चावल के पकवानों से समृद्ध विरासत का धनी- रामपुर

रामपुर

 13-02-2019 03:18 PM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

रामपुर ना सिर्फ रामपुरी चाकू के लिये प्रसिद्ध है बल्कि स्वाद के मामले में भी बेहद समृद्ध विरासत का धनी है। यहां परंपरागत खान-पान से लेकर आधुनिक व्यंजनों की विभिन्नता उपलब्ध है। कह सकते हैं कि रामपुर का खान-पान इसके सांस्कृतिक विस्तार का एक पहलू है। यहां का पुलाव हो या बिरयानी दोनों ही रामपुरवासियों को विरासत में मिले हैं। खाद्य व्यंजनों में यहां चावल से बने पकवान रामपुरवासियों की भोजन की थाली में अत्यन्त महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। कोई भी दावत, अंतिम संस्कार या प्रार्थना सभा हो, पुलाव या बिरयानी के बिना पूरी नहीं होती है।

भोजन रामपुरी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, और रामपुरवासी अपने याखनी पुलाव और बिरयानी से बहुत प्यार करते हैं। याखनी पुलाव जिसमें चावल, मीट और ढेर सारे भारतीय मसालों का इस्तेमाल होता है, एक ऐसा पकवान है जो मसालों की सुगंध और स्वाद से भरा होता है, यह फारसी संस्करण के करीब है, और बिरयानी रामपुरियों द्वारा उबले हुए चावल के साथ कोरमा मीट करी के मिश्रण के रूप में बनाया जाता है। घर पर कोई पार्टी हो या आम दिनों में पारिवारिक भोजन का आयोजन हों तो चावल के ये दोनों पकवानों को बनाया ही जाता है। नवाबों के समय से ही रामपुर में चावलों से बने व्यंजनों का खासा महत्व रहा है।

नवाबों के समय में रामपुर के 'खासबाग पैलेस' में एक अलग रसोई थी जिसमें चावलों के व्यंजनों को पकाने के लिये कई खानसामें रखे गये थे। नवाब होशयार जंग, जो 1918 से 1928 तक नवाब हामिद अली खान के दरबार से जुड़े रहे थे, वे अपने विवरण मसाहिदात में लिखते हैं कि रसोई में 150 रसोइये थे। ऐसे रसोइये, मुगल सम्राटों के दरबार या ईरान, तुर्की और इराक में नहीं मिलते थे। रामपुर के रजा लाइब्रेरी में भी एक दुर्लभ रामपुरी व्यंजनों की 150 साल पुरानी फ़ारसी पांडुलिपि मौजूद है। यह हस्तनिर्मित पांडुलिपियां 1870 के दशक में लिखी गई थी, जब नवाब कल्बे अली खां (1865-87) का शासन था। इन्हें व्यंजनों को पकाने के लिए अभिलेख के रूप में रखा गया है। इसमें लगभग 200 व्यंजनों की विधि लिखी हुई हैं।

यहां का पुलाव शाहजहानी संभवतः दिल्ली की रसोई से रामपुर की रसोई में आने वाला व्यंजन था। क्योंकि 1857 के विद्रोह और राजवंशों के पतन के बाद रामपुर में अन्य कलाकारों की तरह दिल्ली और लखनऊ के कई रसोइयों ने रामपुर में रोजगार मांगा था, तो कहा जा सकता है शायद पुलाव शाहजहानी रामपुर में, बाहर से आये व्यंजनों में से एक है। वर्तमान में मूल यखनी पुलाव बड़े ही मौलिक तरीके से बनाया जाता है जबकि रजा लाइब्रेरी की हस्तनिर्मित पांडुलिपियों में इसकी विधि बहुत ही जटिल है। इसमें भव्य पुलाव शाहजहानी से लेकर मीठा पुलाव, मुतंजन पुलाव, दूध और चीनी से बना शीर शक्कर पुलाव, इमली पुलाव आदि के बारे में जानकारी मिलती है। इनमें से अधिकांश के बारे में तो आपने शायद सुना ही नहीं होगा, ये चावल के व्यंजन रामपुर के गौरवशाली भोजन के इतिहास का एक हिस्सा रहे हैं।

संदर्भ:
1.https://www.dailyo.in/arts/the-quest-for-rampuri-pulao-shahjahani/story/1/29094.html



RECENT POST

  • रामपुर हाइकोर्ट के गौरवपूर्ण 9 दशक
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     04-06-2020 03:00 PM


  • इंडो-ग्रीक इतिहास का एक महत्वपूर्ण बिंदु है उनके द्वारा बनाए गये सिक्के
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     03-06-2020 05:30 PM


  • क्यों देखा जा रहा है, कीड़ों में भविष्य का भोजन
    तितलियाँ व कीड़े

     02-06-2020 10:55 AM


  • क्या है, अधिस्थगन अवधि?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     01-06-2020 11:30 AM


  • असंभव सपनों की उड़ान है, वन स्माल स्टेप (One Small Step)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 12:00 PM


  • एक बीते युग को जीवंत करती हैं, एडविन लॉर्ड वीक्स की चित्रकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:20 AM


  • भारत में पालतू कुत्तों के रखरखाव लिए आज भी की जाती है सेवकों की नियुक्ति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:25 AM


  • भारत और तुर्की का अनूठा रिश्ता
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 09:40 AM


  • क्या है, हिन्दू धर्म साहित्य में श्रुति और स्मृति?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 01:45 PM


  • शरीर की मौसम संबंधी जरूरतों को पूरा करते हैं, मौसमी फल और सब्जियां
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.