सोशल मीडिया (Social Media) के सकारात्मक उपयोग

रामपुर

 01-05-2018 02:02 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

सोशल मीडिया आज के समाज का एक अभिन्न अंग बन चुका है। शायद ही कोई ऐसा युवा या अधेड़ उम्र का व्यक्ति होगा जिसे सोशल मीडिया के बारे में ज्ञात न हो। सोशल मीडिया में इस वक़्त फेसबुक एक ऐसा साधन है जिस पर सबसे ज्यादा लोग अपना समय व्यय करते हैं।आज आप में से कई प्रारंग के फेसबुक पेज के ज़रिये इस लेख को पढ़ रहे हैं। प्रारंग अब रामपुर शहर में 7000 से अधिक दैनिक पाठकों तक पहुँच रहा है और रामपुर के आस-पास के जिले क्षेत्र में लगभग 10,000 से अधिक दैनिक पाठको तक। हमने रामपुर डी.एम. के फेसबुक पेज का एक बड़ा उदय और सक्रिय उपयोग देखा है और यह नई पहल पहले से ही लगभग 5000 फेसबुक पेज उपयोगकर्ताओं तक पहुँच चुकी है तथा यह एक सही संकेत है। दुनिया भर के कई प्रगतिशील शहरों में स्थानीय सरकारें अपने नागरिकों तक पहुंचने और उनसे जुड़ने के लिए सक्रिय रूप से सोशल मीडिया का उपयोग कर रही हैं। स्थानीय सरकारेंसोशल मीडिया (विशेष रूप से फेसबुक) के उपयोग से नागरिकों तक लाभ पहुंचती है।

एक फेसबुक पेज स्थानीय सरकारों का प्रतिनिधित्व करने वाले नागरिकों के लिए एक मजबूत सामाजिक पकड़ बनाने में मदद कर सकता है। निश्चित रूप से, लोकतांत्रिक देशों में स्थानीय सरकारें पहले से ही सामाजिक हैं, क्योंकि वे विवादास्पद मुद्दों के आसपास सार्वजनिक सुनवाई की पेशकश करते हैं, या निवासियों को सर्वेक्षण भेजते हैं। लेकिन कितने लोग सुनवाई में आते हैं, या इन सर्वेक्षणों को भरने के लिए कोशिश करते हैं- खासकर छात्रों और कामकाजी उम्र के वयस्क जिनके पास कई अन्य ज़िम्मेदारियां हैं? किसी भी स्थानीय सरकारी नेता द्वारा लोगों की ज़रूरतों को समझने के लिए यह आवश्यक है कि वह अन्य विकल्पों को देखें।

फेसबुक स्थानीय सरकारों को कई चीजें प्रदान करता है जो कि मतदान के लिए आवेदन, लंबी चर्चा, वीडियो और तस्वीरें,और अन्य चीज़ों से सुनने का बेहतर साधन प्रदान करता है। फेसबुक किस प्रकार से समाज के अन्दर मददगार साबित हो सकता है और किस प्रकार से यह सरकार को लोगों तक पहुचने में मदद कर सकता है- पुलिस विभाग अपराध निवारण युक्तियों, एम्बर अलर्ट जैसे समय संवेदनशील जानकारी पोस्ट कर रहे हैं और क्षेत्र में वांछित अपराधियों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए सोशल मीडिया चैनलों का उपयोग कर रहे हैं। गंभीर मौसम और अन्य आपात स्थिति की चेतावनी आदि इस माध्यम से भेजी जा सकती है। सोशल मीडिया नगर पालिकाओं को प्रभावित क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुरक्षा सूचनाओं को पहुंचाने में मदद कर सकता है। बेशक, हर कोई सोशल मीडिया पर नहीं है, इसलिए आप अपने सभी आपातकालीन संचार के लिए इस पर भरोसा नहीं करना चाहते हैं, लेकिन कई समुदायों ने इसे अपनी संचार योजना का एक प्रमुख हिस्सा बना दिया है।

कई पार्क और मनोरंजन विभाग सामाजिक मीडिया का उपयोग आगामी गतिविधियों और वर्गों के समुदाय को याद दिलाने के लिए करते हैं। सोशल मीडिया पोस्ट के भीतर वे साइन अप करना आसान बनाकर भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था करते हैं।

सार्वजनिक बैठकों के लाइव या संग्रहीत वीडियो को पोस्ट कर नगर पालिका व अन्य सामाजिक सरकारी संस्थाएं नागरिकों को उपरोक्त विषय पहुचा सकती है।

लोक सेवा घोषणाएं (पी.एस.ए.) आपके समुदाय को प्रभावित करने वाले मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक प्रभावी तरीका है। सोशल मीडिया पर पी.एस.ए. के नगर उदाहरणों में विभिन्न विभागों से सामान्य स्वास्थ्य, सुरक्षा और वित्तीय सुझाव शामिल हैं। यूट्यूब वीडियो एक संदेश व्यक्त करने का एक तेज़ और आसान तरीका हो सकता है, लेकिन कैप्शन के साथ फेसबुक और ट्विटर पर पोस्ट की गई छवियाँ और विज्ञापन भी उतने ही प्रभावी हो सकते हैं।

सड़क निर्माण निराशाजनक हो सकता है, खासकर जब यह आपके दैनिक यातायात मार्ग को प्रभावित करता है। संभावित देरी या मार्गों से बचने के लिए अपडेट पोस्ट करने से नागरिकों की निराशा कम हो सकती है।

रोजगार सम्बंधित जानकारियाँ इन सोशल मीडिया साईट पर भेजी जा सकती हैं। यह नागरिकों को विभिन्न रोजगार की उपलब्धताओं के बारे में बताता है।

इस प्रकार से सोशल मीडिया और फेसबुक नागरिकों को कई सुविधाएँ मुहैया करवा सकता है तथा यह सरकार की कई योजनाओं के बारे में भी जनता को बताता है। रामपुर जिले से सम्बंधित जानकारियां इसी प्रकार से डीएम या सरकार के अन्य फेसबुक पेज से प्राप्त की जा सकती है यदि ये पेज नियमित रूप से चलाये जाएँ।

1.https://www.civicplus.com/blog/ce/seven-ways-local-government-can-use-social-media
2.http://www.adweek.com/digital/10-ways-facebook-pages-can-help-local-governments-better-serve-their-constituents/
3.https://blog.hootsuite.com/social-media-government/



RECENT POST

  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM


  • मिट्टी के बर्तनों से मिलती है, प्राचीन खाद्य पदार्थों की झलक
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:44 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id