न आएं इन लुभावनी फर्जी विदेशी नौकरियों के झांसे में

रामपुर

 29-09-2018 12:48 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

आज के डिजिटल दौर में, साइबर क्राइम (Cyber Crime) केवल कैश ट्रांजेक्शन (Cash Transaction) या फिर एटीएम फ्रॉड (ATM Fraud) तक सीमित नहीं रह गया है। साइबर क्रिमिनल्स ठगी के नए-नए पैंतरे निकाल रहे हैं। आज कल विदेशों में नौकरी के नाम पर फर्जी वेबसाइट (Website) के ज़रिए ठगी की जा रही है। कई वेबसाइट विदेशों में नौकरी के नाम पर कंपनी (Company) की फर्जी वेबसाइट बनाकर सोशल मीडिया (Social Media) पर अपने विज्ञापनों से लोगों को लुभाती हैं, जैसे ‘उच्च वेतन नौकरियां, कोई अनुभव की आवश्यकता नहीं है, सभी लाभ प्रदान किए जाएंगे, सीधे भर्ती, तत्काल भर्ती’ आदि।

बढ़िया आय-स्रोत, अनेक छुट्टियां तथा सुविधाएं और मानव श्रम की आवश्यकता होने के कारण युवाओं को नौकरी के रुझान विदेशों खासकर दुबई और अबू धाबी (संयुक्त अरब अमीरात/UAE) में हैं। इसी कारण ये साइबर क्रिमिनल्स या फर्जी कंपनियां लोगों के जीवन के साथ खेल रहे हैं, खासकर उन लोगों के साथ जो विज़िट वीजा (Visit Visa, सीमित अवधि के लिए किसी अन्य देश में अनुमति प्रदान करने वाला वीसा) पर हैं या जो लोग अपनी नौकरी को कम वेतन, ड्यूटी टाइमिंग या अन्य संबंधित मुद्दों के कारण बदलना चाहते हैं।

ऐसे ही एक जाल में फंस कर भोपाल में रहने वाले एक पीड़ित ने Dh 37,000 (37000 मोरोक्कन दिरहम, लगभग 6,50,000 भारतीय रुपये) खो दिये। दरअसल पीड़ित को रिक्रूटमेंट सेवाओं (Recruitment Services) द्वारा शारजाह विश्वविद्यालय और अल ऐन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में उच्च वेतन की नौकरी, पारिवारिक आवास, वाहन और अन्य भत्ते का ईमेल भेजा गया और पीड़ित झांसे में आ गया। हालांकि, शारजाह विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि उपर्युक्त रिक्रूटमेंट सेवाओं के साथ उनका कोई संबंध नहीं है। इसी प्रकार कुछ PhD धारक भारतीय शिक्षकों को भी संयुक्त अरब अमीरात के विभिन्न विश्वविद्यालयों में नौकरियों के लिये स्कैमर (Scammer) द्वारा व्यवस्थित रूप से संपर्क किया गया और पैसों की ठगी की गई थी।

आज हम आपको ऐसे कुछ बुनियादी बिंदुओं को बताएंगे जिससे आप इन घोटालों से बच सकते हैं और यदि आप ऑनलाइन पंजीकरण या ऑनलाइन प्रोफ़ाइल बनाने जा रहे हैं तो कृपया पहले इन तथ्यों पर आवश्यक गौर करें:

1: हमेशा कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से आवेदन करें।
2: वेबसाइट का प्रमाणीकरण करें।
3: नौकरियों के लिए किसी भी तरह का भुगतान न करें, यह 100% घोटाला है।
4: यदि आप पहले ही आवेदन कर चुके हैं, तो एजेंट से कंपनी का नाम, वेबसाइट और विवरण पूछें जिसके लिए आप काम करेंगे।
5: किसी को भी अपना बैंक विवरण प्रदान न करें।
6: प्रसंस्करण शुल्क, पंजीकरण शुल्क या भर्ती/सेवा शुल्क का भुगतान न करें।
7: जिस कंपनी में आप साक्षात्कार के लिए जा रहे हैं, पहले उसके बारे में कुछ शोध करें।
8: www.linkedin.com देखें जिसमें दुनिया भर की अधिकांश कंपनियों का विवरण शामिल है।
9: स्पैम मेल (Spam Mail) का जवाब न दें, यह ज्यादातर धोखे वाली होती हैं।
10: हमेशा जांचें कि साइट पर ‘हमारे बारे में’ (About us) पृष्ठ है या नहीं। यदि है तो आप आवेदन कर सकते हैं और यदि नहीं है तो कृपया आवेदन न करें।
11: यदि आप किसी बिचौलिया साइट के माध्यम से आवेदन कर रहे हैं, तो सत्यापन के लिए कंपनी का नाम, ईमेल, पता, वेबसाइट लिंक और संपर्क नम्बर देखें, यदि ये उन विवरणों को प्रदान कर सकती है तो ही आवेदन करें।
12: यदि आपको केवल संपर्क नम्बर दिया गया है, और तत्काल आधार पर साक्षात्कार के लिए बुलाएं तो तुरंत न जांए क्योंकि साक्षात्कार के लिए समय दिया जाता है।

चलिए आपको बताते हैं दुबई में इस वर्ष के रोज़गार दृष्टिकोण से जुड़ी हुई कुछ बातें:

1. पिछले साल की तुलना में इस साल संयुक्त अरब अमीरात में नई नौकरियों की मांग में 12-13% की वृद्धि हुई है।
2. लेखांकन और वित्त पेशेवरों की उच्च मांग है।
3. करीब 48% व्यवसाय नई प्रौद्योगिकी के विस्तार की ओर अपना ध्यान केन्द्रित करेंगे और इसलिए आई.टी. (IT) नौकरियों में वृद्धि होगी।
4. ई-कॉमर्स सेक्टर (E-commerce Sector) सन 2019 तक अनुमानित 40 बिलियन दिरहम का व्यापार करेगा।
5. लगभग 70% नियोक्ताओं द्वारा सन 2018 में पहले से अधिक कर्मचारी अपेक्षित होंगे।

संदर्भ:
1.https://www.khaleejtimes.com/nation/dubai//indian-job-seekers-fall-prey-to-bogus-recruiters-scam-online-uae
2.http://www.the-wau.com/post/uae-jobs/uae-fake-jobs-guide-2017/2653
3.https://www.edarabia.com/recruitment-agencies/



RECENT POST

  • रामपुर में नज़र आई कॉमन रोज़ तितली
    तितलियाँ व कीड़े

     15-12-2018 02:09 PM


  • चपाती आंदोलन : 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में चपातियां बनी संदेशवाहक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     14-12-2018 12:59 PM


  • भवनों के श्रृंगार का एक अद्भुत आभूषण झूमर
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     13-12-2018 02:23 PM


  • क्या और कैसे होता है ई-कोलाई संक्रमण?
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 02:37 PM


  • विज्ञान की एक नयी शाखा, समुद्र विज्ञान
    समुद्र

     11-12-2018 01:00 PM


  • मशरूम बीजहीन होने के बाद भी नए पौधे कैसे बनाते हैं?
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 02:46 PM


  • मानव की उड़ान का लम्बा मगर हैरतंगेज़ सफ़र
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     09-12-2018 10:00 AM


  • कैसे शुरु हुई ये सर्दियों की मिठास, चिक्की
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     08-12-2018 12:08 PM


  • सुगंधों के अनुभव की विशेष प्रक्रिया
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:32 PM


  • व्हिस्की का उद्भव तथा भारत में इसका आगमन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     06-12-2018 12:54 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.