Machine Translator

रामपुर की इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला

रामपुर

 30-07-2018 03:18 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

रामपुर में मुगल तथा ब्रिटिश काल की बहुत सारी इमारतें हैं। जो सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर हैं। रामपुर में रज़ा पुस्तकालय, जामा मस्जिद, रंग महल, हामिद मंजिल-किला जैसी इमारतों की भारत में ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व बहुत अधिक है। इन ऐतिहासिक धरोहरों में यूरोपीय शैली की वास्तुकला अथवा इंडो-सार्सेनिक वास्तुकला (Indo-Saracenic Architecture) का प्रभाव देखने को मिलता है। इसी तरह भारत के अन्य राज्यों में भी इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला के अन्य नमूने जैसे कर्नाटक में मैसूर पैलेस (Mysore Palace), चेन्नई में विक्टोरिया पब्लिक हॉल (Victoria Public Hall), कोलकाता में विक्टोरिया मेमोरियल (Victoria Memorial)आदि स्थापित हैं। इनमें से कुछ अब भारतीय पुरातात्विक विभाग (Archaeological Survey of India) द्वारा संरक्षित देश की ऐतिहासिक धरोहरों में शामिल हैं।

भारत में इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला जिसे इंडो-गोथिक (Indo-Gothic), मुगल- गोथिक (Mughal-Gothic), नियो-मुगल (Neo-Mughal), शैली भी कहा जाता है, उसकी शुरुआत ब्रिटिश वास्तुकारों द्वारा 19वीं सदी में की गयी थी। यह शैली मुख्यतः हिन्दू-मुग़ल और भारतीय वास्तुकला से प्रेरित है जिसमें ब्रिटेन के विक्टोरियन (Victorian) काल की गोथिक (Gothic) कला, और नियो क्लासिकल (Neo-Classical) का मिश्रण है। भारत में पहली इंडो- सार्सेनिक इमारत मद्रास अथवा चेन्नई में चेपौक महल (Chepauk Palace) थी। वर्तमान समय में इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला के नमूने भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, मलेशिया और यहां तक कि इंग्लैंड में भी पाए जाते हैं।

इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला में भवनों की बुनियादी अभिन्यास और संरचना विशिष्ट शैलियों और सजावट के साथ अन्य शैलियों जैसे गोथिक रिवाइवल (Gothic Revival), निओ-क्लासिकल (Neo-Classical), और मशराबिया (अरबी वास्तुकला) आदि से बनाई जाती थी। 19वीं शताब्दी मे मशराबिया (अरबी वास्तुकला) जिसे भारत में झरोखा नाम से भी जाना जाता है, इंडो- सार्सेनिक वास्तुकला की विशिष्ट विशेषताओं में से एक है। ये बेहद खूबसूरत और आकर्षक छोटी-छोटी जालीदार खिड़कियाँ हैं। इन खिडकियों को जालीदार बनाने के पीछे मूल भावना यह थी कि बिना किसी को दिखे "पर्दा प्रथा" का सख्ती से पालन करती महिलायें इन खिडकियों से महल के नीचे सड़कों के समारोह व गलियारों में होने वाली रोजमर्रा की जिंदगी की गतिविधियों को आसानी से देख सकें। वैकल्पिक रूप से, इन खिड़कियों का उपयोग तीरंदाजों और जासूसों के लिए भी किया जाता था। रामपुर में ऐसी कई ऐतिहासिक धरोहरे हैं जो हमारे गौरवशाली व समृद्ध अतीत की प्रमाण हैं, इनकी सुंदरता तथा संरचना खासतौर पर यहां की खिड़कियाँ बस देखते ही बनती हैं।

संदर्भ:
1. https://onartandaesthetics.com/2016/04/23/indo-gothic/
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Indo-Saracenic_Revival_architecture
3. https://www.slideshare.net/shubhamsisodiya9/history-report-on-the-indo-saracenic-architecture
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Jharokha
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Mashrabiya



RECENT POST

  • क्या है बीटलविंग कला
    तितलियाँ व कीड़े

     25-06-2019 11:30 AM


  • विश्‍व में आठवां सबसे बड़ा नियोक्‍ता भारतीय रेलवे
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-06-2019 11:59 AM


  • क्रिकेट विश्व कप में भारत के कुछ यादगार लम्हे
    हथियार व खिलौने

     23-06-2019 09:15 AM


  • रामपुर की जामा मस्जिद एवं भारत की विभिन्‍न मस्जिदों में सौर घडि़यों की भूमिका
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-06-2019 11:45 AM


  • योग का एक अनोखा रूप - कुंडलिनी योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     21-06-2019 10:40 AM


  • रुडयार्ड किपलिंग की कविता में रोहिल्ला युद्ध का वर्णन
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-06-2019 11:36 AM


  • टी-शर्ट का इतिहास
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     19-06-2019 11:15 AM


  • पाकिस्‍तान में अभी भी जीवित हस्‍त कशीदाकारी
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:10 AM


  • क्‍या है लाल मांस और सफेद मांस के मध्‍य भेद?
    शारीरिक

     17-06-2019 11:13 AM


  • एक पिता का अंतिम सम्मोहन
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-06-2019 10:30 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.