच लेते हैं, उनके लिए केला अंतरफसल के रूप में एक बेहतर विकल्‍प होगा। रामपुर के एक किसान अपनी तीन एकड़ भूमि में पिछले कुछ समय से केले उगा रहे हैं और सिर्फ एक एकड़ उपज से 4.50 लाख रुपये तक कमा चुके हैं। उत्‍तर प्रदेश में 30.4 हेक्‍टेयर भूमि में लगभग 1138.6 मैट्रिक टन केले का उत्‍पादन किया जाता है।

संदर्भ :
1. https://bit.ly/2SW5Yq1
2. https://bit.ly/2H2gkxo
3. https://bit.ly/2GKjHd7
4. http://www.researchjournal.co.in/upload/assignments/7_330-332.pdf



RECENT POST

  • भारत के अनाथालयों में बच्चों की बढ़ती संख्या एक गंभीर मुद्दा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-06-2019 12:40 PM


  • क्या है बीटलविंग कला
    तितलियाँ व कीड़े

     25-06-2019 11:30 AM


  • विश्‍व में आठवां सबसे बड़ा नियोक्‍ता भारतीय रेलवे
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-06-2019 11:59 AM


  • क्रिकेट विश्व कप में भारत के कुछ यादगार लम्हे
    हथियार व खिलौने

     23-06-2019 09:15 AM


  • रामपुर की जामा मस्जिद एवं भारत की विभिन्‍न मस्जिदों में सौर घडि़यों की भूमिका
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-06-2019 11:45 AM


  • योग का एक अनोखा रूप - कुंडलिनी योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     21-06-2019 10:40 AM


  • रुडयार्ड किपलिंग की कविता में रोहिल्ला युद्ध का वर्णन
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-06-2019 11:36 AM


  • टी-शर्ट का इतिहास
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     19-06-2019 11:15 AM


  • पाकिस्‍तान में अभी भी जीवित हस्‍त कशीदाकारी
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:10 AM


  • क्‍या है लाल मांस और सफेद मांस के मध्‍य भेद?
    शारीरिक

     17-06-2019 11:13 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.