क्या है भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड (IFS Code)?

रामपुर

 09-01-2019 05:00 PM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

वर्तमान में भारत में अलग-अलग तरह के लाखों बैंक हैं, वहीं प्रत्येक बैंकों की बहुत सारी शाखाएं भी है। इन शाखाओं की पहचान के लिए एक कोड दिया जाता है। जिसे हम लोग आईएफएससी (IFSC – Indian Financial System Code) के नाम से जानते हैं। अब आपके मन में यह प्रश्न आ रहा होगा कि ये आईएफएससी है क्या?

भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड (आईएफएससी) भारत में बैंक-शाखाओं की विशिष्ट पहचान के लिए डिजाइन किया गया एक अक्षरांकीय (जिसमे अक्षर और अंक दोनों हो) कोड है, जो भारत में इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (Electronic Fund Transfer) की सुविधा उपलब्ध कराता है। यह कोड विशिष्ट रूप से भारत में दो मुख्य भुगतान और निपटान प्रणालियों (तत्काल सकल निपटान (Real Time Gross Settlement) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (National Electronic Fund Transfer)) के प्रत्येक बैंक शाखा की पहचान कराता है। यह 11 अंकों का कोड होता है जिसके प्रथम चार अंक बैंक कोड का प्रतिनिधित्व करते हैं, वहीं अगला अंक शून्य होता है, जिसे भविष्य में उपयोग के लिए आरक्षित किया गया है और शेष 6 अंक बैंक की शाखा की पहचान करने के लिए होते हैं। आईएफएससी कोड का प्रारूप निम्न है:

उदाहरण के लिए: भारतीय स्टेट बैंक का आईएफएससी कोड: SBIN 0 011168 है। इसमें पहले चार वर्ण SBIN, भारतीय स्टेट बैंक को संदर्भित करते हैं। और अंतिम छह वर्ण बैंक की विशेष शाखा को, जो इसमें खेमरी शाखा, रामपुर को संदर्भित कर रही है।

आईएफएससी को भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा बाँटा जाता है और ये कोड अद्वितीय होते हैं, यानि किसी भी दो बैंकों या शाखाओं के समान कोड नहीं हो सकते हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाईट पर आई.एफ.एस.सी कोड की सूची व उन बैंक शाखाओं की सूची उपलब्ध है जो एनईएफटी/आर.टी.जी.एस के अंतर्गत आते हैं।

आईएफएससी कोड के बारे में कुछ रोचक तथ्य:
130,000 कोड - वर्तमान में लगभग 130,000 आईएफएससी कोड आरबीआई द्वारा विभिन्न बैंकों और शाखाओं को दिए गए हैं। इन कोड की मदद से शाखाओं की स्पष्ट पहचान होने से यह सुनिश्चित किया जाता है कि राशि को उचित बैंक शाखा में उचित लाभार्थी को ट्रान्सफर किया जाएं।

सबलेट (sublet) शाखाएँ - जैसा की हमने ऊपर आपको बताया कि सभी शाखाओं के भिन्न कोड होते हैं। लेकिन सबलेट शाखाओं, जो छोटे बैंकों को संदर्भित करते हैं, वहीं आसानी से बैंक के नामों से पहचाने जाने वाले बैंकों को (जैसे सहकारी बैंक) आईएफएससी कोड नहीं दिए गए हैं।

भुगतान बैंकों के लिए आईएफएससी कोड - प्रत्येक भुगतान बैंकों को उनके व्यक्तिगत आईएफएससी कोड आवंटित हैं। यह बैंकिंग सिस्टम आर्बिआइ द्वारा कुछ वर्ष पहले ही शुरु की गयी हैI यह बैंक अन्य व्यावसायिक बैंकों के मुताबिक थोड़ा भिन्न है जो भुगतान राशी स्वीकार करना (1 लाख तक), नेट बैंकिंग की सुविधा, मोबाइल बैंकिंग आदि की सुविधाएं देते हैI हालांकि इन्हें, किसी भी प्रकार के उधार या क्रेडिट कार्ड जारी करने की अनुमति नहीं है। भुगतान बैंक के कुछ उदाहरण है पेटीएम (PayTM), एयरटेल आदि।

