माचिस की डिब्बी पर बने चित्रों की एक आकर्षक सूची

रामपुर

 10-07-2018 06:08 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

माचिस, कितनी छोटी सी चीज़ है ना! यदि गौर से देखा जाए तो इस दुनिया में छोटी से छोटी चीज़ भी अपने आप में अनोखी है। अब इस छोटी सी माचिस की डिब्बी को ही ले लीजिये। काम सबका एक और दाम भी सबका करीबन एक ही, फिर क्यों ये दिखने में इतने भिन्न-भिन्न होते हैं। क्यों की जाये इतनी मेहनत? क्यों ना सिर्फ एक काला या पीला या लाल या सादा सा डब्बा भर दिया जाए इन तीलियों से। जवाब है, क्योंकि सालों से इसे एक प्रकार की कला के रूप में देखा जा रहा है जो आज ख़त्म होने की कगार पर है। आपने स्टाम्प इकट्ठे करने वाले और सिक्के इकट्ठे करने वाले देखे होंगे, उसी प्रकार कई लोग इन माचिस के डब्बों को भी इकट्ठा करते हैं क्योंकि एक तरह से ये हमारे इतिहास को चित्रों के साथ प्रदर्शित करती हैं।

कुछ 20 साल पहले तक, रामपुर के नज़दीक बरेली की ‘विमको’ (Wimco) भारत में माचिस उत्पादन का सबसे बड़ा अड्डा था। परन्तु कुछ वर्ष पहले ही आई।टी।सी। ने इसे बंद करने का फैसला लिया। इसकी वजह थी, कच्चे माल के बढ़ते दाम, दुसरे देशों में निर्यात में गिरावट, आदि। तो चलिए आज देखते हैं बीते हुए ज़माने की कुछ माचिस की डिब्बियों के चित्र।

शुरुआती माचिस के डब्बे भारत के बाहर अधिकतर स्वीडन, ऑस्ट्रिया, जापान आदि में छपे जाते थे। परन्तु उनपर बने चित्रों में सबसे अधिक प्रसिद्ध थे हिंदु देवी देवताओं के चित्र:

पर्यटन स्थलों वाले माचिस के डब्बे:

स्वतंत्रता सेनानियों वाले माचिस के डब्बे:

राजा-महाराजाओं वाले माचिस के डब्बे:

भारत में छापे जाने वाले माचिस के डब्बों पर दिखने वाली कलाकृतियों में से थीं- भारत माता (देशप्रेम को समर्पित), हिन्दू देवी-देवता, स्वतंत्रता सेनानी, विज्ञापन, चलचित्र (फ़िल्में) आदि:

संदर्भ:
1.https://www.financialexpress.com/industry/itc-decides-to-shut-matchbox-unit-in-bareilly/33321/
2.https://retail.economictimes.indiatimes.com/news/food-entertainment/personal-care-pet-supplies-liquor/future-of-matchbox-industry-worth-rs-1500-crore-fading-away-with-time/48030617



RECENT POST

  • भवनों के श्रृंगार का एक अद्भुत आभूषण झूमर
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     13-12-2018 02:23 PM


  • क्या और कैसे होता है ई-कोलाई संक्रमण?
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 02:37 PM


  • विज्ञान की एक नयी शाखा, समुद्र विज्ञान
    समुद्र

     11-12-2018 01:00 PM


  • मशरूम बीजहीन होने के बाद भी नए पौधे कैसे बनाते हैं?
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 02:46 PM


  • मानव की उड़ान का लम्बा मगर हैरतंगेज़ सफ़र
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     09-12-2018 10:00 AM


  • कैसे शुरु हुई ये सर्दियों की मिठास, चिक्की
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     08-12-2018 12:08 PM


  • सुगंधों के अनुभव की विशेष प्रक्रिया
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:32 PM


  • व्हिस्की का उद्भव तथा भारत में इसका आगमन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     06-12-2018 12:54 PM


  • रोहिल्लाओं का द्वितीय युद्ध जिसमें हज़ारों सैनिकों ने गँवाई जान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     05-12-2018 11:12 AM


  • रज़ा लाइब्रेरी में मौजूद लखनऊ के ला मार्टिनियर से मिलती जुलती कला
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     04-12-2018 01:19 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.