Machine Translator

यूपीएससी: देश की सेवा करने का एक अवसर

रामपुर

 08-11-2018 10:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

यू.पी.एस.सी. (Union Public Service Commission) परीक्षा के बारे में हर भारतीय ने सुना होता है जिसे संघ लोक सेवा आयोग भी कहते हैं। इस परीक्षा को देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में गिना जाता है जिसे पास (Pass) कर पाना कुछ ही लोगों के द्वारा सम्भव हो पाता है। भारत की आज़ादी के बाद 1950 में लोक सेवा आयोग (PSC) में बदलाव और अधिकारों का विस्तार किया गया। यू.पी.एस.सी. के जरिये हमारे देश में वर्ग ए, वर्ग बी और सिविल सेवकों की भर्ती की जाती है। इसी परीक्षा को पास करने के बाद आई.ए.एस. (भारतीय प्रशासनिक सेवा) और पी.सी.एस. (प्रांतीय सिविल सेवा) के अधिकारीयों की भर्ती होती है। आईये जानते हैं देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा से जुड़ी हर जानकरी।

यू.पी.एस.सी. के द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाएं:
1. सिविल सर्विस एग्जाम (CSE)
2. इंजीनियरिंग सर्विसज एग्जाम (ESE)
3. कंबाइंड डिफेंस सर्विस एग्जाम (CDSE)
4. नेशनल डिफेंस अकादमी एग्जाम (NDA)
5. इंडियन फारेस्ट सर्विस एग्जाम (IFS)
यू.पी.एस.सी. इसके अतिरिक्त अन्य एग्जाम का आयोजन करवाता है।

सिविल सेवा परीक्षा को बैठने के लिये इन चार योग्यताओं को परखा जाता है।

(i) राष्ट्रीयता
परीक्षा देने वाले व्यक्ति के पास भारत की नागरिकता का होना जरुरी है।

(ii) आयु

(iii) शैक्षिक योग्यता
यू.जी.सी. मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय की डिग्री। किसी भी स्ट्रीम या क्षेत्र की डिग्री मान्य है। परीक्षा में न्यूनतम अंक / प्रतिशत की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके अलावा किसी विषय या भाषा की कोई आवश्यकता नहीं है, इसका मतलब किसी भी विषय का डिग्री धारक सिविल सेवा परीक्षा के लिए उपस्थित होने के योग्य है।

(iv) उम्मीदवार द्वारा परीक्षा के लिए किए गए प्रयासों की संख्या।
सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए प्रयासों की संख्या 6 है; ओ.बी.सी. के लिए 9 है और एस.सी. / एस.टी. श्रेणी से संबंधित उम्मीदवारों के लिए असीमित है (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति वर्ग के प्रयासों की संख्या पर कोई प्रतिबंध नहीं है)।

परीक्षा पैटर्न
परीक्षा दो चरणों में आयोजित होती है।
1. लिखित
2. साक्षात्कार

प्रारंभिक परीक्षा (प्रिलिमिनरी/Preliminary)
प्रारंभिक परीक्षा एक ऑब्जेक्टिव (Objective/ मौखिक) परीक्षा होती है, जिसमें दो एग्जाम होते हैं और प्रत्येक 200 अंक का होता है। जिन्हें पूरा करने के लिए दो घंटे का समय प्रत्येक के लिये मिलता है।

A. सामान्य अध्ययन पेपर I
सामान्य अध्ययन प्रश्न पेपर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय, इतिहास, राजनीति, भारतीय और दुनिया भूगोल, आर्थिक और सामाजिक विकास, सामान्य विज्ञान और पारिस्थितिकी की वर्तमान घटनाओं से लेकर कई विषयों को छेड़ता हैं।

B. सामान्य अध्ययन पेपर II (सिविल सेवा योग्यता परीक्षा - सी.एस.ए.टी.)
सी.एस.ए.टी. पेपर मुख्य रूप से उम्मीदवार की तार्किक और विश्लेषणात्मक क्षमता, निर्णय लेने और समस्या निवारण, बुनियादी संख्या, डेटा व्याख्या आदि का परीक्षण करते हैं। कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायतें और पेंशन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी किए गए नवीनतम नोटिस के अनुसार सामान्य अध्ययन पेपर II (सी.एस.ए.टी.) 2015 में एक योग्यता पत्र होगा और क्वालीफाइंग (Qualifying) अंक कुल अंक के 33% होने चाहिये। इसके अलावा जनरल स्टडीज (General Studies) पेपर II (सीएसएटी) के अंग्रेजी भाषा के कॉम्प्रिहेंशन (Comprehension) को अनुभाग के बाहर रखा जाएगा।
गलत उत्तरों के लिए दंड है; प्रत्येक उत्तर के लिए प्रश्न के आवंटित अंकों के एक तिहाई (0.33) काट दिया जाता है।

मुख्य परीक्षा
मुख्य परीक्षा एक लिखित परीक्षा है। इसमें उम्मीदवार भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल अंग्रेजी या किसी अन्य भारतीय भाषा में लिख सकते हैं। कुल मिलाकर मुख्य परीक्षा में आठ पेपर होते हैं।

