राखी एक व्‍यवसाय के रूप में

रामपुर

 26-08-2018 11:34 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

भाई बहन के पवित्र रिश्‍ते का प्रतीक रक्षाबंधन त्‍यौहार भारतीय उपमहाद्वीप में बड़े हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता आ रहा है। इस त्‍यौहार में बहने सामान्‍यतः भाईयों को प्‍यार का बंधन राखी बांधकर अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। प्‍यार और विश्‍वास के इस बंधन की डोर राखी का प्रचलन रक्षाबंधन के दौरान अपने चरम पर होता है। इसके उत्‍पादन और विक्रय का भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था का बहुत प्रभाव पड़ता है। यदि आप भारतीय बाजारों में निकलते हैं, तो वह आपको विभिन्‍न रंग बिरंगी राखियों से सजा हुआ दिखता है। इस समय राखी के छोटे बड़े व्‍यापारियों के लिए बहुत अच्‍छा अवसर होता है। राखियों का निर्माण पहले हाथों से ही किया जाता था किंतु समय के साथ इसके उत्‍पादन के लिए भी विभिन्‍न प्रकार की मशीनों को प्रयोग किया जा रहा है। यदि हम भारतीय राज्‍यों की दृष्टि से देखें, तो अलग अलग राज्‍यों में भिन्‍न भिन्‍न प्रकार की राखियां तैयार की जाती हैं:

पंजाब की रेशम राखी : ये राखियां रेशम के धागे में विभिन्‍न रंग बिरंगे डिजाइनों के साथ तैयार की जाती है।

गुजरात की सिल्‍वर राखी : भारत के उच्‍च और मध्‍यम परिवार में बहुप्रसिद्ध चां‍दी की राखी मुख्‍यतः गुजरात में तैयार की जाती है। यह सामान्‍यतः आप कभी भी पहनकर रख सकते हैं।

मुंबई की कार्टून राखी : कार्टून सिरियलों के प्रसिद्ध कार्टून पात्रों जैसे डोरेमोन, मिकि माउस, मोगली, स्‍पाइडर मेन इत्‍यादि को राखियों में उकेरा जाता है, जो प्रमुखतः बच्‍चों द्वारा बहुत ज्‍यादा पसंद की जाती हैं।

दक्षिण भारत की ज़री राखी : गोल्‍ड और सिल्‍वर के धागों के माध्‍यम से तैयार की जाने वाली ज़री राखी पारंपरिक कारिगरी की राखियां विशेषतः दक्षिण भारत में तैयार की जाती हैं। यह अन्‍य धागों की तुलना में ज्‍यादा चमकदार होती हैं।

व्‍यवसाय की दृष्टि से राखी का उत्‍पादन चाइना में भी बहुत बढ़ गया है। यहां से आयतित राखियां अक्‍सर कम मुल्‍य (रूपय 15 से 40 के लगभग) में ज्‍यादा आकर्षक होती हैं, जिसके कारण लोग इनकी और बरबस ही खींचे चले आते हैं। खासकर यदि बच्‍चों की बात करें तो वे चाइना की कार्टून (डोरेमोन, छोटा भीम, बाल गणेश, एंग्री बर्ड आदि) राखियां बहुत पसंद करते हैं। साथ ही मशीनिकरण के इस दौर में हस्‍तनिर्मित राखियों का उत्‍पादन घट गया है। बहुत कम लागत में राखियों का अच्‍छा उत्‍पादन आप घर बैठे बैठे कर सकते हैं, इसका आसान तरीका हम आपको इस यूट्यूब विडियो के माध्‍यम से बता रहे हैं। जिस प्रकार लोग चाइनिज़ राखियों की ओर आकर्षित हो रहे हैं, यह भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में कुछ विपरित प्रभाव डाल सकती है।

संदर्भ :

1.http://www.rakhiindia.com/where-is-rakhi-made-in-india.html
2.https://retail.economictimes.indiatimes.com/news/industry/colourful-rakhis-get-a-made-in-china-touch/48609076
3.https://www.indiatoday.in/mail-today/story/locally-made-rakhis-caught-in-a-chinese-tangle-1321044-2018-08-23
4.https://www.youtube.com/watch?v=H2qeIR8bk_o



RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id