Machine Translator

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन की दृष्टि से रामपुर के लिए एक महत्वपूर्ण देश, अफगानिस्तान

रामपुर

 22-12-2018 10:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

यदि हम रामपुर वासियों से ये कहें कि आप अगर अंतर्राष्ट्रीय यात्रा का प्लान (Plan) बना रहे हैं तो आपको अफगानिस्तान के बारे में ज़रूर सोचना चाहिये, तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? शायद अफगानिस्तान का नाम लेते ही आप ये सोचने लगे हों कि आखिरकार यहां ऐसा क्या है जो हमे वहां जाना चहिये, तो हम आपको बता दें कि अफगानिस्तान मनमोहक दृश्यों और नज़ारों से भरा पड़ा है। और यहां की राजधानी काबुल दुनिया का सबसे तेज़ी से बढ़ता हुआ शहर माना जाता है। यह शहर लगातार अविश्वसनीय गति से बढ़ रहा है। साथ ही साथ अफगानिस्तान और रोहिलखंड दोनों के बीच पुराने समय से ही गहरे संबंध रहे हैं।

1657 में मकरंद राय द्वारा बरेली की नींव रखी गई थी और यह शहर अफगान योद्धाओं द्वारा पोषित एक अफ़ग़ान शहर ही था। बाद में यह इसके आसपास के क्षेत्रों पर नियंत्रण हासिल कर चुके प्रवासी समुदाय के रोहिल्लाओं की राजधानी बना। बरेली का विकास इन्हीं रोहिल्ला योद्धाओं के द्वारा किया गया था। ये वो जांबाज़ योद्धा थे जिन्होंने रोहिलखंड को एक नई पहचान दिलाई थी। बाद में अवध के शासक ने अंग्रेज़ों की मदद से इस क्षेत्र को जीत लिया। अफगानों ने न केवल रोहिलखंड को विकसित किया बल्कि समृद्ध रूप से इसे एक शांति के शहर में बदलकर रख दिया जहां सभी धर्मों के लोग अपना जीवन शांतिपूर्वक जी रहे थे। आज भी रोहिलखंड के शहरों में आपको अफगानों के कई पुरातात्विक स्थल देखने को मिल जाएंगे जैसे कि जामा मस्जिद (पीलीभीत), हाफिज़ रहमत खान का मकबरा (बदायूं), रज़ा पुस्तकालय (रामपुर) आदि।

आज भी रोहिलखंड में अफ़ग़ानों को महसूस किया जा सकता है, आज भी यहां कई अफ़ग़ान जनजातियों के गौरवशाली अतीत की सुगंध फैली हुई है। आज अफ़ग़ानिस्तान एक बहुत सुंदर और घूमने लायक स्थान है, यह पर्यटन की दृष्टि से मध्‍य एशिया का एक महत्वपूर्ण केंद्र माना जाता है। हम आपको यहाँ की कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिन्हें पढ़ कर शायद आप यहां जाने का प्लान बना बैठें:

1. निकटवर्ती देश:
अफगानिस्तान का इस्लामी गणराज्य, भारत के निकटवर्ती देशों में से एक है, जो चारों ओर से ज़मीन से घिरा हुआ है। प्रायः इसकी गिनती मध्य एशिया के देशों में होती है। यह पिछले 2,000 वर्षों से कई शक्तिशाली साम्राज्यों का केंद्र भी रहा है। निकटवर्ती देश होने के कारण चार लोगों का परिवार तकरीबन 1.5 लाख में यहां आसानी से भ्रमण कर सकता है।

2. सालंग सुरंग से हिन्दू कुश पर्वत के नज़ारे और ‘दुनिया की सबसे ऊंची सुरंग’:
सालंग मार्ग काबुल और उत्तरी अफगानिस्तान को जोड़ता है। लगभग 4000 मीटर पर हिन्दू कुश पर्वत को पार करते हुए यह अब तक का सबसे सुंदर और रोमांचक मार्गों में से एक है। इस मार्ग पर सालंग सुरंग लगभग 3,400 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। ये 1973 तक दुनिया में सबसे ऊंची सुरंग थी। सुरंग में प्रवेश करने से पहले आपको हिन्दू कुश पर्वत के सुंदर दृश्य भी देखने को मिलेंगे।

