क्या सी.ऍफ़.एल. (C.F.L.) हो सकती है हानिकारक?

रामपुर

 16-07-2018 06:23 PM
घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

आज के इस आधुनिक युग में तकनीक का इस्तेमाल हर क्षेत्र में किया जा रहा है। हर नयी तकनीक का उद्देश्य होता है दक्षता में वृद्धि, जोखिम में कमी, और दाम में गिरावट। इसी के चलते, कुछ वर्षों पहले प्रकाश स्रोत के क्षेत्र में एक विकास हुआ था जिससे उत्पन्न उत्पाद का नाम था सी.ऍफ़.एल. (CFL- Compact Fluorescent Lamps)। सी.ऍफ़.एल. के इस्तेमाल में बिजली की खपत में अच्छी गिरावट देखने को मिली थी। और साथ ही इसके दाम भी वाजिब हैं। परन्तु क्या इसके कुछ जोखिम भी हैं?

जब तक आपका बल्ब सही तरीके से काम कर रहा है, तब तक इससे कोई खतरा नहीं है। परन्तु यदि इस सी.ऍफ़.एल. पर कहीं किसी चोट की वजह से कोई दरार आ जाती है या यह टूट जाता है, तब चिंता की घड़ी शुरू हो जाती है। असल में इन सी.ऍफ़.एल. बल्बों में इस्तेमाल होता है पारे (Mercury) का। इस बल्ब में पारे की मात्रा होती है 5 मिलीग्राम। यदि आप पहले से नहीं जानते हैं तो आपको बता दें कि मानव के शरीर के लिए पारा बहुत ही हानिकारक साबित होता है। तो यदि घर में लगा सी.ऍफ़.एल. गिरके फट जाए तो ऐसे में क्या किया जाये? चिंता मत कीजिए, बस नीचे दिए गए निर्देशों को ध्यान में रखें:

1. सबसे पहले घर के सभी खिड़की दरवाज़े खोल दें और सभी सदस्य दूसरे कमरे में या घर के बाहर निकल जाएँ।
2. यदि घर में ए.सी. (A.C.) चल रहा हो तो उसे बंद कर दें।
3. कुछ समय बाद जब हवा से पारा निकल जाए तब बल्ब के टुकड़ों को किसी गत्ते या सख्त कागज़ से तथा दस्तानों की मदद से उठाकर एक प्लास्टिक (Plastic) के थैले में या बेहतर होगा एक कांच की बोतल में बंद करदें। साथ ही सफाई में इस्तेमाल किये गए दस्ताने और कागज़ आदि भी इसी थैले में बंद कर दें।
4. वर्तमान में भारत में सी.ऍफ़.एल. बल्ब के निपटान के लिए कोई सटीक तरीका अभी तक नहीं निकाला गया है। इसलिए, इसे कचरे में डाल दें परन्तु कचरे वाले को इसे देने से पहले उसे बता दें कि कचरे में सी.ऍफ़.एल. बल्ब है।

यह अत्यंत रोचक बात है कि वैसे तो सी.ऍफ़.एल. बल्ब पारे का इस्तेमाल करते हैं, परन्तु गहराई से देखा जाये तो पता चलता है कि असल में इनके इस्तेमाल से वातावरण में पारे को एक नियंत्रित मात्रा में रखा जा सकता है। क्योंकि इससे पहले की तकनीक वाले बल्ब ज़्यादा बिजली का इस्तेमाल करते हैं और यह बिजली कोयला बिजली संयंत्र से उत्पन्न की जाती है और इन संयंत्रों में कोयले के जलने से ज़्यादा मात्रा में पारा वातावरण में पहुँचता है।

रामपुर में कई स्थानों पर सी.ऍफ़.एल. बल्बों को पुनः गैस (Gas) भरवाकर इस्तेमाल किया जा रहा है। परन्तु यह काफी हानिकारक हो सकता है क्योंकि कारखाने में सील (Seal) किये गए बल्ब को निजी इलेक्ट्रीशियन ने यदि सफाई से सील नहीं किया तो पारा इसमें से रिस सकता है और घर में फ़ैल कर आपके स्वास्थ्य को क्षति पहुंचा सकता है।

अतः अगली बार जब भी आप एक ख़राब सी.ऍफ़.एल. या टूटे हुए सी.ऍफ़.एल. को कचरे में फेंके, तब ध्यान रखें कि हो सकता है आप अपने या किसी और के स्वास्थ्य के साथ खेल रहे हों।

संदर्भ:
1. https://www.scientificamerican.com/article/are-compact-fluorescent-lightbulbs-dangerous/
2. http://www.elcomaindia.com/wp-content/uploads/CFL-Safe-Disposal.pdf



RECENT POST

  • तराना हुसैन द्वारा शोध की गई नौरोज़ की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-02-2019 12:02 PM


  • क्यों होती है गुदगुदी?
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 12:17 PM


  • भारत में इस वर्ष इतनी ठंड कहाँ से आई
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 12:14 PM


  • इंडो-यूरोपियन भाषाओं और द्रविड़ भाषाओं में अंतर
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:29 AM


  • बौद्ध और हिन्‍दू धर्मों में ध्‍यान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-02-2019 11:29 AM


  • रामपुर की ऐतिहासिक इमारतों की गाथा को बयां करती कुछ तस्वीरे
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     18-02-2019 10:49 AM


  • क्या इत्र में इस्तेमाल होता है व्हेल से निकला हुआ घोल
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • शिक्षा को सिद्धान्‍तों से ऊपर होना चाहिए
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:47 AM


  • ये व्यंजन दिखने में मांसाहारी भोजन जैसे लगते तो है परंतु हैं शाकाहारी भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 11:39 AM


  • प्यार और आज़ादी के बीच शाब्दिक सम्बन्ध
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-02-2019 01:20 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.