ये तो हुई आईएफएससी कोड की बात, लेकिन क्या आपने कभी ध्यान दिया कि आपकी चेक बुक के चेक के सबसे नीचले हिस्से में कुछ अंक होते हैं, वे एमआईसीआर कोड होते हैं, मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकग्निशन (Magnetic Ink Character Recognition) (एमआईसीआर), इसके नाम से ही पता चलता है कि ये एक कैरेक्टर रिकग्निशन टेक्नोलॉजी (Character Recognition Technology) है, जो चेक के जल्दी से प्रोसेसिंग होने में मदद करती है। प्रत्येक बैंक शाखा को एक अद्वितीय एमआईसीआर कोड दिया जाता है और इससे आरबीआई को बैंक शाखा की पहचान करने और चेक क्लियरिंग प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद मिलती है।

यह नौ अंकों का संख्यात्मक कोड है जहां प्रत्येक तीन अंक बैंक के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी और लेनदेन के बारे में बताता है। इसमें पहले तीन अंक बैंक शाखा के शहर के पिन कोड का प्रतिनिधित्व करते हैं, जैसे दिल्ली के लिए पहले तीन नंबर ‘110’ होते हैं। दूसरे तीन अंक बैंक के अद्वितीय कोड होते हैं और आखिरी के तीन अंक ब्रांच का अद्वितीय कोड होते हैं। उदाहरण के लिए, आईसीआईसीआई बैंक की चेक बुक में एमआईसीआर कोड 110229003 है, यानि

1) 110 शहर कोड (दिल्ली)
2) 229 बैंक कोड (आईसीआईसीआई बैंक)
3) 003 बैंक शाखा कोड (गुड़गाँव)

अब जैसे की हम आईएफएससी और एमआईसीआर कोड के बारे में जान गए हैं, तो इनके मध्य अंतर को हम आसानी से जान सकते हैं, इनके मध्य अंतर निम्न है:

• आईएफएससी कोड भारत के भीतर बैंकों के बीच इलेक्ट्रॉनिक मनी ट्रांसफर (Electronic Money Transfer) शुरू करने के लिए विकसित किया गया है, एमआईसीआर चेक प्रोसेसिंग को तेज और सरल बनाने के लिए एक मैग्नेटिक इंक रिकग्निशन टेक्नोलॉजी है।
• आईएफएससी कोड अक्षरांकीय 11 अंकों का अद्वितीय कोड है, जबकि एमआईसीआर 9 अंकों का संख्यात्मक कोड है।

आप प्रारंग के रामपुर पोर्टल के पेज (https://rampur.prarang.in/smart.php) की स्मार्ट सुविधाओं के बैंकिंग भाग का उपयोग करके अपना आईएफएससी कोड और कई अन्य बैंकिंग सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं।

संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_Financial_System_Code
2.https://razorpay.com/blog/decoding-ifsc-codes/
3.https://www.fingyan.com/ifsc-code-vs-and-micr-code/



RECENT POST

  • क्या है, हिन्दू धर्म साहित्य में श्रुति और स्मृति?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 01:45 PM


  • शरीर की मौसम संबंधी जरूरतों को पूरा करते हैं, मौसमी फल और सब्जियां
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • संस्कृति, इतिहास और भौगोलिक विविधता के प्रचारक हैं कपड़े
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 09:00 AM


  • क्या है, दुनिया की सबसे हल्की वस्तु ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-05-2020 10:50 AM


  • ईद के दौरान सलात की प्रथा और इसकी महत्ता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:30 AM


  • क्या निजी अनुबंध से पुदीने की खेती को होगा लाभ?
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     22-05-2020 10:10 AM


  • क्या चंदन उगाने पर लगे प्रतिबंध को हटाया जाना चाहिए?
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-05-2020 10:20 AM


  • बन्दूक की गोलियों के विरुद्ध रेशम की अभेद्यता
    हथियार व खिलौने

     20-05-2020 09:30 AM


  • कोविड-19 के प्रभावों के साथ भविष्य में होंगे अनेकों स्थायी परिवर्तन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2020 09:30 AM


  • व्यक्तियों और समुदायों के जीवन को समृद्ध करते हैं, संग्रहालय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-05-2020 01:00 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.