रामपुर की ज़रदोज़ी- औज़ार एवं रचनाएँ

रामपुर

 04-07-2017 12:00 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े
ज़रदोज़ी की कारीगरी के लिए इस्तेमाल किए गए औज़ारों में मुग़ल काल से ले कर अब तक ज्यादा परिवर्तन नहीं आए हैं| कपड़ों पर कढ़ाई करने के लिए पहले उनको एक ढ़ाचे में ढाल दिया जाता है| ये ढांचा जो की ज़्यादातर लकड़ी का बना होता है, ज़रदोज़ी कारीगरी का मुख्य औजार है| कपड़ों को जोर से खिंच कर चारों तरफ से एक ढांचे में मढ़ देते है और फिर कढ़ाई की जाती है| इसके अलावा कैंची, सुइयां (छोटी बड़ी और अलग-अलग चौड़ाई की), एक छोटी लकड़ी जिसपर सोने का तार लपेटा जाता है - आरी इन सबका इस्तेमाल होता है| एक थापी और एक हथोड़ी -कढ़ाई के ऊपर पीटने के लिए भी लगता है ताकि वो कपड़े पर समतल बैठ जाए| आज के समय में कपड़े पर रचनाओं को बनाने की काफी प्रक्रिया विकसित हो गई हैं| इसको बनाने के लिए एक पेपर पर रचना (डिजाईन) बना लिया जाता है जिसे खाका बोलते हैं| इसका छाप कपड़े पर बनाया जाता है जिस पर ज़री की तार से सुई के ज़रिये कढ़ाई की जाती है| इसमें मनका, शीशा का भी प्रयोग करते है|सोने की बनी ज़री से बनने वाले कपड़े सबसे उत्कृष्ट होते हैं| सलमा, कोरा, दबका, चिकना, गिजई, जिक, चालक, तिकोना, कांगरी, किनारी, खिच्चा - सोने की कढ़ाई के प्रकार हैं जो की ज़रदोज़ी के साथ इस्तेमाल किये जाते हैं| ये सभी कढ़ाई के तरीके कपड़े के प्रकार पर निर्भर करते हैं| रचनाओं की बात करे तो रामपुर में बने ज़रदोज़ी के अलावा फूल पत्ती के अलग अलग रचनाएँ कपड़ों की सुन्दरता में चार चाँद लगा देते हैं| मीनाकारी के काम में जरी और सिल्क के धागे को मिला कर कढ़ाई की जाती है| ज़रदोज़ी कढ़ाई की वैसे तो काफी रचनाएँ है लेकिन इनमे से जो सबसे प्रचलित हैं वो हैं - जाली, पत्ती, पंछी, जानवर, फूल और अलग अलग तरह की रेखाएँ| 1. ज़रदोज़ी- ग्लिटरिंग गोल्ड एम्ब्रायडरी – चारू स्मिता गुप्ता 2. तानाबाना- टेक्सटाइल्स ऑफ़ इंडिया, मिनिस्ट्री ऑफ़ टेक्सटाइल्स, भारत सरकार 3. हेंडीक्राफ्ट ऑफ़ इंडिया – कमलादेवी चट्टोपाध्याय 4. टेक्सटाइल ट्रेल इन उत्तर प्रदेश (ट्रेवल गाइड) – उत्तर प्रदेश टूरिज्म

RECENT POST

  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id