Machine Translator

मैपिन एंड वेब ने बनाईं रामपुर के नवाबों के लिए शाही प्लेटें

रामपुर

 19-12-2018 09:52 AM
म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

चित्र में दिखाई गयीं शाही प्लेटें जिनपर रामपुर की मुहर लगी है, ये रामपुर के नवाबों द्वारा ‘मैपिन एंड वेब’ (Mappin & Webb) नाम की एक कंपनी से बनवायीं गयीं थीं। मैपिन एंड वेब ब्रिटिशों के गौरव के लिए एक आभूषण के समान है, जो चांदी और आभूषणों की 241 वर्षों से अधिक की परंपरा और ऐतिहासिक महत्व को बरकरार रखता है। बेहतर गुणवत्ता और समकालीन डिज़ाइन (Design) के साथ दो शताब्दियों से इन्होंने उत्कृष्ट आभूषण, सुरुचिपूर्ण चांदी के बने पदार्थ, घड़ियाँ, कांच के बने पदार्थ और अनूठी जीवन शैली के सामान तैयार किए हैं। इस अद्भुत कंपनी का इतिहास इसके द्वारा बनाई गयी वस्तुओं की तरह ही रोचक है।

जोनाथन मैपिन (Jonathan Mappin) ने शेफील्ड (Sheffield) में सबसे सुंदर तैयार किए गए चांदी के बर्तन बनाने के लिए 1775 में एक सिल्वर वर्क शॉप (Silver Workshop) खोली थी। वहीं एक साल के अंतर्गत ही परख कार्यालय में मैपिन हॉलमार्क को दर्ज कर दिया गया और 1780 में जोनाथन मैपिन को कटलर कंपनी (Cutler company) की स्वाधीनता भी दे दी गई। जोनाथन के बाद उनके बेटे और उनके बाद उनके पोते जोसफ मैपिन ने इस रीत को जारी रखा।

1849 में, जोसेफ मैपिन ने 15 फोर स्ट्रीट पर अपना पहला लंदन शोरूम खोला। उसके बाद भाइयों से अनबन के कारण उन्होंने अपने बहनोई जॉर्ज वेब के साथ नया कारोबार शुरू किया जबकि मैपिन ब्रदर्स लिमिटेड दूसरे भाइयों द्वारा चलता रहा।

1864 में मैपिन, वेब एंड कंपनी का गठन हुआ, उसी वर्ष जॉर्ज वेब की मृत्यु हो गयी। मैपिन एंड वेब लिमिटेड पहली बार 1889 में दर्ज की गई थी, और इस स्तर पर कारोबार से जुड़ा सारा निर्माण शेफील्ड में केंद्रित था।

1884 में मैपिन एंड ब्रदर्स को बेच दिया गया।

1890 में पहली विदेशी बुटीक जोहान्सबर्ग (Johannesburg) में विटवाटर्स रैण्ड (Witwaters Rand) में सोने की खोज करने के बाद स्थापित की गयी थी।

1897 में रानी विक्टोरिया ने मैपिन एंड वेब को अपने सुनारों के रूप में शाही अधिकार प्रदान किये।

1898 में ओमडर्मन की लड़ाई में सैनिकों को मैपिन एंड वेब की प्रशंसित कैंपेन घड़ी की आपूर्ति की गयी।

1903 में मैपिन, वेब एंड कंपनी ने मैपिन ब्रदर्स को खरीद लिया।

1904 में महाराजा राज राम भवौर सिंह मैपिन एंड वेब के उत्कृष्ट चांदी के बर्तनों की ओर ऐसे आकर्षित हुए कि उन्होंने उनसे एक संपूर्ण चांदी के शयनकक्ष की मांग की, जिसमें चार पोस्टर बेड (Poster bed), टेबल (Table) और अलमारी शामिल थे। ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट बुटीक की खिड़की में प्रदर्शित करने पर इसने जिज्ञासु दर्शकों की इतनी बड़ी भीड़ जमा कर दी कि पुलिस ने सार्वजनिक सुरक्षा के हितों में इसे हटाने का अनुरोध किया।


वहीं प्रथम विश्व युद्ध में कंपनी ने अपना काफी योगदान दिया, जिसमें नौसेना-विभाग के लिए सेना के कपड़ों, युद्ध सामग्री और जलरोधक घड़ियों का उत्पादन शामिल था। आज इस ब्रांड को रानी एलिज़ाबेथ के ज्वैलर्स (Jewellers), गोल्डस्मिथ (Goldsmiths, सुनार) और सिल्वरस्मिथ (Silversmiths, चांदी का काम करने वाला) के रूप में शाही अधिकार प्राप्त है, और वेल्स के राजकुमार (His Royal Highness The Prince of Wales) के सिल्वरस्मिथ के रूप में भी शाही अधिकार हासिल है।


राजसी राज्यों के लिए और उनकी सामग्री के बारे में ‘दि स्फीयर मैगज़ीन’ (The Sphere Magazine) ने ‘दि स्टेट ऑफ़ रामपुर’ (The State of Rampur) पर एक लेख प्रकाशित किया और साथ ही उसी संस्करण में मैपिन एंड वेब (Mappin & Webb) का विज्ञापन भी शामिल है। इससे यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि यह कंपनी अधिकतर राजघरानों को ही अपने ग्राहक के रूप में देखती थी।

संदर्भ:
1.https://www.mappinandwebb.com/i/our-history



RECENT POST

  • रामपुर में स्थित है भारत का पहला लेज़र नक्षत्र-भवन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-08-2019 02:23 PM


  • दु:खद अवस्था में है, रामपुर की सौलत पब्लिक लाइब्रेरी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-08-2019 03:40 PM


  • क्यों कहा जाता है बेल पत्थर को बिल्व
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:37 PM


  • देश में साल दर साल बढ़ती स्‍वास्‍थ्‍य चिकित्सा लागत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • क्या होता है, सकल घरेलू उत्पाद (GDP)
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM


  • अगस्त 1942 को गोवालिया टैंक मैदान में ध्वजारोहण के बाद की अनदेखी छवियाँ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:16 AM


  • सहयोग व रक्षा का प्रतीक हैं पर्यावरण अनुकूलित हस्तनिर्मित राखियां
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-08-2019 02:41 PM


  • रामपुर पर आधारित भावनात्मक इतिहास लेखन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-08-2019 12:44 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.