2 भाषा पत्र (केवल योग्यता - इन एग्जाम में प्राप्त अंकों को रैंक सूची तैयार करने के उद्देश्य से गिना जाता है)
पेपर-ए भारतीय भाषाओं में से एक - 300 अंक
पेपर-बी अंग्रेजी - 300 अंक

सभी छह पेपर मैरिट बनाने के लिये

पेपर I - जनरल निबंध - 250 अंक

सामान्य अध्ययन- I 250 अंक
विषय: भारतीय विरासत और संस्कृति, इतिहास और भूगोल विश्व और समाज।

सामान्य अध्ययन- II 250 अंक
विषय: शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध।

सामान्य अध्ययन - III 250 अंक
विषय: प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन।

सामान्य अध्ययन - IV 250 अंक
विषय: नैतिकता, ईमानदारी और योग्यता।

वैकल्पिक विषय - (पेपर 1) 250 अंक
वैकल्पिक विषय - (पेपर 2) 250 अंक

आवेदन शुल्क
आवेदकों को रुपयों का भुगतान करने की जरूरत होती है। आवेदन शुल्क के रूप में 100/- (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / पी.एच. / महिला आवेदकों को आवेदन शुल्क से छूट दी जाती है)। आवेदन शुल्क का ऑनलाइन या ऑफ़लाइन मोड में भुगतान किया जा सकता है।

ऑनलाइन मोड- ऑनलाइन मोड शुल्क में स्टेट बैंक ऑफ़ बीकानेर और जयपुर / स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद / स्टेट बैंक ऑफ मैसूर / स्टेट बैंक ऑफ पटियाला / स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर के स्टेट बैंक या वीजा / मास्टर क्रेडिट / डेबिट कार्ड।

ऑफ़लाइन मोड- ऑफ़लाइन मोड शुल्क में एस.बी.आई. की किसी भी शाखा में नकदी में भुगतान किया जा सकता है। ऑफ़लाइन मोड के लिए आवेदकों को भाग 1 पंजीकरण के दौरान सिस्टम द्वारा बनाये गए चालान का प्रिंट आउट (Print Out) लेना होगा।

यू.पी.एस.सी. आवेदन पत्र कैसे भरें:
यू.पी.एस.सी. की आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन (Login) करें और 'एप्लिकेशन फॉर्म' (Application Form) पर क्लिक करें। आवेदन पत्र विंडो खोला जाएगा जिसमें 2 चरण पंजीकरण- भाग I और भाग II शामिल होंगे। भाग 1 पंजीकरण पर क्लिक करें और फॉर्म में आवश्यक सभी विवरण भरें। एक बार सभी विवरण दर्ज हो जाने के बाद सबमिट (Submit) पर क्लिक करें। जमा करने पर, एक पंजीकरण आई.डी. उत्पन्न की जाएगी। भाग 1 में उत्पन्न पंजीकरण आई.डी. का उपयोग करके भाग II पंजीकरण के लिए आगे बढ़ें। वह परीक्षा चुनें जिसके लिए आप आवेदन भरना चाहते हैं। निर्दिष्ट प्रारूप में अपनी तस्वीर और हस्ताक्षर की स्कैन की गई छवियां अपलोड करें। वेबसाइट (Website) में उल्लिखित आवेदन शुल्क का भुगतान करें। आवेदन शुल्क के सफल भुगतान पर, पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। आवेदकों को सलाह दी जाती है कि भविष्य के संदर्भ के लिए उनके ऑनलाइन सबमिट किए गए आवेदन पत्रों का प्रिंट आउट लें।

संदर्भ:
1.http://www.aashah.com/upsc-cse-eligibility-criteria-582.aspx
2.https://www.indiatoday.in/education-today/featurephilia/story/upsc-civil-services-exam-12033-2016-06-02
3.https://byjus.com/free-ias-prep/everything-you-need-to-know-about-upsc-2017
4.https://byjus.com/free-ias-prep/10-things-to-know-about-upsc-civil-services
5.https://www.pagalguy.com/articles/all-you-need-to-know-about-upsc-civil-services-examination-9367



RECENT POST

  • इस अंग्रेज़ी गीत में पाएँगे आप श्री कृष्ण के अनेकानेक नाम
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     25-08-2019 12:10 PM


  • श्री कृष्ण के जीवन से प्रेरित हैं इंडोनेशिया के मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-08-2019 12:16 PM


  • विभिन्न धार्मिक संस्कारों या उत्सवों से जुड़ी है वाईन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     23-08-2019 01:10 PM


  • रामपुर में स्थित है भारत का पहला लेज़र नक्षत्र-भवन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-08-2019 02:23 PM


  • दु:खद अवस्था में है, रामपुर की सौलत पब्लिक लाइब्रेरी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-08-2019 03:40 PM


  • क्यों कहा जाता है बेल पत्थर को बिल्व
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:37 PM


  • देश में साल दर साल बढ़ती स्‍वास्‍थ्‍य चिकित्सा लागत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • क्या होता है, सकल घरेलू उत्पाद (GDP)
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.