3. दारुल अमन पैलेस:
दारुल अमन पैलेस तर्कसंगत रूप से अफगानिस्तान के समृद्ध इतिहास और कई कहानियों को दर्शाता है, यह दुनिया के सबसे प्रसिद्ध युद्ध संबंधी खंडहरों में से एक है। यद्यपि ‘दारुल अमन’ का शाब्दिक अर्थ है ‘शांति की जगह’ परंतु इसे रक्षा मंत्रालय के द्वारा उपयोग में लाया जाता था। इसका ये हाल मुजाहिदीन और रूसियों के बीच हुए युद्ध के कारण हुआ है, जिसमें मुजाहिदीन की जीत हुई थी।

4. मज़ार-ए-शरीफ़ में नीली मस्जिद:
नीली मस्जिद में हर साल हजारों तीर्थयात्री आते हैं। पौराणिक कथा के अनुसार, पैगंबर मुहम्मद के चचेरे भाई को यहां दफनाया गया है। हालांकि यह भी तर्क दिया जाता है कि उनके अवशेष इराक के नजफ में उनके अंतिम विश्राम स्थान के रूप में स्थानांतरित कर दिए गए थे, फिर भी इस मस्जिद की रहस्यमयी सुंदरता बहुत ही आकर्षक है।

5. बुज़काशी का खेल:
बुज़काशी खेल से शायद आप परिचित हों। बॉलीवुड फिल्म ‘खुदा गवाह’ में इस खेल को दिखाया जा चुका है। अफगानिस्तान के इलाकों में यह खेला जाता है और ये यहां का राष्ट्रीय खेल भी है। इसमें एक टीम (Team) के खिलाड़ी को दूसरी टीम क्षेत्र में घोड़ों पर सवार होकर एक मरी हुई बकरी को ले जाना होता है।

6. काबुल का बाज़ार:
अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के बाजार में आपको बकरियां, पक्षी, कपड़े, भोजन, मसाले आदि सभी मिल जाएंगे। ये बाज़ार हमेशा लोगों से भरा रहता है। और साथ ही साथ आपको यहां लोगों में जातीय विविधता भी देखने को मिलेगी। अफगानिस्तान विशेष रूप से कई अलग-अलग संस्कृतियों और स्थानीय भाषाओं का घर है।

7. अफगानिस्तान की प्राकृतिक सुंदरता:
अफगानिस्तान निश्चित रूप से सबसे लुभावनी पहाड़ियों, संरक्षित प्रकृति और अंतहीन सौंदर्य से भरा एक देश है। यहां पर कई ऐसे स्थल है जहां वास्तव में मनुष्य द्वारा कोई भी छेड़छाड़ नहीं की गई है। यहाँ कई अनछुए अनगिनत पहाड़ और अनदेखी झीलें इस जगह की शोभा बढ़ाते हैं।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2LC4Cdj
2.https://bit.ly/2T8zTqN
3.https://wikitravel.org/en/Afghanistan



RECENT POST

  • इस अंग्रेज़ी गीत में पाएँगे आप श्री कृष्ण के अनेकानेक नाम
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     25-08-2019 12:10 PM


  • श्री कृष्ण के जीवन से प्रेरित हैं इंडोनेशिया के मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-08-2019 12:16 PM


  • विभिन्न धार्मिक संस्कारों या उत्सवों से जुड़ी है वाईन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     23-08-2019 01:10 PM


  • रामपुर में स्थित है भारत का पहला लेज़र नक्षत्र-भवन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-08-2019 02:23 PM


  • दु:खद अवस्था में है, रामपुर की सौलत पब्लिक लाइब्रेरी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-08-2019 03:40 PM


  • क्यों कहा जाता है बेल पत्थर को बिल्व
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:37 PM


  • देश में साल दर साल बढ़ती स्‍वास्‍थ्‍य चिकित्सा लागत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • क्या होता है, सकल घरेलू उत्पाद (GDP)
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.