Machine Translator

क्यों मानी जाती है कागज़ की सारस शान्ति का प्रतीक?

रामपुर

 09-08-2018 02:35 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

विश्व में लोगों द्वारा विभिन्न परंपराओं का अनुसरण किया जाता है। जापान में भी लोगों द्वारा एक अनोखी परंपरा को माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जापानी ओरिगामी (Origami: "ओरी" जिसका अर्थ है "मोड़ना" और "गामी" जिसका अर्थ है "काग़ज़") की कला 6ठी शताब्दी में शुरू हुई थी और कागज की उच्च लागत के कारण, ओरिगामी का इस्तेमाल केवल धार्मिक, औपचारिक उद्देश्यों के लिए किया जाता था। यहाँ पर सारस एक रहस्यमय पंछी है और माना जाता है कि यह एक हजार साल तक जीते हैं। नतीजतन, जापानी, चीनी और कोरियाई संस्कृति में, सारस एक अच्छे भाग्य और दीर्घायु का प्रतिनिधित्व करता है और साथ ही वे इसे ‘खुशी की चिड़िया’ के रूप में संदर्भित करते हैं। परंपरागत रूप से, यह माना जाता था कि यदि एक व्यक्ति कागज़ की 1000 ओरिगामी सारस को बना देता है, तो उसकी मनोकामना पूर्ण हो जाती है। इस प्रकार यह उम्‍मीद का एक प्रतीक बन गया।

लेकिन जब यह सिर्फ़ एक परंपरा है तो इसे शांति का प्रतीक क्यों माना जाता है? कागज़ की बनी सारस और शांति के बीच के संबंध को हिरोशिमा में परमाणु बम विस्फोट से पीड़ित लड़की ‘सदाको सासाकी’ की कहानी के माध्यम से बताया जा सकता है।

सदाको सासाकी केवल दो साल की थी जब 6 अगस्त, 1945 को उसके घर के सामने हिरोशिमा में अमेरिका द्वारा परमाणु बम गिरा दिया गया। धमाका इतना तेज़ था कि वह खिड़की से बाहर उड़ गयी। यद्यपि वह बम से बच गई, लेकिन 12 साल की उम्र में वह ल्यूकेमिया (Leukemia) की शिकार हो गयी। उसे उसके पिता द्वारा 1000 सारस की परंपरा का पता चला तो उसने कागज़ से 1000 सारस तैयार करने का फैसला किया, इस उम्मीद से कि उसकी जिंदगी जीने की इच्छा पूरी हो जाएगी। दुर्भाग्यवश, वह मरने से पहले केवल 644 सारसों को बनाने में सक्षम रही थी। उसके सहपाठियों ने उसके सम्मान में बाकी की सारस को बनाना जारी रखा और उसके सपनों का सम्मान करने के लिए उसे 1000 सारसों की पुष्पांजलि के साथ दफनाया गया। हिरोशिमा पीस पार्क (Hiroshima Peace Park) में सदाको की एक मूर्ति है, जिसमें वह अपने हाथों को फैलाये हुए खड़ी है। हर साल, कागज़ की बनी सारस की हज़ारों पुष्पांजलि उसकी मूर्ति पर चढ़ाई जाती हैं। तभी इसे शान्ति के प्रतीक के रूप में जाना जाता है तथा यह लोगों को अहिंसा का पालन करने के लिए प्रोत्‍साहित करता है।

प्रस्तुत वीडियो में कागज़ से सारस बनाने की प्रक्रिया को बखूबी दर्शाया गया है। परन्तु यह सारस बनाकर आप करेंगे क्या? जैसा कि हमने आपको बताया कि हर वर्ष कई हजारों की मात्रा में कागज़ की सारस हिरोशिमा के पीस पार्क में अर्पित होती हैं, ये सारस या तो व्यक्ति स्वयं रखकर जाते हैं या फिर इन्हें डाक के ज़रिये भी भेजा जा सकता है। विश्व शान्ति आन्दोलन में अपना सहयोग दिखाने का यह एक बहुत ही सुन्दर तरीका है। अपनी सारस पहुँचाने के लिए इस लिंक पर दिए गए फॉर्म को भरें- http://www.city.hiroshima.lg.jp/shimin/heiwa/registerform_e.pdf। सारस भेजने का पता निम्न है:

Peace Promotion Division
The City of Hiroshima
1-5 Nakajima-cho Naka-ku,
Hiroshima 730-0811 Japan

वीडियो पर क्लिक करें और आज ही एक सारस बनाएं: 


संदर्भ:
1.https://www.telegraph.co.uk/news/worldnews/asia/japan/10323614/Crane-made-by-Hiroshima-girl-who-died-of-cancer-given-to-US-museum.html
2.http://www.city.hiroshima.lg.jp/shimin/heiwa/crane.html



RECENT POST

  • रामपुर में स्थित है भारत का पहला लेज़र नक्षत्र-भवन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-08-2019 02:23 PM


  • दु:खद अवस्था में है, रामपुर की सौलत पब्लिक लाइब्रेरी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-08-2019 03:40 PM


  • क्यों कहा जाता है बेल पत्थर को बिल्व
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:37 PM


  • देश में साल दर साल बढ़ती स्‍वास्‍थ्‍य चिकित्सा लागत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • क्या होता है, सकल घरेलू उत्पाद (GDP)
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • कैसे पड़ा हिन्‍द महासागर का नाम भारत के नाम पर?
    समुद्र

     17-08-2019 01:54 PM


  • रामपुर नवाब के उत्तराधिकारी चुनाव का संघर्ष चला 47 साल तक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:47 PM


  • अगस्त 1942 को गोवालिया टैंक मैदान में ध्वजारोहण के बाद की अनदेखी छवियाँ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:16 AM


  • सहयोग व रक्षा का प्रतीक हैं पर्यावरण अनुकूलित हस्तनिर्मित राखियां
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-08-2019 02:41 PM


  • रामपुर पर आधारित भावनात्मक इतिहास लेखन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-08-2019 12:44 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.