रामपुर कलमकारी- मतलब एवं तकनीक

रामपुर

 24-06-2017 12:00 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य
क़लमकारी वस्त्रों में रंग भरने की वो तकनीक है जो की ना ही आज बल्कि पिछले कई दशकों से प्रचलित है|आन्ध्र प्रदेश में दो प्रकार की क़लमकारी पाई जाती है – पहली जो की मछिलिपट्नम क़लमकारी है जिसे मुग़ल और गोलकोंडा सल्तनत से अनुमोदन मिलता था और दूसरी श्रीकलाहस्ति क़लमकारी जिसे मंदिरों द्वारा| पहली तरह की क़लमकारी में कोई धार्मिक रचनाएँ नहीं थी वही दुसरी में महाभारत और रामायण की कथाओं को कपड़ों पर रचा जाता था| क़लमकारी 16 वी और 17 वी ई. में भारत के बाहर भी काफी विख्यात थी क्यूंकि ये कपास से बने कपड़ों पर बनायी जाती थी| क़लमकारी का प्रयोग कई जगहों में प्रसिद्ध है – राजस्थान में स्थानीय दिव्य चित्र, कृष्ण लीला इत्यादि, गुजरात में देवी का पर्दा, उड़ीसा में पटचित्र, बंगाल में सूचीपत्र इत्यादि – इन रचनाओं में क़लमकारी का प्रयोग देख सकते है| बीते सालों में क़लमकारी के काम का आधार अधिकतम कपास से बना कपड़ा होता है| अब कई नई तकनीक का आविष्कार हो गया है जिसमे क़लमकारी के साथ साथ ठप्पों द्वारा बनी रचनाएँ एक ही कपड़े पर दिखती हैं| कपड़ों पर अलग अलग चित्र बना कर रंग भरने से कपड़ों की सुन्दरता और बढ़ जाती है जिसकी शुरुआत सबसे पहले रंगे हुए कपास के कपड़ों से हुई थी| आज क़लमकारी हर तरह के कपड़ों पर होती है और इससे ना ही सिर्फ साड़ियाँ बनती है बल्कि चादर, परदे, रुमाल इत्यादि भी बनते हैं| 1. तानाबाना- टेक्सटाइल्स ऑफ़ इंडिया, मिनिस्ट्री ऑफ़ टेक्सटाइल्स, भारत सरकार 2. हेंडीक्राफ्ट ऑफ़ इंडिया – कमलादेवी चट्टोपाध्याय 3. टेक्सटाइल ट्रेल इन उत्तर प्रदेश (ट्रेवल गाइड) – उत्तर प्रदेश टूरिज्म

RECENT POST

  • फ्लोटिंग पोस्ट ऑफिस
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     27-09-2020 06:51 AM


  • स्वर्ण अनुपात- संख्याओं और आकृतियों का सुन्दर समन्वय
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-09-2020 04:34 AM


  • वाइन और धर्म के बीच संबंध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-09-2020 03:23 AM


  • बरेच जनजाति और रोहिल्ला कनेक्शन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 04:00 AM


  • भारत में तुर्कों का मुगलों से लेकर वर्तमान की राजनीति पर एक उल्लेखनीय प्रभाव
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:25 AM


  • ‘इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic)’ वस्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण हैं, रामपुर स्थित रंग महल
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:27 AM


  • सबसे पुराने ज्ञात कला रूपों में से एक हैं मिट्टी के बर्तन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:05 AM


  • बादामी गुफाएं और उनका गहराई
    खदान

     20-09-2020 09:32 AM


  • क्या मनुष्य में जीन की भिन्नता रोगों की गंभीरता को प्रभावित करती है?
    डीएनए

     18-09-2020 07:42 PM


  • बैटरी - वर्तमान में उपयोगी इतिहास की एक महत्वपूर्ण खोज
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id